उटीला से सैकड़ों गाय-बैल हांककर लाए ग्रामीण, सडक़ पर छोडऩे की दी धमकी

ग्रामीणों ने साफ कह दिया कि वह वापस लेकर नहीं जाएंगे, यहीं सडक़ पर छोड़ जाएंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में गाय-बैल सडक़ पर होने से जाम की स्थिति बन गई।

By: Rahul rai

Published: 06 Jan 2020, 12:46 AM IST

ग्वालियर। नगर निगम की गोला का मंदिर स्थित गोशाला में रविवार शाम उटीला से ग्रामीण बड़ी संख्या में गाय-बैल लेकर आ गए, लेकिन गोशाला के कर्मचारियों ने रखने से मना कर दिया, जिससे विवाद की स्थिति बन गई। ग्रामीणों ने साफ कह दिया कि वह वापस लेकर नहीं जाएंगे, यहीं सडक़ पर छोड़ जाएंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में गाय-बैल सडक़ पर होने से जाम की स्थिति बन गई। बाद में नगर निगम अधिकारियों ने गोशाला में प्रवेश कराया, तब मामला शांत हुआ।

नगर निगम लाल टिपारा और गोला का मंदिर गोशाला का संचालन कर रहा है। इसमें शहर में आवारा घूमने वाले गोवंश को पकडकऱ रखा जाता है। वर्तमान में इनकी संख्या 7 हजार से अधिक है। लाल टिपारा गोशाला में कुछ ग्रामीण गोवंश लेकर पहुंचे और उन्होंने कर्मचारियों से गेट खोलने के लिए कहा, लेकिन गेट नहीं खोले और वहां से इन्हें हटा दिया। इसके बाद ग्रामीण गोवंश को लेकर गोला का मंदिर स्थित मार्क हॉस्पिटल की गोशाला में पहुंच गए, यहां भी जब गोशाला के कर्मचारियों ने गेट खोलने से मना कर दिया तो सभी भडक़ गए। गौरतलब है कि आसपास के किसान आए दिन गोवंश लेकर गोशाला में छोडऩे के लिए आते हैं। विगत दिनों ग्रामीणों और गोशाला कर्मचारियों में मारपीट की नौबत आ गई थी।

क्या करें, हम बर्बाद हो रहे हैं
किसान उटीला से गोवंश को लेकर पैदल आए थे। जब गोशाला में गोवंश को प्रवेश नहीं दिया तो ग्रामीणों ने कहा कि हम क्या करें, गाय-बैल हमारी फसलें नष्ट कर रहे हैं। रातभर खेतों पर जागते हैं, फिर भी गाय फसलों को चर जाती हैं। ग्रामीणों ने कहा कि गोशाला में जगह नहीं दोगे तो गायों को हांक कर कहीं और छोड़ देंगे, लेकिन गांव वापस लेकर नहीं जाएंगे।

सभी को प्रवेश दे दिया
कुछ ग्रामीण गायों को लेकर आए थे, मना करने के बाद भी वह लेकर नहीं जा रहे थे। गोवंश के कारण वहां स्थिति बिगड़ रही थी, इसलिए उन सभी को गोशाला में प्रवेश दे दिया है।
केशव सिंह चौहान, नोडल गोशाला

Rahul rai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned