सफाईकर्मी की मौत परिजन की जिद दरोगा पर हो एफआइआर

नौकरी ज्वाइंन नहीं कराने से परेशान था कर्मचारी
पत्नी से दो दिन पहले बोला था सुसाइड कर लुंगा

By: Puneet Shriwastav

Published: 20 Oct 2020, 10:59 PM IST

ग्वालियर। नगरनिगम के सफाई कर्मचारी जितेन्द्र पारचे ३६ के फांसी लगाकर सुसाइड में परिवार नगरनिगम के सफाई दरोगा को जिममेदार मान रहा है।

मंगलवार को जितेन्द्र के परिजन और समर्थकों ने ग्वालियर थाने पहुंचकर पुलिस से कहा सफाई दरोगा पर एफआइआर करो उसकी प्रताडना से ही जितेन्द्र ने सुसाइड किया है। करीब एक घंटे तक परिजन थाने पर मौजूद रहे। कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है।
दिनेश पारचे निवासी नौमहला, घासमंडी ने बताया चचेरे भाई जितेन्द्र पुत्र नारायण पारचे ने सोमवार दोपहर को घर में फांसी लगाई थी। जितेन्द्र जोन 6 के फूलबाग पर वार्ड 31 मे सफाई कर्मचारी था। कुछ समय पहले वहां काम के दौरान उसकी सफाई दरोगा अशोक खरे से कहासुनी हुई थी।

दिनेश के मुताबिक अशोक ने दरोगा होने की ठसक में जितेन्द्र को चांटा मारा फिर थाने जाकर उसके खिलाफ एफआइआर कराई। इससे जितेन्द्र परेशान था। अब अशोक ने उसे प्रताडित करने के लिए नया पैंतरा खेला था। वह जितेन्द्र को नौकरी पर नहीं आने दे रहा था। इससे जितेन्द्र परेशान था।
पत्नी से बोला सुसाइड करूंगा
दिनेश के मुताबिक दरोगा की मनमानी से जितेन्द्र का परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है। उसकी पत्नी और दो बच्चे हैं। लेकिन नौकरी नहीं होने के कारण उनकी गुजर बसर की दिक्कत हो गई थी।

दो दिन से दिनेश पत्नी नीतू से कहा रहा था हालात उससे देखे नहीं जा रहे हैं। उसे चिंता है कि बच्चों का पेट कैसे पालेगा। हालात यही रहे तो सुसाइड करना पडेगा। उसकी बातों से परिजन को खुटका था कि वह आत्महत्या कर सकता है। सोमवार को उसने फांसी लगाई।
पुलिस से कहा दरोगा पर एफआइआर करो
ं्रसीएसपी नागेन्द्र सिंह सिकरवार ने बताया मंगलवार को परिजन जितेन्द्र का शव लेकर ही ग्वालियर थाने पहुंच गए। उनकी शिकायत पर निगम दरोगा अशोक खरे पर धारा 306 के तहत केस दर्ज किया है।

Puneet Shriwastav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned