अच्छी खबर... दिव्यांग की पहल पर कृत्रिम अंगों का स्टोर खुलेगा ग्वालियर में

जिले के अस्थि बाधित, दृष्टिबाधित या फिर अन्य किसी शारीरिक अक्षमता का शिकार दिव्यांगों को सहायक उपकरणों में खराबी होने पर परेशान नहीं होना पड़ेगा...

ग्वालियर. जिले के अस्थि बाधित, दृष्टिबाधित या फिर अन्य किसी शारीरिक अक्षमता का शिकार दिव्यांगों को सहायक उपकरणों में खराबी होने पर परेशान नहीं होना पड़ेगा। दिव्यांगों की सहायता के लिए शहर में ही एलिम्को का स्टोर खोला जाएगा। स्टोर खुलने के बाद उपकरण खराब होने पर परेशान होने वाले दिव्यांगों को कानपुर नहीं जाना पड़ेगा। जिले के एक दिव्यांग को प्रशिक्षण के बाद स्टोर खोलने का मौका मिलेगा। इसके साथ ही पौने तीन लाख रुपए का सॉफ्ट लोन उपलब्ध कराने में सामाजिक न्याय विभाग चयनित दिव्यांग की मदद करेगा। दिव्यांग उपकरण स्टोर के जरिये दूसरे युवा दिव्यांगों को रोजगार भी मुहैया कराया जाएगा।

यह हुआ अब तक
- स्टोर स्थापित करने के लिए अभी पांच दिव्यांगों ने आवेदन किए हैं।
- आइटीआइ पास या फिर साइंस ग्रुप के साथ हायर सेकंडरी उत्तीर्ण को वरीयता दी जाएगी।
- चयन के बाद दिव्यांग स्टोर के लिए 35 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी।
- प्रशिक्षण के दौरान 2 हजार रुपए स्टायफंड भी दिया जाएगा।
- प्रशिक्षण के बाद चयनित दिव्यांग को 2.75 लाख रु. का सॉफ्ट लोन मिलेगा।

अभी इतना लगता है समय
-जिले में किसी भी दिव्यांग के शरीर में लगे उपकरण के नट बोल्ट खराब होने, मोटरेबल ट्राइसायकल की बैटरी खराब होने या फिर शरीर में कोई कृत्रिम अंग खराब होने पर दिव्यांगों को भटकना पड़ता है। एलिम्को द्वारा उपलब्ध कराए गए उपकरण दूसरी जगह नहीं मिलते हैं। शिकायत आने पर जिले से इसकी सूचना कानपुर स्थित एलिम्को भेजा जाता है। इसके बाद दिल्ली से इसका अप्रूवल आता है। यह सब होने के बाद एलिम्को द्वारा सामान भेजा जाता है।

दिव्यांगों को होगा फायदा
ठ्ठ जिले के 8800 से अधिक दिव्यांगों को उपकरण के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। ठ्ठ स्टोर के लिए स्पेयर पाट्र्स सप्लाई का काम एलिम्को करेगा। ठ्ठ मोटरेबल ट्राइसायकल की बैटरी या अन्य कोई खराबी होने पर ग्वालियर में ही ठीक हो सकेगी।

इनका कहना है
दिव्यांगों के लिए उपकरणों की उपलब्धता स्थानीय स्तर पर कराने के लिए स्थानीय दिव्यांग युवा को ही प्रशिक्षित करने की प्लानिंग की गई है। इसके लिए दिव्यांगों से नाम मांगे गए थे। अभी पांच दिव्यांगों ने इसके लिए आवेदन किया है। इनमें से एलिम्को द्वारा एक युवा का चयन किया जाएगा।
राजीव सिंह, संयुक्त संचालक-सामाजिक न्याय विभाग

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned