बचकर चलिए... शहर में बिजली पोल से गिरती हैं चिंगारियां

आप ट्रांसफार्मरों के पास से निकल रहे हैं तो जरा संभल कर निकलिए क्यों कि ट्रांसफार्मरों के बिजली के पोल से कभी भी चिंगारियां गिर पकड़ती हैं। इन पोलों से बिजली के तार टकराने से ऐसा होता है।

ग्वालियर. शहर में अगर आप ट्रांसफार्मरों के पास से निकल रहे हैं तो जरा संभल कर निकलिए क्यों कि ट्रांसफार्मरों के बिजली के पोल से कभी भी चिंगारियां गिर पकड़ती हैं। इन पोलों से बिजली के तार टकराने से ऐसा होता है। आए दिन चिंगारियां निकलने के बाद भी बिजली अफसर अनजान बने हुए हैं। इनकी जानकारी क्षेत्रीय लोगों द्वारा कई बार बिजली कर्मियों को दी गई फिर भी सुधार करने में वे रुचि नहीं दिखाते हैं।
बीते दिनों शहर में प्री मानसून मेंटेनेंस चला। इस दौरान बिजली कर्मियों ने लाइनों, ट्रांसफार्मरों और फीडरों पर सुधार कार्य किया। इसके लिए उन्होंने घंटों बिजली बंद की। इसके बाद भी बिजली ट्रांसफार्मरों को सुरक्षित नहीं किया। इन ट्रांसफार्मरों के अर्थिंग वायर, फ्यूज आदि के तार आपस में उलझे हैं। इन तारों को सुरक्षित न किए जाने की वजह से वे बिजली पोल से टकराते हैं। इस वजह से इन पोलों पर चौैबीस घंटे बल्ब जैसा उजाला आसानी देखा जा सकता है। जब यह तार हवा से हिलते हैं तो उनसे चिंगारियां निकलने लगती हैं। ऐसे पोलों में करंट आने का डर बना रहता है।
करंट फैलने का डर : बीते महीनों में बारिश के दौरान बिजली पोल में करंट आने से गायों की मौत हो गई थी। वहीं नाका चंद्रवदनी पर एक बालक भी बारिश के दौरान पोल चिपककर झुलस गया था। जिन बिजली पोलों पर करंट के तार आपस में उलझे हैं। उनमें सुधार किए जाने की जरूरत है। बिजली कर्मी और बिजली अफसर ऐसे पोलों को लेकर लापरवाह बने हुए है।

ट्रांसफार्मर बने खतरनाक
शहर में बिजली के ट्रांसफार्मर ज्यादा खतरनाक बने हुए है। इनके आस पास तारों का जाल होता है। इन ट्रांसफार्मरों पर फ्यूज को खुले में जोड़ा जाता है जोकि बारिशके कारण गीले हो जाते है और करंट फैलने का डर बना रहता है। एक जागरूक उपभोक्ता ने ऐसे ही ट्रांसफार्मरों के फोटो शेयर किए हैं। जोकि संवेदनशील है जिनमें करंट आने का भय लोगों को सताता है।
सूचना आने पर कराया जाता है उसमें सुधार
- ट्रांसफार्मरों के आस-पास जाली लगाकर सुरक्षित कराए जाने का काम किया जा रहा है। यदि किसी पोल या ट्रांसफार्मर से ऐसी कोई सूचना आती है तो उसमें सुधार कराया जाता है।
राजीव गुप्ता, महाप्रबंधक, शहरीवृत्त, मक्षेविविकंलि

Show More
राजेश श्रीवास्तव Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned