FOOD LICENSE : लाइसेंस बनाने के साथ-साथ रिन्युअल भी नहीं कर पा रहा खाद्य विभाग

FOOD LICENSE : लाइसेंस बनाने के साथ-साथ रिन्युअल भी नहीं कर पा रहा खाद्य विभाग

 

By: Gaurav Sen

Published: 18 Dec 2018, 01:07 PM IST

ग्वालियर। करीब पांच माह से कारोबारियों के फूड लाइसेंस नहीं बनने और रिन्युअल नहीं होने से उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। फूड लाइसेंस नहीं होने के कारण कई कारोबारियों को माल वापस तक लौटाना पड़ रहा है। लाइसेंस बनाने में देरी होने के पीछे का कारण खाद्य विभाग के आला अधिकारी स्टाफ की कमी होना बता रहे हैं। इसके साथ ही उनका कहना है कि चुनाव के कारण भी काम नहीं हो पाया। यहां बता दें कि फूड विभाग की ओर से कारोबारियों का पंजीयन अब ऑनलाइन ही किया जाता है, बावजूद इसके उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

ये आ रही दिक्कतें
फूड लाइसेंस नहीं होने के कारण व्यापारियों को सबसे बड़ी परेशानी उस समय आ रही है, जब कहीं से माल मंगाया हो और जिससे माल मंगाया है उसे फूड लाइसेंस नहीं दिखाया जाता है तो उसकी ओर से माल की डिलीवरी नहीं की जाती। व्यापारियों के पास रिन्युअल या फिर फूड लाइसेंस नहीं होने के कारण वे उसे दे ही नहीं पाते हैं। इसके साथ ही लाइसेंस नहीं होने पर व्यापारियों को ये डर भी बना रहता है कि खाद्य विभाग की टीम कार्रवाई न कर दे।

खौफनाक: GF से हुई लड़ाई, पटरियों पर पहुंचा BF, दोस्तों के सामने हो गए टुकड़े-टुकड़े

शहर में ये स्थिति

  • कुल लाइसेंसधारी 1300
  • कुल पंजीयनधारी 800

नई सरकार से आस: अंचल के किसानों को होगा फायदा! किसानों का 2500 करोड़ होगा माफ!

कारोबारी मिले थे सीएमएचओ से
लंबे समय से फूड लाइसेंस नहीं बनने के चलते गत शनिवार को दाल बाजार के कारोबारी सीएमएचओ मृदुल सक्सेना से भी मिले थे। उनसे मिलकर इस समस्या के बारे में कारोबारियों ने बताया था।

लेनदेन के बिना नहीं होता काम
सूत्रों के मुताबिक लाइसेंस का रिन्युअल और उसे बनवाने में भी लेनदेन जरूरी है। इसके चलते इस काम में देरी की जाती है। इसके लिए कारोबारी की हैसियत के हिसाब से लेनदेन किया जाता है। यहां तक कि इस काम में अब एजेंट का भी उपयोग होने लगा है।

काम करना हो रहा मुश्किल
पिछले पांच महीने से दाल बाजार के व्यापारी फूड लाइसेंस के लिए परेशान हो रहे हैं। इसके लिए दो बार सीएमएचओ से भी मिल चुके हैं। लाइसेंस नहीं होने के कारण काम करना मुश्किल हो रहा है।
गोकुल बंसल, अध्यक्ष, दाल बाजार व्यापार समिति

स्टाफ की कमी के चलते हो रही देरी
ऐसा नहीं है कि लाइसेंस नहीं बन रहे हैं। स्टाफ की कमी और अभी चुनाव के चलते काम थोड़ा देरी से हो रहा है। स्थायी दुकानदारों ने लाइसेंस बनवा रखे हैं पर अभी हॉकर ने इन्हें नहीं बनवाया है।
रवि शिवहरे, खाद्य सुरक्षा अधिकारी

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned