scriptgr medical students misbehave with ips officer | जूनियर डॉक्टरों ने IPS अफसर से की अभद्रता, मोबाइल गटर में डाला, गनर को पीटा, 10 छात्रों पर FIR | Patrika News

जूनियर डॉक्टरों ने IPS अफसर से की अभद्रता, मोबाइल गटर में डाला, गनर को पीटा, 10 छात्रों पर FIR

misbehave with ips officer- होस्टल में पुलिसकर्मियों को घेर तकर मेडिकल स्टूडेंट्स ने की अभद्रता...। 10 छात्रों पर fir...

ग्वालियर

Updated: September 14, 2022 07:41:02 pm

ग्वालियर। रात 2 बजे गश्त कर रहे एक आइपीएस अफसर और उनकी पुलिस टीम के साथ मेडिकल छात्रों (medical student) ने जमकर अभद्रता की। छात्रों ने आइपीएस अफसर का मोबाइल और पर्स छीन कर गटर में डाल दिया, उनके गनर को पीटा। इसके अलावा पुलिस के वाहन की चाबी छीन ली और टायर पंचर कर दिया।

gwa1.png

दरअसल, मंगलवार रात दो बजे ग्वालियर के कटोराताल के पास कार खड़ी करके कुछ मेडिकल छात्र शराब पी रहे थे। मुरार के सीएसपी की जिम्मेदारी संभाल रहे आइपीएस ऑफिसर ऋषिकेश मीणा (ips officer rishikesh meena) ने कार को देखकर अपनी गाड़ी रुकवाई। पुलिस को करीब आता देख यह छात्र भागने लगे। पुलिस ने भी पीछा किया तो सभी छात्र जीआर मेडिकल कॉलेज (Gajara Raja Medical College) के सीनियर ब्वायज होस्टल में घुस गए।

यहां देखें VIDEO

जब पुलिस होस्टल पहुंची

पुलिस ने जैसे ही ब्वायज होस्टल में प्रवेश किया तो वहां सैकड़ों छात्र जमा हो गए थे। जबकि आइपीएस के साथ ज्यादा सिपाही नहीं थे। छात्रों ने इन्हें घेर लिया। मेडिकल छात्रों ने आइपीएस आफसर के साथ बदसलूकी शुरू कर दी। छात्रों ने पुलिस वाहन की चाबी छीन ली और टायर पंचर कर दिया। बदसलूकी यहां भी नहीं रुकी, छात्रों ने आइपीएस अफसर ऋषिकेश मीणा का मोबाइल और पर्स भी छीन लिया और उसे पास ही मौजूद एक गटर में डाल दिया। रात के वक्त होस्टल में मेडिकल छात्रों की संख्या इतनी ज्यादा थी कि आइपीएस अफसर मीणा कुछ नहीं कर पाए और पूरी घटना को खड़े होकर देखते रहे।

पुलिस मांगती रही वाहन की चाबी

पुलिस के जवान बार-बार छात्रों से वाहन की चाबी और साहब का मोबाइल फोन मांगते रहे। लेकिन छात्रों ने देने से मना कर दिया और होस्टल के अंदर घुस गए। रात दो बजे से चला यह घटनाक्रम काफी देर तक चलता रहा।

gwa2.jpg

जब एकत्र हुआ भारी पुलिस बल

तब तक आइपीएस आफिसर मीणा ने मामले की जानकारी सीनियर अधिकारियों को दे दी। तब कहीं जाकर सुबह 5 बजे भारी पुलिस बल एकत्र हुआ और होस्टल को घेर लिया गया। ग्वालियर के पुलिस अधीक्षक अमित सांघी भी दल बल के साथ होस्टल पहुंच गए थे। इसके बाद पुलिस ने लूटी गई गाड़ी की चाबी, मोबाइल व पर्स को जब्त कर लिया।

उपद्रव करने वाले छात्र को पकड़ा

जब भारी पुलिस बल होस्टल पहुंचा तो कई छात्र भागने में सफल हो गए। जबकि सीनियर रेसीडेंट विश्वेश शर्मा को भी पकड़ लिया, जिसने रात दो बजे छात्रों को बुलाकर उपद्रव किया था। पुलिस ने डा. विश्वेस शर्मा समेत 7 अन्य मेडिकल छात्रों को भी होस्टल से गिरफ्तार कर लिया था।

जब भारी पुलिस बल पहुंचा तो भागे मेडिकल छात्र

काफी देर तक रात में एक आइपीएस आफिसर के साथ बदसलूकी करने वाले छात्र उस समय भागने लगे जब सुबह 5 बजे भारी पुलिस बल होस्टल में पहुंच गया। पुलिस ने बाकी बचे छात्रों को जमा करके पूछताछ की। इस दौरान एसपी अमित सांघी के साथ एएसपी राजेश दंडोतिया, अभिनव चौकसे, सीएसपी, ऋषिकेश मीणा, रत्नेश सिंह तोमर, विजय सिंह भदौरिया, मुनीष राजौरिया समेत 10 थानों के टीआई और भारी संख्या में पुलिस फोर्स पहुंच गई थी। पूरा मेडिकल कालेज रोड का एरिया छावनी में तब्दील हो गया था। कई मेडिकल छात्र भागने लगे, हालांकि पुलिस ने उनका पीछा नहीं किया।

भोपाल तक पहुंचा विवाद

आइपीएस अफसर और मेडिकल छात्रों के बीच हुई इस भिड़ंत की शिकायत भोपाल तक भी पहुंच गई थी। एक तरफ जहां पुलिस मुख्यालय ने पूरे मामले की जानकारी ग्वालियर पुलिस अधिकारियों से ली, वहीं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भी जीआर मेडिकल कॉलेज और जेएएच प्रबंधन के अधिकारियों से फोन पर बात करके जानकारी जुटाई।

10 लोगों पर हुई एफआईआर

ग्वालियर के झांसी रोड थाना प्रभारी संजीव नयन शर्मा के मुताबिक आइपीएस अफसर के साथ बदसलूकी करने के मामले में 10 मेडिकल स्टूडेंट्स को आरोपी बनाते हुए उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है। इनमें विकास, धीरज, गोविंद, विवेक, सायरमन, निर्मल, अमित, मोहन और विवेक जाटव शामिल हैं। इनके खिलाफ धारा 353, 147, 148, 294 व 336 में प्रकरण दर्ज किया गया है।

जूनियर डाक्टरों की एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. हिमांशु गौड़ का कहना है कि विवाद गलतफहमी के कारण हुआ है। अफसरों से हमारी चर्चा हुई है। जिन चिकित्सा छात्रों को पुलिस ने पकड़ा है, उन्हें छोड़ देने के बाद हम हड़ताल समाप्त कर देंगे।

इधर, डीन डा. अक्षय निगम का कहना है कि विवाद को लेकर पुलिस अधिकारियों से हमारी चर्चा हुई है। मामले का निराकरण किया जा रहा है। जूनियर डाक्टरों की ओर से हड़ताल नहीं की जाएगी।

gwa1.jpg

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Swachh Survekshan 2022: लगातार छठी बार देश का सबसे साफ शहर बना इंदौर, सूरत दूसरे तो मुंबई तीसरे स्थान परअब 2.5 रुपये/किलोमीटर से ज्यादा दीजिए सिर्फ रोड का टोल! नए रेट लागूकांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए KN त्रिपाठी का नामांकन पत्र रद्द, मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर में मुकाबला41 साल के शख्स को 142 साल की जेल, केरल की अदालत ने इस अपराध में सुनाई यह सजाBihar News: बिहार में और सख्त होगी शराबबंदी, पहली बार शराब पीते पकड़े गए तो घर पर चस्पा होंगे पोस्टर, दूसरी और तीसरी बार में मिलेगी ये सजास्वच्छता अभियान 2022 शुरू, 100 लाख किलो प्लास्टिक जमा करने का लक्ष्यसैनिटरी पैड के लिए IAS से भिड़ने वाली बिहार की लड़की को मुफ्त मिलेगा पैड, पढ़ाई का खर्च भी शून्यएयरपोर्ट पर 'राम' को देख भावुक हो गई बुजुर्ग महिला, छूने लगी अरुण गोविल के पैर, आस्था देख छलके आंसू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.