scriptFear of cross voting for both BJP and Congress in Gwalior | सभापति बनाना प्राथमिकता- कांग्रेस बाद में करेगी भितरघातियों पर कार्रवाई | Patrika News

सभापति बनाना प्राथमिकता- कांग्रेस बाद में करेगी भितरघातियों पर कार्रवाई

- कांग्रेस ने अपने 28 पार्षदों को बुलाया लेकिन सिर्फ 18 ही पहुंचे समारोह में
- भाजपा व कांग्रेस दोनों को क्रॉस वोटिंग का डर कांग्रेस के पार्षद सम्मान समारोह से कई गायब
- भाजपा भी रखे है अपने पार्षदों पर नजर

ग्वालियर

Published: July 23, 2022 03:51:57 pm

ग्वालियर। कांग्रेस पार्टी का महापौर बनने के बाद अब सबसे बड़ी चुनौती कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के सामने अपना सभापति बनाने की है। इसको लेकर दोनों ही पार्टियां पूरे जोर शोर के साथ अंदरूनी तौर पर वोट जुटाने में लगी है। कांग्रेस का कहना है कि पहले सबसे बड़ी चुनौती सभापति कांग्रेस का बनाना है, उसके बाद भितरघातियों पर निर्णय लेंगे।

gwalior_nagar_nigam_chairman_selection_2.jpg

इधर भाजपा का कहना है कि हमारे पास पर्याप्त बहुमत है, सभापति तो भाजपा का ही बनेगा। हालांकि दोनों ही दल क्रॉस वोटिंग से डरे हुए हैं। शुक्रवार को कांग्रेस ने पार्षदों का सम्मान समारोह किया उसमें कई नवनिर्वाचित पार्षद नहीं आए। इसके बाद से उसमें सभापति चुनाव में अपने पार्षदों के हाथ से निकलने की आशंका गहरा गई है। वहीं भाजपा अपने यहां की गुटबाजी और अंसतोष को देखते हुए पार्षदों के पाला बदलने की संभावना को टालने की कोशिशों में जुट गई है। अब दोनों दल एक-दूसरे के असंतुष्टों व निर्दलीय पार्षदों को अपने पक्ष में करने में जुट गए हैं।

भाजपा में जिलाध्यक्ष और कई नेताओं के खिलाफ पार्टी के अंदर काफी विरोध है, इसलिए कुछ पार्षद क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं, ऐसे पार्षदों पर भाजपा की नजर है। कांग्रेस के कुछ पार्षद और कुछ निर्दलीय पार्षदों से भी भाजपा सम्पर्क में हैं। हालांकि भाजपा के पास 34 पार्षद है और वह बहुमत के आधार पर पूरे हैं, यदि कुछ पार्षद इधर से उधर हो गए तो परेशानी खड़ी हो जाएगी।

विरोध करने पर अभी कार्रवाई नहीं
भाजपा की हार के बाद सोशल मीडिया पर पार्टी के विरोध में पोस्ट करने के बाद कार्यकर्ताओं के खिलाफ पार्टी ने कार्यवाही की तैयारी कर ली है उनके स्क्रीन शॉट को भोपाल भेज दिया है, लेकिन वरिष्ठ संगठन अब तक उनके खिलाफ कोई निर्णय नहीं ले पाया है। जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी का कहना है पार्टी की छवि खराब करने को बख्शा नहीं जाएगा, जल्द ही निर्णय लिया जाएगा।

शहर जिला कांग्रेस पार्टी ने शुक्रवार को कांग्रेस कार्यालय पर नवनिर्वाचित पार्षदों को सम्मानित किया। कांग्रेस ने 28 पार्षदों को आमंत्रित किया था, लेकिन सिर्फ 18 पार्षदों ने ही अपनी उपस्थित दर्ज कराई। सम्मान के नाम पर पार्षदों को माला पहनाकर और एक लड्डू खिलाकर खानापूति कर ली गई। कार्यक्रम में महापौर डॉ. शोभा सिकरवार भी उपस्थित नहीं थी, जबकि कार्यक्रम खत्म होने के बाद विधायक डॉ. सतीश सिंह सिकरवार पहुंचे। शुक्रवार शाम 4 बजे शहर जिला कांग्रेस कमेटी ने पार्षदों को सम्मानित करने का कार्यक्रम रखा था। निर्धारित समय तक सिर्फ गिने-चुने ही पार्षद पहुंचे। शाम 4.30 बजे कार्यक्रम शुरू हुआ और सीधे पार्षदों को सम्मानित करना शुरू कर दिया। 28 में से उपस्थित सिर्फ 19 पार्षदों को जिलाध्यक्ष ने माला और एक लड्डू खिलाकर सम्मानित किया।

हेवरन सिंह कंसाना की पत्नी उपस्थित नहीं हुई तो उनके पति का ही स्वागत कर दिया। हालांकि कार्यक्रम खत्म होने के बाद कुछ पार्षद पहुंचे उनका जिलाध्यक्ष ने अपने कमरे में स्वागत किया। हालांकि उनके लिए मिठाई भी कम पड़ गई फिर से मिठाई मंगाकर उनका मुंह मीठा कराया।

जिलाध्यक्ष ने कहा, 57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस का महापौर बना है। अब हम सब की जिम्मेदारी है कि ग्वालियर को विकास की मुख्य धारा से जोड़े, क्योंकि जनता ने हम पर विश्वास किया है। उन्होंने कहा, कांग्रेस के पार्षदों का यह प्रथम दायित्व है कि अपने-अपने वार्डों में चहुंमुखी विकास के लिए दिन-रात परिश्रम के साथ ग्वालियर को विकास की बुलंदियों पर पहुंचाएं। कार्यक्रम का संचालन महाराज सिंह पटेल ने और आभार सेवादल अध्यक्ष हरेन्द्र सिंह गुर्जर ने किया। इस अवसर पर राजेन्द्र नाती, शकील खान आदि उपस्थित थे।

विधायक सिकरवार पर ही सारा दारोमदार
कांग्रेस का सभापति बनाने के लिए पूरा दारोमदार विधायक डॉ. सतीश सिकरवार के पर है। वे पार्षदों को अपने पक्ष में करने के लिए पूरी तैयारी के साथ जुटे हुए हैं। विधायक पहले भाजपा में रह चुके हैं, इसलिए उनको इसका फायदा मिल सकता है। पहले सभी निर्दलीय पार्षदों को अपने पक्ष में करने के साथ ही कुछ भाजपा पार्षदों से भी अंदरूनी चर्चा चल रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

कैबिनेट विस्तार के बाद पहली बार नीतीश कैबिनेट की बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहरभाजपा विधायक केपी त्रिपाठी के समर्थकों की गुंडागर्दी, सीईओ को पीटकर कचरे के ढेर में फेंकाDelhi: भारत को अमीर देश बनाने के लिए हर भारतवासी को अमीर बनाना पड़ेगा - अरविंद केजरीवालमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तारभूस्खलन से हिमाचल में 100 से अधिक सड़कें ठप, चार दिन भारी बारिश का अलर्टबिहारः मंत्रियों में विभागों का बंटवारा, गृह मंत्रालय नीतीश के पास, तेजस्वी के पास 4 विभाग, तेज प्रताप का घटा कद, देखें Listजिम्बाब्वे दौरे के लिए केएल राहुल को कप्तान बनाए जाने पर पहली बार शिखर धवन ने दी अपनी प्रतिक्रियाVideo मध्यप्रदेश में बाढ़ के हालात, सात जिलों में राहत-बचाव का काम शुरू, लोगों को घरों से निकाला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.