MP election 2018 : ग्वालियर की इस सीट पर टिकट का सबसे घनघोर संघर्ष,यहां से तय होता है मंत्री

MP election 2018 : ग्वालियर की इस सीट पर टिकट का सबसे घनघोर संघर्ष,यहां से तय होता है मंत्री

monu sahu | Publish: Sep, 05 2018 04:13:04 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

MP election 2018 : ग्वालियर की इस सीट पर टिकट का सबसे घनघोर संघर्ष,यहां से तय होता है मंत्री

राजेन्द्र तलेगांवकर @ ग्वालियर। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 17 दक्षिण विधानसभा क्षेत्र दक्षिण में टिकट को लेकर सबसे ज्यादा घमासान होने के आसार हैं। यहां भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों से सबसे अधिक दावेदारों के नाम चर्चा में हैं। भाजपा के नारायण सिंह कुशवाह लगातार तीसरी बार इस क्षेत्र से चुनाव जीत चुके हैं। वे मजबूत दावेदारी पेश करेंगे। वहीं कांग्रेस इस बार भाजपा के इस गढ़ को तोडऩे के लिए पूरी ताकत के साथ मैदान में उतरने की तैयारी में है। ग्वालियर सीट पर भाजपा में टिकट का संघर्ष सामने नहीं दिखता। यहां कांग्रेस में कई नेता सडक़ों पर उतर कर दावेदारी जता चुके हैं।

बड़ी खबर : एससी-एसटी एक्ट का विरोध: स्वाभिमान सम्मेलन में कई संगठन एक मंच पर आए,भाजपा-कांग्रेस की बढ़ी चिंता

ग्वालियर दक्षिण : सडक़ों पर उतरकर जता रहे दावेदारी
शहर का प्रमुख व्यापारिक केन्द्र महाराज बाड़ा इसी विधानसभा क्षेत्र में आता है। भाजपा का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर यहां से कांग्रेस के कामता प्रसाद कुशवाह और भगवान सिंह यादव चुनाव जीत चुके हैं। 1998 मे पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा चुनाव जीत चुके हैं। उन्होंने भगवान सिंह को हराया था। 2003 में भाजपा ने नारायण सिंह कुशवाह को टिकट दिया। उन्होंने भगवान सिंह को पराजित कर दिया। इसके बाद से वे लगातार यहां से विधायक हैं।

बड़ी खबर : मुश्किल में भाजपा,इस बार राज्य में शुरू हुआ एसी एसटी एक्ट का भारी विरोध,हार सकती है ये बड़ी सीट

2013 के वोट
भाजपा - नारायण सिंह कुशवाह
68627 मत
कांग्रेस -रमेश अग्रवाल
52360 मत

बड़ी खबर : बड़ी खबर : डिवाइडर तोड़कर फुटपाथ पर युवक ने चढ़ा दी कार,दो को कुचला,लोगों में भगदड़,See video

मजबूत दावेदार
नारायण सिंह कुशवाह -विधायक।
अनूप मिश्रा- सांसद।
विवेक शेजवलकर- महापौर।
समीक्षा गुप्ता - पूर्व महापौर।

बड़ी खबर : Breaking : काले झंडों के भय से प्रदेश के मंत्री-विधायक हुए गायब,चुनाव पर पड़ेगा बड़ा असर

अभय चौधरी - जीडीए अध्यक्ष।
खुशबू गुप्ता - महिला मोर्चा।
सतीश बोहरे - कई बार से पार्षद।
कमल माखीजानी - जिला महामंत्री।

बड़ी खबर : सगाई से 20 दिन पहले उठी अर्थी,हर आंख से निकल रहे थे आंसू

ये हैं मुद्दे
क्षेत्र में पानी का संकट
सडक़ों की खराब स्थिति
पार्किंग बड़ी समस्या है

बड़ी खबर : 200 लोग 12 घंटे तक करते रहे केदार की तलाश,फिर सामने आई ये तस्वीर

मजबूत दावेदार
भगवान सिंह यादव -पूर्व मंत्री पार्टी में पकड़।
रमेश अग्रवाल- पूर्व विधायक वरिष्ठ कांग्रेस नेता।
रश्मि पवार- कांग्रेस नेत्री पूर्व में भी लड़ चुकी हैं चुनाव
आनंद शर्मा - कई बार रहे पार्षद
संजय यादव - युवा कांग्रेस के वर्तमान में राष्ट्रीय सचिव

 

जातिगत समीकरण
कुशवाह, महाराष्ट्रीय, सिंधी, कायस्थ और अल्पसंख्यक वोट ज्यादा हैं। कर्मचारी भी बड़ा फैक्टर हैं। इनमें एससी-एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर भी चर्चा गर्म है।

 

चुनौतियां
पार्टी के पुराने कार्यकर्ता नाराज हैं। कांगे्रस को पटखनी देने के लिए भाजपा डमी कैंडिडेट उतार सकती है।

 

विधायक का परफॉर्मेंस
क्षेत्र के विधायक नारायण सिंह कुशवाह 15 साल से क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वे इसका फायदा लेने की कोशिश करेंगे। उनका विरोध अभी नहीं दिखा है पर कई अहम समस्याओं का निराकरण नहीं होने का नुकसान हो सकता है।

 

"क्षेत्र प्रमुख व्यावसायिक केंद्र होने के कारण यहां पार्किंग का संकट है। वहीं इस क्षेत्र में बड़ी मंडी की हालत खराब है। छत्री मंडी भी बदहाल है। सडक़ोंं खराब हैंं।"
जगदीश गोस्वामी, सामाजिक कार्यकर्ता

Ad Block is Banned