प्रत्याशी हो रहे कमर दर्द का शिकार, रोजाना सैकड़ों मतदाताओं के छूने पड़ते हैं पैर

सैकड़ों मतदाताओं के पैर छूने से प्रत्याशी हो रहे कमर दर्द का शिकार।

By: Faiz

Published: 28 Oct 2020, 07:11 PM IST

ग्वालियर/ उपचुनाव में जीत दर्ज करना हर पार्टी और प्रत्याशी के लिए साख की लड़ाई बनी हुई है। राजनीतिक दल हो या प्रत्याशी दोनो ही जीत के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। चुनाव में मतदाताओं के पैर छूकर उन्हें अपना कीमती वोट देने के लिए मनाना एक सैद्धांतिक मूलमंत्र है। इसे मतदाता को अपनी ओर आकर्षित करने का सबसे आसान तरीका माना जाता है। इसी मूलमंत्र के चलते अपनी अपनी विधानसभा क्षेत्र में जनसंपर्क के दौरान प्रत्याशी मतदाताओं के पैर छू रहे हैं। लेकिन, रोजाना सैकड़ों बार ऐसा करना प्रत्याशियों को अब भारी पड़ने लगा है। क्योंकि, रोजाना करीब चार-पांचसौ मतदाताओं के पैर छूने के लिए झुकने से प्रत्याशियों को कमर और पीठ में दर्द की शिकायत होने लगी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- उपचुनाव के लिए भाजपा का संकल्प पत्र जारी, वीडियो में देखिये किस तरह खुला सौगातों का पिटारा


मतदाता को लुभाना बना प्रत्याशी की मुसीबत

कई प्रत्याशी तो जनसंपर्क के दौरान ही कमर दर्द की दवा या बाम आदि साथ रख रहे हैं। ग्वालियर विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी सुनील शर्मा बुरी तरह बैक पैन के शिकार हो गए हैं। यही हालत उनके प्रतिद्वंदी प्रद्युम्न सिंह तोमर की भी है। साथ ही, चंबल की अंबाह सीट पर भी प्रत्याशी मतदाताओं के पैर छू-छूकर परेशान आ चुके हैं। प्रत्याशियों के लिए बड़ी मजबूरी यह है कि, अगर वो मतदाता के पैर नहीं छूते तो मतदाता को लगता है कि, प्रत्याशी अभी ही इतना घमंड में है, तो चुनाव जीतने के बाद क्या करेगा। मतदाता की इस बड़ी धारणा को तोड़ना प्रत्याशी के लिए मुसीबत बनता जा रहा है।

 

पढ़ें ये खास खबर- सीएम शिवराज की सभा में हंगामा, जातिगत आरक्षण हटाने की उठी मांग, देखें वीडियो


यहां से शुरु हुई पैर छू कर वोट मांगने की प्रथा

मुरैना की दिमनी विधानसभा क्षेत्र से पांच बार विधायक रहने के साथ साथ मंत्री रहे मुंशीलाल के बारे में कहा जाता है कि, उन्होंने अपने चुनावी प्रचार में न के बराबर खर्च में चुनाव लड़ा है, लेकिन हर बार जीते भी हैं। उनके क्षेत्र के बुजुर्गों का कहना है कि, उनकी जीत का बड़ा श्रेय सिर्फ क्षेत्र के बड़ों का सम्मान करना है। यानी प्रचार में जनसंपर्क के दौरान वो क्षेत्र के बड़ों के पैर छू कर आशीर्वाद लेना नहीं भूलते। उनका बड़ों के प्रति यही आदर हर बार उन्हें चुनाव में जिता देता है। मुंशीलाल के बाद चुनाव जीतने की ये सस्ती, सुंदर और टिकाऊ तकनीक सभी प्रत्याशियों ने अपनानी शुरू कर दी।

 

पढ़ें ये खास खबर- उपचुनाव : मतदान से दो दिन पहले बंद होंगी शराब दुकानें, बेचते या पीते दिखे तो होगी 6 महीने की जेल


क्या कहते हैं एक्सपर्ट

चुनाव प्रचार अंतिम समय चल रहा है। ऐसे में प्रत्याशियों के पास आराम करने का भी समय नहीं बच रहा है। रोजाना जनसंपर्क के दौरान लगातार दो-चार घंटे चलते रहने और रास्ते में मिलने वाले हर बुजुर्ग के पैर छूना पड़ता है। पैर छूने के लिए शरीर को बार बार झुकाने से बैक पैन होने लगता है। जेएएच अधीक्षक डॉ. आरकेएस धाकड़ के मुताबिक, अनियमित दिनचर्या, खानपान, बार-बार झुकने से कमर में दर्द होना स्वभाविक है। बैक पेन से बचने के लिए प्रत्याशी के लिए जरूरी है कि, वो जितना हो सके, झुकने से बचे, साथ ही पर्याप्त आराम भी करे। बार-बार झुकने की नौबत है तो सतर्कता बरतनी बेहद जरूरी है। ऐसी स्थिति में बेल्ट बांधकर रखना चाहिए।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned