पॉश कॉलोनी में सरकारी मैदान पर रेत का अवैध फड़

पॉश कॉलोनी में सरकारी मैदान पर रेत का अवैध फड़

Rajesh Shrivastava | Publish: Jun, 14 2019 07:40:10 PM (IST) gwalior

सरकारी मैदान में रेत के बड़े टीलों से जाहिर है कि यहां से रेत बेची जा रही है। नया मकान बनाने वालों के अलावा आसपास के इलाकों में भी रेत की बड़ी सप्लाई इसी ठिकाने से है, लेकिन इस अड्डे पर कार्रवाई नहीं होती।

ग्वालियर. रेत का अवैध कारोबार फॉरेस्ट, रेवेन्यू और पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है। इस पर कंट्रोल के लिए ज्वॉइंट ऑपरेशन में कार्रवाई की दंभ कई बार भरी गई है। इन विभागों का दावा है कि शहर में अवैध रेत का परिवहन चोरी छिपे ही संचालित है, लेकिन हकीकत में रेत माफियाओं पर काबू की दलीलें थोथी हैं। पॉश कॉलोनी आनंद नगर रेत मािफयाओं का बड़ा अड्डा बन चुकी है। यहां बस स्टैंड की सरकारी जगह पर रेत माफियाओं ने कब्जा कर लिया है। यहां मैदान पर रात से सुबह तडक़े डंपर, ट्रॉली रेत लाकर पटकते हैं। यहां रहने वाले बताते हैं कि रेत का यह कारोबार सरेआम चल रहा है। सरकारी मैदान में रेत के बड़े टीलों से जाहिर है कि यहां से रेत बेची जा रही है। नया मकान बनाने वालों के अलावा आसपास के इलाकों में भी रेत की बड़ी सप्लाई इसी ठिकाने से है, लेकिन इस अड्डे पर कार्रवाई नहीं होती। कई बार लोग चुपचाप फॉरेस्ट और रेवेन्यू विभाग के कान में भी बता चुके हैं कि रेत का अवैध कारोबार कॉलोनी में चल रहा है।
खुले में आपरेट होता ऑफिस
रेत का अवैध कारोबार करने वाले ग्राहकों से संपर्क के लिए फड़ के पास खुले आसमान के नीचे कुर्सी टेबल डालकर सुबह से शाम तक बैठते हैं। कॉलोनी वालों के मुताबिक कुछ समय पहले तक इस मैदान में गरीबों ने टपरे डाल लिए थे, रेत माफियाओं ने बेसहाराओं को खदेड़ कर मैदान पर कब्जा किया है। उसके बाद से सरकारी मैदान रेत का अवैध अड्डा बन गया है।
चंबल से आती रेत
पॉश कॉलोनी में ज्यादातर रेत चंबल से आती है। क्योंकि जो लोग पॉश कॉलोनी में रसूख की दम पर रेत का अवैध कारोबार कर रहे हैं, उनका लिंक मुरैना में चंबल किनारे बसे रेत का अवैध उत्खन्न करने वालों से हैं। इसके अलावा मुरैना से शहर में दाखिल होने के लिए आनंद नगर सबसे नजदीकि प्वॉइंट है, इसलिए रेत माफियाओं के गुर्गे रात के वक्त मुरैना से चोर रास्तों से होकर शहर में दाखिल होते हैं और कॉलोनी में पहुंचकर रेत को डंप करते हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned