scriptFraud business from Facebook, Instagram, WhatsApp's phishing site | फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाटसएप की फिशिंग साइट से ठगी का कारोबार | Patrika News

फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाटसएप की फिशिंग साइट से ठगी का कारोबार

ऑनलाइन बैंक खातों के जरिए फर्जी खाते खोल रहे ठग
सोशल मीडिया की फर्जी साइटस को असली समझ रहे लोग

ग्वालियर

Published: January 05, 2022 07:26:50 pm

ग्वालियर। साइबर अपराधी, लोगों को ठगने के लिए हर दिन नए पैंतरे अपना रहे हैं। ठगों ने व्हाटसएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम सहित उन सोशल साइटस को जरिया बनाया है जिनके लोग आदी हो चुके हैं। जालसाज इन सोशल साइटस की फिशिंग साइटस बनाकर लोगों को झांसे में लेकर उनके खातों को खाली कर रहे हैं। ऐसी साइट के करीब ३९ हजार से ज्यादा फर्जी लॉगिन पेजों को लोगों से ठगी करने में खोजा जा चुका है। ठगों के लिए बैंक में ऑनलाइन खाता खोलना भी फायदे का सौदा साबित हो रहा है।
Thugs opening fake accounts through online bank accounts
फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाटसएप की फिशिंग साइट से ठगी का कारोबार
साइबर क्राइम की विवेचनाओं में सामने आया है कि लोगों के खातों से ऑनलाइन ठगी करने वाले फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाटसएप सहित इन सोशल साइटस के मैसेंजर की तरह दिखने वाली फिशिंग बेवसाइटों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
सोशल मीडिया के शौकीन इन साइटस को असली समझ कर उन्हें लॉगिन कर उन पर पर्सनल डिटेल, पासवर्ड , इमेल आइडी शेयर करते हैं तो ठगों को उनके खाते खाली करने का जरिया मिलता है। स्टेट साइबर सेल के अधिकारी कहते हैं सोशल मीडिया में इन दिनों इंस्टाग्राम और व्हाटसएप सबसे ज्यादा इस्तेमाल हो रहा है। लेकिन इन्हें इस्तेमाल करने वालों को पता होना चाहिए। इन सोशल साइटस की फिशिंग बेवसाइट बिल्कुल असली की तरह दिखती है। यहीं लोग झांसा खाते हैं।
फर्जी दस्तावेजों से ठग खोलते फर्जी खाते
साइबर ठग चोरी का पैसा कई बैंक खातों में ट््रांसफर करते हैं। स्टेट साइबर सेल की ग्वालियर विंग ने जामतारा का ठग मोहित मंडल पकड़ा है। उसने ग्वालियर में रहने वाली महिला काउंसलर के खाते से ३.५ लाख की ठगी थी। ठग ने सिम अपग्रेड करने का झांसा देकर उन्हें ठगा है। ठग मोहित ने खुलासा किया उसने ठगा गया पैसा उत्तराखण्ड, मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों के बैंक खातों में ट््रांसफर किया था।
यह खाते उन लोगों के नाम से खुलवाए हैं जिन्हें न तो वह जानता है। न खाता धारकों का उससे कोई लेना देना है। इनमें एक तो रिटायर्ड सरकारी अधिकारी हैं। उसकी तरह ठगी करने वाले अनजान लोगों के आधार और पैन कार्ड हासिल करते हैं। बैंक इन दिनों ऑनलाइन खाता खोल रही है। उनमें सिर्फ डिटेल के साथ आईडी फ्रूफ के लिए दस्तावेज लगाना पड़ता है। बैंक सिर्फ दस्तावेज वेरीफाई करते हैं। इसलिए फर्जी नाम से खाता खुलवाना आसान है। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर देश में किसी भी बैंक में कहीं भी खाते खुल सकते हैं।
इनका कहना है
सोशल साइटस की फिशिंग बेवसाइट ठगी का अहम जरिया है। इससे बचने के लिए किसी भी साइट पर बिना सोचे समझ डिटेल शेयर नहीं करना चाहिए। क्योंकि पर्सनल डिटेल शेयर करने पर ठग इसके जरिए इस्तेमाल करने वाले के बैंक खातों तक पहुंचते हैं।
सुधीर अग्रवाल एसपी साइबर सेल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.