scriptIf the name is not transferred within 30 days of registration, the off | रजिस्ट्री के 30 दिन के भीतर नामांतरण नहीं किया तो अधिकारी खुद को निलंबित समझे | Patrika News

रजिस्ट्री के 30 दिन के भीतर नामांतरण नहीं किया तो अधिकारी खुद को निलंबित समझे

locationग्वालियरPublished: Jan 31, 2024 09:49:24 pm

Submitted by:

Balbir Rawat

राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा ने बुधवार को राजस्व महाअभियान की समीक्षा करते हुए राजस्व प्रकरणों को लेकर नाराजगी जताई की। उनके सामने विवादित व अविवादित प्रकरण रखे गए तो हर स्तर पर पेडेंसी थी। इसको लेकर उन्होंने कहा कि रजिस्ट्री के 30 दिन के भी पक्षकार का नामांतरण नहीं होता है तो वह अधिकारी खुद को निलंबित कर ले।

रजिस्ट्री के 30 दिन के भीतर नामांतरण नहीं किया तो अधिकारी खुद को निलंबित समझे
रजिस्ट्री के 30 दिन के भीतर नामांतरण नहीं किया तो अधिकारी खुद को निलंबित समझे
जो ईमानदारी से काम करेंगे, उनका मनचाही जगह पर नामांतरण होगा। बेईमानी तो सरकार उसका बंटवारा कर देगी, यानी उन्हें अपनी जगह छोडऩी होगी। उन्होंने सवाल किया कि निर्धारित सीमा का इंतजार क्यों किया जाता है। मामले को पहले क्यों निराकृत नहीं किया जाता है। इसमें दिक्कत क्या होती है।
राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा व आयुक्त भू अभिलेख विवेक पोरवाल ने राजस्व भवन में राजस्व महाअभियान की समीक्षा की। ग्वालियर संभाग के अधिकारी इस बैठक में मौजूद थे। मंत्री ने कहा कि नामांतरण, सीमांकन व बंटवारा प्रकरणों का निराकरण निर्धारित समयावधि के भीतर करें। निराकरण के लिए पटवारी के साथ-साथ नायब तहसीलदार, तहसीलदार व एसडीएम भी गांव-गांव पहुंचें। बैठक में महापौर डॉ. शोभा सिकरवार, विधायक सतीश सिकरवार, आयुक्त भू-अभिलेख विवेक पोरवाल, कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह, अपर आयुक्त भू-अभिलेख गुंचा सनोबर आदि मौजूद थे। हर जिले में अविवादित नामांतरण बड़ी संख्या में लंबित हैं, लेकिन उनका नामांतरण नहीं किया जा रहा है। इसको लेकर भी पूछा कि ऐसे प्रकरणों को क्यों रोका जाता है। ये पांच या सात दिन में नहीं हो सकते हैं।
एक ही स्थान पर तीन साल से पदस्थ पटवारी हटाए जाएं

  • राजस्व मंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्र में एक ही स्थान पर तीन साल से अधिक समय से पदस्थ पटवारियों का स्थानांतरण किया जाए। उन्होंने आयुक्त भू-अभिलेख एवं जिला कलेक्टर को इस दिशा में कार्रवाई करने के निर्देश दिए। विधायक सतीश सिकरवार ने भी इस मुद्दे को बैठक में उठाया और कहा कि शहर क्षेत्र में लंबे समय से पटवारी जमे हैं। ये भ्रष्टाचार कर रहे हैं।
  • बैठक के बाद जन-सुनवाई भी की। उन्होंने एक एक कर लोगों की राजस्व संबंधी समस्याएं सुनीं और संबंधित अधिकारियों को समस्याओं का निराकरण करने के निर्देश दिए।
  • सभी राजस्व अधिकारी सकारात्मक सोच एवं किसानों की मदद के भाव के साथ जल्द से जल्द प्रकरणों का निराकरण करें, जिससे आम आदमी का विभाग के प्रति विश्वास और आप सबके प्रति मान बढ़ेगा।

ट्रेंडिंग वीडियो