गोपाष्टमी पर गौ माता को लगाया गुड़-बाजरा का भोग

- लाल टिपारा, गोले का मंदिर सहित गौशालाओं में हुए आयोजन, घरों में भी पूजी गई गाय

By: Narendra Kuiya

Published: 22 Nov 2020, 11:17 PM IST

ग्वालियर. गोपाष्टमी के अवसर पर रविवार को शहर की गौशालाओं में गौपूजन कार्यक्रम संपन्न हुआ। लाल टिपारा गौशाला एवं गोले का मंदिर स्थित गौशाला में गाय को गुड़, बाजरा का गौभोग लगाया गया। वहीं घरों में भी गायों का पूजन किया गया। इस मौके स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय संगठन मंत्री कश्मीरीलाल ने कहा कि गौरसंरक्षण हर व्यक्ति का कर्तव्य है। गौसंरक्षण होने से स्वदेशी को बढ़ावा मिलेगा, इसलिए जो जहां है, वहीं से गौसंरक्षण के लिए काम करे। किसान गौ आधारित खेती करे, तो समृद्धि व खुशहाली निश्चित है। गोपाष्टमी के अवसर पर गायों को गुड़, बाजरा, अजवाइन आदि से बने लड्डुओं का भोग लगाया गया। कार्यक्रम में स्वामी प्रशांतानन्द, राकेश जादौन, केशव दुबोलिया, संजीव गोयल आदि मौजूद रहे।

23 नवंबर को मनाई जाएगी आंवला नवमी
संतान प्राप्ति के लिए महिलाएं 23 नवंबर सोमवार को आंवले के वृक्ष की पूजा करेंगी। कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को आंवला नवमी मनाई जाती है। इसे अक्षय आंवला नवमी भी कहते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु का वास आंवले में होता है। महिलाएं संतान प्राप्ति, संतान की मंगल कामना के लिए तथा समस्त इच्छाओं की प्राप्ति के लिए इस व्रत को करती हैं।

Narendra Kuiya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned