ग्वालियर में 39 दिन में 40 महिलाओं से छेड़छाड़, 7 के साथ बलात्कार, जानिए शहर के किस क्षेत्र में महिला सुरक्षा की क्या स्थिति है

ग्वालियर में 39 दिन में 40 महिलाओं से छेड़छाड़, 7 के साथ बलात्कार, जानिए शहर के किस क्षेत्र में महिला सुरक्षा की क्या स्थिति है

Rahul Aditya Rai | Publish: Sep, 10 2018 08:00:07 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

यहां हर रोज एक महिला छेड़छाड़ की शिकार हो रही है। हर 6 दिन में एक महिला से बलात्कार हो रहा है, जबकि हर दो दिन में एक महिला दहेज के लिए प्रताडि़त हो रही है

ग्वालियर। ग्वालियर जिले में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। यहां हर रोज एक महिला छेड़छाड़ की शिकार हो रही है। हर 6 दिन में एक महिला से बलात्कार हो रहा है, जबकि हर दो दिन में एक महिला दहेज के लिए प्रताडि़त हो रही है। यह हकीकत इस साल 1 अगस्त से 8 सितंबर तक 39 दिन के पुलिस आंकड़ों से सामने आई है। 39 दिन में जिले में 40 महिलाओं के साथ छेड़छाड़ हुई, 7 बलात्कार की शिकार हुईं। 26 महिलाओं को दहेज लोभी ससुरालवालों ने प्रताडि़त किया।

 

सबसे अधिक छेड़छाड़ की घटनाएं बहोड़ापुर और डबरा थाना क्षेत्र में, दहेज प्रताडऩा की घटनाएं थाटीपुर क्षेत्र में हुईं। इन मामलों में करीब 60 प्रतिशत आरोपियों को गिरफ्तार कर कार्रवाई की गई, जबकि 40 प्रतिशत आरोपी अभी भी बचे हैं।

 

ग्वालियर शहर में 39 थाने हैं, जिसमें 20 शहर में और 19 देहात में हैं। इसमें साइबर सेल, क्राइम ब्रांच और एजेके थाने शामिल नहीं हैं। इन थानों में शहर में केवल पड़ाव थाना ही एेसा है, जिसमें इन 39 दिनों में एक भी छेड़खानी, दुष्कर्म और दहेज प्रताडऩा की एफआइआर नहीं हुई, जबकि देहात के घाटीगांव, आरोन, भंवरपुरा, बेलगढ़ा, बेहट, उटीला, हस्तिनापुर, चीनोर थाने में भी छेड़छाड़, बलात्कार और दहेज प्रताडऩा की एफआइआर नहीं हुई।

 

40 प्रतिशत किशोरियां बनीं शिकार
इन ३९ दिनों में 40 प्रतिशत किशोरियां, 35 प्रतिशत बालिग लड़कियां और 25 प्रतिशत शादीशुदा महिलाएं छेड़छाड़ की शिकार हुईं, जबकि बलात्कार के मामले में 50 प्रतिशत नाबालिग लड़कियां प्रताडि़त हुईं। बाकी पचास प्रतिशत में शादीशुदा महिलाएं और बालिग लड़कियां शामिल हैं।

 

निचला तपका ज्यादा प्रभावित
छेड़छाड़ हो या दुष्कर्म के मामले निचले तपके की महिलाएं या लड़कियां ज्यादा पीडि़त हुई हैं। इनके परिजन मजदूरी पर निकल जाते हैं, अकेला देखकर इनके साथ हरकतें की जाती हैं। कुछ मध्यमवर्गीय परिवारों से हैं, जिन्हेंस्कूल या कॉलज जाते समय परेशान किया गया।

 

सुरक्षा के लिए यह उपाए हुए
जिले के सभी थानों के अलावा वीकेयर फॉर यू सेल, महिला सेल, महिला थाना, निर्भया बनाई गईं, इसके बाद भी महिलाओं की सुरक्षा नहीं हो पा रही है।

 

किस थाने में कितनी एफआइआर
छेड़छाड़- कोतवाली, माधौगंज, कम्पू, ग्वालियर, पुरानी छावनी, मुरार, विश्वविद्यालय, गोला का मंदिर, गिरवाई, पनिहार, भितरवार, गिजोर्रा, मोहना, करहिया में एक-एक, इंदरगंज, झांसी रोड, महाराजपुरा में दो-दो बिजौली में तीन मामले दर्ज हुए।

 

दुष्कर्म- माधौगंज, ग्वालियर, मुरार, सिरोल, तिघरा, बिजौली और डबरा में एक-एक मामले दर्ज हुए।

 

दहेज प्रताडऩा- थाटीपुर-3, पुरानी छावनी-2, महाराजपुरा-2, आंतरी-2, कम्पू-1, डबरा-1 एवं महिला थाने में 15 एफआइआर हुईं।

 

छेड़छाड़ में टॉप 5 थाने
थाने छेड़छाड़
बहोड़ापुर- 4
डबरा 4
जनकगंज 4
थाटीपुर 4
हजीरा 4

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned