scriptGRMC student running hospital, notice on negligence in treatment | जीआरएमसी का छात्र चला रहा हॉस्पिटल, इलाज में लापरवाही पर नोटिस | Patrika News

जीआरएमसी का छात्र चला रहा हॉस्पिटल, इलाज में लापरवाही पर नोटिस

सीएमएचओ की टीम ने की जांच

ग्वालियर

Published: May 18, 2022 07:31:06 pm

ग्वालियर. इलाज के दौरान गड़बड़ी होने पर मरीज ने गरम सड़क मुरार स्थित रुद्राक्ष मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसकी शिकायत सीएमएचओ कार्यालय में की गई। जिस पर सीएमएचओ डॉ. मनीष शर्मा ने मरीज प्राची शर्मा की शिकायत पर तीन सदस्यीय जांच दल द्वारा संयुक्त रूप से जांच कराई। जांच समिति ने पाया कि रुद्राक्ष हॉस्पिटल में भर्ती मरीज कुसुम को आशा कार्यकर्ता कुसुम बाथम द्वारा भर्ती कराया गया। भर्ती मरीज बीना को भी आशा कार्यकर्ता मोना झा द्वारा भर्ती कराया गया। शिकायतकर्ता मरीज प्राची शर्मा को आशा कार्यकर्ता पुष्पलता ने भर्ती करवाया गया। जांच समिति को हॉस्पिटल में इंडोर रजिस्टर में भर्ती मरीजों की एंट्री नहीं मिली। वहीं ओटी रजिस्टर भी अधूरा पाया गया। इसके साथ ही केसशीट भी अधूरी पाई गई। संस्था में बायोमेडिकल वेस्ट का निर्धारित मानकों अनुरूप निष्पादन नहीं किया जाना पाया गया। वहीं नियम विरुद्ध बीएचएमएस डाॅक्टर डॉ. प्रवीण कुमार शर्मा ड्यूटी करते पाए गए। संस्था में शिकायत पुस्तिका नहीं पाई गई। इसके साथ ही ओटी फयूमेशन व कल्चर आदि का रिकाॅर्ड संधारित नहीं होना पाया गया। हॉस्पिटल पंजीयन के समय आवेदन में उल्लेखित स्टाफ एवं कार्यरत स्टाफ में भिन्नता पाई गई। इसके साथ ही परिवर्तन की सूचना सीएमएचओ को नहीं दी गई। रुद्राक्ष मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल के संचालक संजीव शर्मा स्वयं जीआरएमसी के छात्र हैं। वहीं अध्यनरत रहते हुए बिना सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के अस्पताल का संचालन कर रहे हैं। उक्त पाई गई अनियमितताओं से स्पष्ट होता है कि आपके द्वारा की गई गड़बड़ी से पंजीयन निरस्तीकरण की कार्यवाही प्रस्तावित है। अत: आपको एक महीने की सूचना देते हुए सूचित किया जाता है कि यदि आप उक्त निर्णय के विरूद्ध अपना पक्ष प्रस्तुत करना चाहते है तो लिखित में सप्रमाण अपना पक्ष प्रस्तुत करना सुनिश्चित करें। नियत समय में अभ्यावेदन प्रस्तुत नहीं करने की स्थिति में यह मानते हुए कि उक्त वर्णित निर्णय आपको स्वीकार है। प्रकरण में एक पक्षीय कार्रवाई करते हुए आपके अस्पताल का पंजीयन एवं लायसेंस निरस्त किया जाएगा।
जीआरएमसी का छात्र चला रहा हॉस्पिटल, इलाज में लापरवाही पर नोटिस
जीआरएमसी का छात्र चला रहा हॉस्पिटल, इलाज में लापरवाही पर नोटिस
यह भी मिली अनियमितताएं

- शासकीय चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनीता शर्मा स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ की सेवाएं अस्पताल में लिया जाना पाया गया। मरीज का पार्टोग्राफ भी नहीं भरा गया। संस्था में आइसीयू संचालित होते हुए भी प्रोटोकॉल अनुसार निर्धारित डॉक्टर एवं स्टाफ नहीं पाया गया। अप्रशिक्षित स्टाफ नर्स ड्यूटी पर उपस्थित मिली।
- वहीं डॉ. ज्योत्सना का नाम ओटी रजिस्टर में लिखा पाया गया, लेकिन डॉ. ज्योत्सना ने अपने कथन में कहा है कि उन्होंने रुद्राक्ष मल्टी स्पेशिलिटी हॉस्पिटल में ऑन कॉल पर जाना छोड़ दिया है।
- प्राची शर्मा एवं उनके पति जीतेन्द्र द्वारा अपने कथन में कहा गया है कि आशा कार्यकर्ता तथा डॉ. अनीता श्रीवास्तव द्वारा जिला चिकित्सालय मुरार से रुद्राक्ष अस्पताल में भर्ती करवाया गया तथा कहा कि सुबह ऑपेरशन करेंगे। अस्पताल में दर्द होने पर कोई भी डाॅक्टर उपलब्ध नहीं था। तब प्रभा एवं मीना नाम की नर्सों ने प्राची का पेट जोर से दबाया, जिससे हालत खराब होने पर डॉ. अनीता श्रीवास्तव एवं डॉ. मनप्रीत कौर द्वारा बिरला हॉस्पिटल रेफर किया गया। इसके बाद में अपोलो हॉस्पिटल ले जाया गया। जहाँ डॉक्टरों द्वारा परीक्षण कर बताया गया कि बच्चेदानी फट गयी है उसे ऑपरेशन कर निकाला गया। इससे बच्चे की मृत्यु हो गयी व मुश्किल से प्राची की जान बचाई जा सकी।
एक शिकायत यह भी

एक अन्य शिकायत शिवेन्द्र द्वारा की गयी है। जिसकी जांच तीन सदस्यीय जांच दल द्वारा संयुक्त रूप से की गई है। जिसमें रुद्राक्ष अस्पताल में बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट का निष्पादन मानकों के अनुरूप नहीं पाया गया। ड्यूटी डाॅक्टर अनुपस्थित मिले, ओटी रजिस्टर के बीच के पेज रिक्त पाए गए । इसके साथ ही कई ॅऑपरेशन केसेस की एंट्री रजिस्टर में नहीं थी। शिकायतकर्ता की पत्नी वर्षा सिंह का उपचार लापरवाही पूर्वक किया गया। मरीजों को बरगलाकर जिला अस्पताल से अस्पताल में लाया जाता है। अस्पताल में नियमानुसार प्रशिक्षित चिकित्सक व स्टाफ नहीं है। बीएचएमएस व प्रशिक्षु स्टाफ नर्स द्वारा मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ किया जा रहा है। अस्पताल में पंजीयन के समय व वर्तमान स्टाफ की जानकारी में भिन्नता है। इसके साथ ही केसशीट तथा पार्टोग्राफ नहीं भरा जाता है। आपके द्वारा नियम विरुद्ध शासकीय चिकित्सक की तथा आशा कार्यकर्ताओं की सेवाएं ली जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच संजय राउत को ईडी ने भेजा समन, 28 जून को पूछताछ के लिए बुलायाExclusive Interview: राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को किस आधार पर जीत की उम्मीद और क्या बोले आदिवासी महिला के खिलाफ उम्मीदवारी परमनी लॉन्ड्रिंग मामले में सत्येंद्र जैन को बड़ी राहत, कोर्ट ने हिरासत अवधि बढ़ाने से किया इनकार, जानिए क्या बताई वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.