नर्सरी से 12वीं तक होंगे चार क्लस्टर-विज्ञान या गणित के साथ पसंद का आर्ट विषय चुन सकेंगे छात्र

स्कूल नीति में क्या बदलाव होना चाहिए, इसके लिए देशभर से सुझाव मांगे थे। करीब 2.50 लाख सुझाव आए। इनमें जो बेहतर सुझाव मिले उन्हें शिक्षा नीति में शामिल किया जा रहा है

ग्वालियर। केंद्रीय मानव संसाधन विकास और सूचना तकनीकी राज्यमंत्री संजय धोत्रे ने नई स्कूल शिक्षा नीति में कई बदलाव के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा कि स्कूली शिक्षा को मूल्य और रोजगार आधारित बनाया जाएगा। शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए नर्सरी से 12वीं क्लास तक चार क्लस्टर बनाएं जाएंगे। छात्र विज्ञान या गणित के साथ पंसद का आर्ट विषय भी चुन सकेंगे।

शुक्रवार को यहां उन्होंने पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि स्कूल नीति में क्या बदलाव होना चाहिए, इसके लिए देशभर से सुझाव मांगे थे। करीब 2.50 लाख सुझाव आए। इनमें जो बेहतर सुझाव मिले उन्हें शिक्षा नीति में शामिल किया जा रहा है। स्कूल शिक्षा को चार क्लस्टर प्री-नर्सरी, प्रायमरी, एलिमेंटरी और हायर सेंकडरी में बांटा जाएगा। कलस्टर में छात्रों के विकास को देखकर हर क्लास में विषय शामिल किए जाएंगे।

इन क्लस्टर का उद्देश्य निचले स्तर से ही शिक्षा की नींव मजबूत करना है। उन्होंने कहा, अभी तक जैविक विज्ञान लेने वाले छात्र चिकित्सीय क्षेत्र में ही जाते हैं, यदि वह इस विषय के साथ दूसरे किसी विषय को चुनेंगे तो वह मेडिकल के साथ इस डिग्री के सहारे दूसरे क्षेत्र में भी जा सकेंगे।

स्कूल पाठ्यक्रम में शामिल करेंगे खेल
राज्य मंत्री धोत्रे ने स्वीकार किया कि एजुकेशन में स्कूल स्पोट्र्स सिर्फ प्रतीकात्मक रूप से ही जुड़ा है। देशभर से प्रत्येक स्कूल में स्पोट्र्स ग्रांउड नहीं है, इसलिए बच्चों को प्रैक्टिकल नॉलेज नहीं मिल पाती है। सरकारी स्कूल का स्तर भी बेहतर नहीं है, कहीं बिल्डिंग नहीं है तो कहीं खेलने के लिए मैदान नहीं है। इसलिए स्पोट्र्स को बढ़ावा नहीं मिल पा रहा है। खेलों को बढ़ावा देने के लिए जल्द स्कूल पाठ्यक्रम में खेलों को शामिल किया जाएगा।

18 माह में पूरे देशमें 4जी
धोत्रे ने कहा कि बीएसएनएल रिवाइवल पैकेज मिला है, जिससे सुधार हो रहा है। 7.50 हजार बीटीएस से 4जी सेवा शुरू करने जा रहे हैं। 18 महीने में पूरे देश में बीएसएनएल की 4जी सेवा शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने बताया, चेन्नई में 5जी पर काम चल रहा है। वहीं चीन से आयात उपकरणों पर उन्होंने कहा, शुरुआती दौर की बात अलग थी, अब हालात बदल गए हैं। अब कई उपकरण भारतीय कंपनियां ही बना रही हैं।


टेबल-टेनिस खेलकर कहा-सुविधाएं बहुत बेहतर
ग्वालियर। ग्वालियर प्रवास पर आए केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री संजय धोत्रे ने शुक्रवार को लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षण संस्थान (एलएनआइपीई) में कैंपस का निरीक्षण किया। फुटबॉल, हॉकी, जिम्नेजियम हॉल, बास्केट बॉल कोर्ट, जिम, स्विमिंग पूल का निरीक्षण किया और छात्रों से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने टेबल टेनिस भी खेला। उन्होंने कहा, एलएनआइपीई का वातावरण बहुत अच्छा है और खेलों की सुविधाएं बहुत बेहतर हैं। उन्होंने रानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। करीब एक घंटे निरीक्षण करने के बाद मंत्री ऑडिटोरियम में स्कूल पाठ्यक्रम में खेल एवं शारीरिक शिक्षा की भूमिका पर आयोजित संगोष्ठी में शामिल हुए। प्रो.जीडी घई ने प्रजेंटशन के माध्यम से स्कूल शिक्षा में खेल की भूमिका को बताया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा, कुलसचिव जनक सिंह, डीन एकेडमिक एसएस मुखर्जी और कार्डिनेटर यजुवेन्द्र सिंह राजपूत उपस्थित थे।

Rahul rai Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned