पुलिस ने खदेडा तो, रंगबाजी पर उतरे, बोले डंडा फेंककर मारा

gwalior people charged on police of misbehaving : बस्ती में कुछ लोगों ने हंगामा कर आरोप लगा कि माधौगंज थाने के आरक्षक नसरुद्दीन ने डंडा फेंककर मारा है जो बस्ती में रहने वाले गोलू की नाक पर लगा है। इससे गोलू की नाक में गहरी चोट आई है।

By: Gaurav Sen

Published: 27 Mar 2020, 04:20 PM IST

ग्वालियर. लॉकडाउन में पुलिस लगातार लोगों को घर में रहने की नसीहत दे रही है इसके बावजूद लोग बिना वजह कोरोना वायरस का खतरा मोल लेने के लिए तफरी पर उतारु हैं। गुरुवार षाम को लोगों को घर में रहने के लिए टोकने पर आपागंज में लोगों की पुलिस से भिंडत हो गई। बस्ती में कुछ लोगों ने हंगामा कर आरोप लगा कि माधौगंज थाने के आरक्षक नसरुद्दीन ने डंडा फेंककर मारा है जो बस्ती में रहने वाले गोलू की नाक पर लगा है। इससे गोलू की नाक में गहरी चोट आई है। पुलिस और पब्लिक के बीच कहासुनी पता चलने पर सीएसपी आत्माराम षर्मा माधौगंज, जनकगंज और गिरवाई का फोर्स लेकर मौके पर पहुंच गए।

कई बार समझा चुकी थी पुलिस
बस्ती में रहने वालों से पुलिस ने विवाद की वजह पूछी तो कुछ लोगों ने यह भी बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए पुलिस लगातार लोगों को घर मे ंरहने की नसीहत दे रही है। जब पुलिस आती है तो लोग हूटर की आवाज सुनकर घर में घुस जाते हैं, उसके गुजरने के बाद फिर तमाम लोग बाहर आकर मजमा लगा लेते हैं। गुरुवार सुबह से षाम तक भी पुलिस कई बार आकर समझा गई थी कि बाहर मत बैठो, वायरस फैल रहा है, अपने साथ दूसरों की जान को जोखिम में मत डालो। उसके बावजूद षाम को युवकों की टोली मौहल्ले में खडी थी। उस दौरान पुलिस का आना हो गया। उसे आता देखकर बाहर घूम रहे लोग घरों में भागे। पुलिसकर्मियों ने भी इन्हें खदेडा। इसमें गोलू चोटिल हो गया।

लॉक डाउन में बाहर नहीं बैठ सकते
पब्लिक को समझाया है कि लॉक डाउन का आदेष है, ऐसे में घर में बिना वजह बाहर नहीं निकलो, महामारी से खुद और दूसरों को बचाने के लिए घर में रहना जरुरी है। पुलिस भी इसलिए ही टोक रही है। चोटिल का भी मेडिकल कराया है।
प्रषांत यादव माधौगंज टीआई

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned