40 लाख से कम टर्नओवर वाले ज्वैलरी कारोबारी यदि हॉलमार्क वाली ज्वैलरी बेचते हैं तो कराना होगा रजिस्ट्रेशन

- चैंबर ऑफ कॉमर्स में हॉलमार्क ज्वैलरी पर हुए सेमिनार में सराफा कारोबारी बोले हॉलमार्क हमें स्वीकार, पर हॉलमार्क यूनिक आइडी (एचयूआइडी) की पेचीदगियों को सरल बनाएं

By: Narendra Kuiya

Published: 21 Jul 2021, 09:02 AM IST

ग्वालियर. हॉलमार्क ज्वैलरी को लेकर मंगलवार को मप्र चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के सभागार में हुए सेमिनार में सराफा कारोबारियों ने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआइएस), भोपाल से आए अधिकारियों के समक्ष कहा कि हॉलमार्क हमें पूरी तरह स्वीकार है, पर हॉलमार्क यूनिक आइडी (एचयूआइडी) की पेचीदगियों को सरल बनाएं। ये आम सराफा कारोबारी की समझ से बाहर है। सेमिनार में मुख्य वक्ता के रूप में हॉलमार्क कॉर्डिनेटर आकांक्षा मिश्रा एवं स्टैंडर्ड प्रमोशनल ऑफिसर श्रीधर पांडे मौजूद थे। स्टेण्डर्ड प्रमोशनल ऑफिसर श्रीधर पाण्डे ने बीआइएस के प्राथमिक रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को पावर पॉइंट प्रजेंटेशन के जरिए समझाया, वहीं हॉलमार्क कॉर्डिनेटर आकांक्षा मिश्रा ने सराफा कारोबारियों की जिज्ञासाओं को शांत किया। इस मौके पर चैंबर अध्यक्ष विजय गोयल, मानसेवी सचिव डॉ.प्रवीण अग्रवाल, संयुक्त अध्यक्ष प्रशांत गंगवाल सहित सराफा कारोबारी उपस्थित थे।

तो कराना पड़ेगा रजिस्ट्रेशन
हॉलमार्क कोर्डिनेटर आकांक्षा मिश्रा ने बताया कि जिस जिले में भी एसाईंग सेंटर है, उस जिले में हॉलमार्क उन कारोबारियों के लिए अनिवार्य किया गया है जिनका टर्नओवर 40 लाख या उससे अधिक है। ग्वालियर जिले में यह सेंटर है, इसलिए यहां पर यह अनिवार्य किया गया है। हॉलमार्क के लिए बीआइएस में रजिस्ट्रेशन 40 लाख से कम टर्नओवर वाले कारोबारियों को करना अनिवार्य नहीं, यह ऐच्छिक है। यदि वह हॉलमार्क वाली ज्वेलरी विक्रय करना चाहते हैं तो उन्हें यह रजिस्ट्रेशन लेना होगा। आपने बताया कि हॉलमार्क सोने की 14, 18, 22 कैरेट वाली कैटेगरी पर ही लागू होगा, चांदी पर नहीं। 2 ग्राम से कम की ज्वेलरी पर हॉलमार्क लागू नहीं होगा।

ऐसे चला सवाल-जवाब का सिलसिला
- रमेशचंद्र गोयल लल्ला ने कहा कि जिन कारोबारियों ने बीआइएस में रजिस्ट्रेशन कराया है, उन्हें नोटिस देकर 31 जुलाई तक हॉलमार्क वाली ज्वेलरी के स्टॉक की जानकारी मांगी गई है। हॉलमार्क के तहत 14, 18, 22 कैरेट के सोना की जानकारी ही चाही गई है। तब हमारे पास जो अन्य तीन कैटेगरी 20, 21, 24 का स्टॉक है, उसका हम क्या करेंगे, हमारे इस स्टॉक का क्या होगा?
जवाब - 20, 21 और 24 कैटेगरी की ज्वैलरी हमारे नए नियम में नहीं हैं। इस ज्वैलरी के लिए अभी कोई नोटिफिकेशन नहीं आया है। ये अभी पाइप लाइन में है।

- सोना-चांदी व्यवसाय संघ लश्कर के अध्यक्ष पुरुषोत्तम जैन ने कहा कि बीआइएस को उपभोक्ता को क्वालिटी युक्त माल मिले, इसके लिए अधिकृत किया गया है। ऐसे में हमसे अन्य विभागों की तरह स्टॉक की जानकारी क्यों मांगी जा रही है, इससे कारोबारी भयभीत हैं। इसकी जानकारी देने के लिए 31 जुलाई की समय सीमा कम है, इसे और बढाया जाना चाहिए।
जवाब - आपसे सिर्फ हॉलमार्क वाली ज्वैलरी की जानकारी चाही जा रही है ताकि जब आपके यहां हॉलमार्क की टीम आये तो उस जानकारी का मिलान हो सके। 31 जुलाई की समय सीमा को बढाने की मांग को हम आगे फॉरवर्ड करेंगे।

- सुनील गोयल ने पूछा कि जब हम हॉलमार्क के लिए एसाईंग सेंटर को ज्वैलरी देंगे और यदि सेंटर से हमारा सोना या ज्वेलरी चोरी हो जाता है तब उसकी जवाबदारी किसकी होगी?
जवाब - एसाईंग सेंटर पर आपकी ओर से जो ज्वैलरी दी जायेगी उसकी एक रिसीप्ट प्रभारी अधिकारी द्बारा आपको दी जायेगी और उसकी जिम्मेदारी एसाईंग सेंटर की होगी।

- अनंत जैन ने कहा कि मैं बीआइएस रजिस्टर्ड ज्वेलर्स कारोबारी हूं और मुझसे दतिया, मुरैना, सबलगढ, श्योपुर आदि जिलों के व्यापारी माल खरीदते हैं लेकिन वहां पर एसाईंग-हॉलमार्क सेंटर न होने से उन पर बीआइएस रजिस्ट्रेशन लागू नहीं होता हैं। ऐसे में वे मुझसे बीआइएस हॉलमार्क वाली जो ज्वैलरी खरीद कर ले गये हैं, तो क्या वह उसे विक्रय कर सकते हैं, यदि नहीं तो मेरा तो कारोबार ही बुरी तरह प्रभावित हो जायेगा।
जवाब - हॉलमार्क वाली ज्वैलरी केवल बीआइएस में रजिस्टर्ड ज्वैलर्स ही विक्रय कर सकते हैं। इसलिए जो भी हॉलमार्क वाली ज्वैलरी विक्रय करना चाहते हैं, उन्हें बीआइएस में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए जिन व्यापारियों का टर्नओवर 40 लाख से कम है, वह भी ऐच्छिक रूप से बीआइएस में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

- अखिलेश गोयल ने कहा कि ग्राहक से हॉलमार्क की फीस को बिल में दर्शाया जाना अनिवार्य किया गया है। हॉलमार्क पर 18 प्रतिशत जीएसटी है और ज्वैलरी पर 3 प्रतिशत जीएसटी है, तब बिलिंग में काफी परेशानी आयेगी। इसलिए इन दोनों पर जीएसटी समान होनी चाहिए। बेहतर है हॉलमार्क पर जीएसटी को 18 प्रतिशत से घटाकर 3 प्रतिशत किया जाये।
जवाब - हॉलमार्क चार्ज का मेंशन आपको बिल में करना होगा, आपसे जो फीडबैक मिला है, उसे उच्च स्तर पर भेजेंगे।

- अजय मंगल ने कहा कि कई बार ज्वैलरी अलग-अलग पार्ट को मिलाकर बनाई जाती है, तब क्या हर पार्ट पर हॉलमार्क होना चाहिए। इसी प्रकार किसी ज्वैलरी को अलग-अलग पार्ट में विक्रय किया जाता है, तब किस प्रकार हॉलमार्क को दर्शायेंगे।
जवाब - इसके लिए हर आर्टिकल की अलग-अलग एचयूआइडी लेनी पड़ेगी।

Narendra Kuiya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned