सुख-समृद्धि की कामना के साथ पूजे गए गोवर्धन

- सुख-समृृद्धि की कामना से शहरवासियों ने किया पूजन

By: Narendra Kuiya

Published: 15 Nov 2020, 11:47 PM IST

ग्वालियर. परिवार के सुख और समृद्धि की कामना के साथ रविवार को शहरवासियों ने श्रद्धाभाव से गोवर्धन पूजा की। शहरवासियों ने गोवर्धन गिरधारी भगवान कृष्ण के कीर्तन और भजनों के साथ अपने आंगन में गोबर से प्रतीकात्मक गोवर्धन पर्वत बनाकर पूरे परिवार के साथ विधि-विधान से पूजनकर धर्म लाभ लिया। वहीं कई लोगों ने गोवंश अर्थात गाय, बैल, बछड़े आदि को स्नान कराकर उनकी पूजा भी की।

परिवार के साथ की गोवर्धन पूजा
गोवर्धन पूजा के लिए पूरा परिवार एकत्र हो गया। परंपरानुसार परिवार की महिलाओं ने गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाया और फिर परिवार के सभी सदस्य इक_े हुए और विधि-विधान के अनुसार कच्चा दूध, अक्षत, रोली, पुष्प, खील और बताशों से पूजन किया गया। पुरूषों और बच्चों नेे गोवर्धन पर्वत की सात परिक्रमा लगाई और फिर दीपक जलाकर होम किया। घरों में यह पूजन सुबह 7 से 11 बजे के बीच किया। वहीं शहर के सभी मंदिरों में इस मौके पर शाम को अन्नकूट का आयोजन किया गया जिसमें रामभाजे के साथ पूडिय़ों के महाभोग के बाद प्रसाद का वितरण हुआ।

इसलिए होती है गोवर्धन पूजा
गोकुल में एक बार कृष्ण के कहने पर बृजवासियों ने इंद्र के बजाय गोवर्धन की पूजा की तो इंद्र ने रूष्ठ होकर मूसलाधार वर्षा की। तब ग्वाल-बाल और पशु-पक्षियों की रक्षा के लिए कृष्ण ने अपनी उंगली पर गोवर्धन पवर्त को उठा लिया। लगातार सात दिन तक बारिश के बाद इंद्र का मद चूर हो गया और उसने कृष्ण से क्षमा मांगी। तब से सुख-समृद्धि के प्रतीक के रूप में ब्रज प्रदेश में, बाद में पूरे उत्तर भारत में गोवर्धन पूजा की जाने लगी। आज भी हजारों की संख्या में श्रद्धालु और साधु-संत कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा को वृंदावन में गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा कर धर्मलाभ लेते हैं।

सनातन धर्म मंदिर में पूजे गए गोवर्धन
सनातन धर्म मंदिर में गोवर्धन पूजा का आयोजन किया गया। पं.रमाकांत शास्त्री ने वैदिक ढंग से पूजा-पाठ संपन्न कराया। इसके बाद रात को अन्नकूट का प्रसाद वितरण किया गया।

यहां भी हुए कार्यक्रम
- मुरार स्थित लाल टिपारा गो शाला में दोपहर 3 से 5 बजे तक गोवर्धन पूजा की गई। इसके लिए यहां गोवर्धन बनाए गए थे। तत्पश्चात अन्नकूट प्रसादी वितरित हुई।
- अचलेश्वर मंदिर में शाम को अन्नकूट की प्रसादी का वितरण किया गया।
- डीडवाना ओली स्थित बालाजी मंदिर में सुबह गोवर्धन पूजा के बाद शाम को अन्नकूट प्रसादी का वितरण किया गया।
- लक्ष्मीबाई कॉलोनी स्थित गंगादास की बड़ी शाला में गोवर्धन पूजा एवं अन्नकूट महोत्सव का आयोजन 16 नवंबर को होगा। इसमें महंत रामसेवकदास महाराज शाम 4 बजे गोवर्धन पूजा करेंगे। शाम को अन्नकूट प्रसादी वितरित की जाएगी।

Narendra Kuiya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned