घर से लेकर गार्डन और नर्सरी तक महक रही

मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पर जावें वीर अनेक। पुष्प की अभिलाषा में कवि माखनलाल चतुर्वेदी ने अपने जरिए फूलों के दिल की बात कह दी।

By: Harish kushwah

Published: 07 Jan 2019, 07:24 PM IST

ग्वालियर. मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पर जावें वीर अनेक। पुष्प की अभिलाषा में कवि माखनलाल चतुर्वेदी ने अपने जरिए फूलों के दिल की बात कह दी। वैसे फूलों का कोई एक मौसम तो नहीं होता, ये जरूर है कि कुछ सीजन किसी खास फूल के लिए मुफीद होते हैं। विंटर सीजन में हर जगह फूल नजर आ रहे हैं। ज्यादातर घरों के मिनी गार्डन में फूलों का राजा गुलाब इठला रहा है तो कहीं शो पत्तियां भी अट्रेक्ट कर रही हैं। वैसे नर्सरी में इन दिनों सीजनल फूलों की बहार है। इसमें पोंसिटिया के साथ कलिंग पोंग और सेक्युलेंट की खूबसूरती देखते बन रही है। विंटर सीजन गार्डनिंग का समय रहता है। इसमें लगाए गए पौधे जल्दी पकड़ बनाते हैं। ग्वालियराइट्स भी इस समय घरों में मिनी गार्डन से गर की शोभा बढ़ा रहे हैं। इससे वातावरण भी सही रहता है।

नर्सरी लगाएं तो इन बातों का रखें ध्यान : नर्सरी एक्सपर्ट ने बताया कि पौधे लगाने के तुरंत बाद पानी देना चाहिए। सर्दियों में सिंचाई का अंतर 4-7 दिन रखा जाता है।

समय-समय पर खुरपी की मदद से निराई-गुड़ाई कर के खरपतवार निकालते रहना चाहिए। ज्यादा फूल उत्पादन के लिए पौधों को तरल खाद देना जरूरी होता है। पूरी तरह खुली और भरपूर हवा व रोशनी वाली जगह नर्सरी बनाने के लिए अच्छी रहती है। नर्सरी के अंदर 4-6 इंच उठी हुई क्यारियां बनाई जाती हैं ताकि बेकार पानी बाहर निकल सके और नर्सरी के छोटे-छोटे पौधे खराब न हो सकें।

खरपतवारों से ऐसे बचाएं : नर्सरी में समय- समय पर खरपतवार निकालते रहना चाहिए। पौधों को अधिक मजबूत बनाने के लिए जब वे छोटे होते हैं तो उन्हें दूसरी क्यारियों में लगाना चाहिए। पौधों को लगाने से पहले स्थायी क्यारियों को गोबर की खाद वगैरह डाल कर ठीक तरह से तैयार कर लेना चाहिए। पौधों को उन की ऊंचाई के हिसाब से लगाना चाहिए। पहले लंबे पौधों को, फिर मध्यम और बाद में छोटे पौधों को लगाना चाहिए।

Harish kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned