बैंक को 63.50 लाख का चूना लगाने वाले बैंक मैनेजर सहित 14 पर एफआईआर

बैंक को 63.50 लाख का चूना लगाने वाले बैंक मैनेजर सहित 14 पर एफआईआर

Rizwan Khan | Updated: 12 Jun 2019, 05:43:03 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) ने पंजाब नेशनल बैंक के साथ 63.50 लाख की धोखाधड़ी करने के मामले में बैंक के तत्कालीन शाखा प्रबंधक

ग्वालियर. राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) ने पंजाब नेशनल बैंक के साथ 63.50 लाख की धोखाधड़ी करने के मामले में बैंक के तत्कालीन शाखा प्रबंधक एके भट्ट, बैंक अधिकारी विष्णु कुमार चांदिल तथा 13 अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
एसपी ईओडब्ल्यू रघुवंश सिंह के अनुसार सभी आरोपीगण के खिलाफ की गई जांच में सभी के खिलाफ प्रथम दृष्टया मामला पाए जाने पर भादसं की धारा 409, 420, 467, 468, 471, 120बी तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की अलग-अलग धाराओं में यह मामले दर्ज किए गए हैं। जिनके खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं उनमें हितग्राही लक्ष्मण सिंह रावत, शिव सिंह बघेल, कालीचरण रावत, पन्नालाल बघेल, राम सिंह, हुकुम सिंह, गुलाब सिंह, सोनेराम सिंह, भीकम सिंह, बलवंत सिंह, बीरबल सिंह, दुर्गाप्रसाद तथा नेक सिंह व अन्य शामिल हैं।
ईओडब्ल्यू मुख्यालय भोपाल को मंडल प्रमुख पंजाब नेशनल बैंक के मण्डल प्रमुख एसके जुत्थी ने शिकायत की थी कि जिसमें तत्कालीन शाखा प्रबंधक एके भट्ट, बैंक अधिकारी विष्णु कुमार चांदिल पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक की डबरा शाखा में क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 11 खातों में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर खाता खोलकर ऋण प्राप्त कर लिया। इस प्रकार सभी आरोपीगण ने बैंक को 63 लाख 50 हजार का नुकसान पहुंचाया। एसपी रघुवंश सिंह के निर्देशन में इंस्पेक्टर अजय कुमार शर्मा ने इस मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट पेश की। रिपोर्ट में पाया गया कि आरोपी 13 लोगों ने बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत लोन मंजूर कराए जाने के लिए आवेदन पेश किए। जिसमें आरोपियों ने जमीन को बंधक रखने के लिए फर्जी भू स्वत्व संबंधी ऋण पुस्तिका, खसरा की नकलें, अपनी पहचान के लिए वोटर आईडी कार्ड, राशन कार्ड आदि दस्तावेज बैंक में प्रस्तुत किए। जिस जमीन को बंधक रखना कहा गया उस जमीन की फर्जी सर्च रिपोर्ट अधिवक्ता पुष्पेन्द्र कुमार अग्रवाल से प्राप्त होना बताकर बैंक में जमा की गई। पंजाब नेशनल बैंक शाखा डबरा के तत्कालीन बैंक अधिकारी वीके चांदिल की अनुशंसा पर अजय कुमार भट्ट तत्कालीन शाखा प्रबंधक ने उक्त दस्तावेजों के आधार पर 13 ऋणियों को कुल 63 लाख 50 हजार रुपए के किसान क्रेडिट कार्ड लोन प्रकरण अवैध तरीके से नियम विरुद्ध स्वीकृत किए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned