VIDEO : प्रधान आरक्षक को मिली जीवन की सबसे बड़ी सजा

प्रधान आरक्षक को मिली जीवन की सबसे बड़ी सजा

By: monu sahu

Published: 24 May 2018, 05:28 PM IST

ग्वालियर। विशेष न्यायालय ने दो हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़े गए बेहट थाने के तत्कालीन प्रधान आरक्षक टुण्डाराम को चार साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने आरोपी को सजा भुगतने के लिए जेल भेज दिया। विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण ने आरोपी टुण्डाराम निवासी बड़ापुरा थाना अंबाह को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा ७ में तीन साल तथा धारा १३ (२) के अपराध में यह सजा सुनाई है। आरोपी पर कुल दो हजार रुपए का जुर्माना किया गया है।

यह भी पढ़ें: फिर टूटा रिकॉर्ड, 46.20 पर पहुंचा तापमान, मौसम विभाग ने भी दिए ये बड़े संकेत

विशेष लोक अभियोजक अरविंद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि फरियादी पोहप सिंह गुर्जर के खिलाफ थाना बेहट में मारपीट एवं डकैतों को रसद पानी देने के चार अपराध दर्ज थे, जिनमें से तीन में वह बरी हो चुका था।

यह भी पढ़ें: भाभी ने किया काम करने से मना तो, देवर ने कर दिए उसके दो टुकड़े

इसके बाद जब इस मामले की कड़ाई से जांच शुरू की तो यह बात सामने आई। जिससे इस मामले का और दम मिल गया।

यह भी पढ़ें: कॉलेज संचालकों की नैक की नई गाइड लाइन ने उड़ाई नींद,ये है नया नियम

एक अन्य मामले में मदद के एवज में बेहट थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक ने पोहप से पांच हजार रुपए रिश्वत मांगी थी, लेकिन बाद में वह दो हजार में तैयार हो गया था।

यह भी पढ़ें: दो दिन से लापता जेठ-बहू के शव पेड़ पर लटके मिले,सामने आई ये सच्चाई

फरियादी ने इसकी शिकायत एसपी लोकायुक्त को की। लोकायुक्त एसपी द्वारा इंस्पेक्टर नरेंद्र त्रिपाठी को प्रकरण सौंपा, रिश्वत मांगे जाने की पुष्टि के बाद २८ सितंबर १४ को आरोपी को बेहट थाने में लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी को दो हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया।

यह भी पढ़ें: Ganga Dussehra 2018 : सालों बाद अधिक मास में मनेगा गंगा दशहरा,बन रहे हैं यह योग

इस मामले में आरोपी के खिलाफ आरोप प्रमाणित होने पर कोर्ट ने उक्त सजा सुनाई है।

monu sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned