scriptInsurance company did not pay the full cost of Covid treatment, now co | बीमा कंपनी ने नहीं दिया कोविड के इलाज का पूरा खर्च, अब पूरे खर्च के साथ क्षतिपूर्ति भी देनी होगी | Patrika News

बीमा कंपनी ने नहीं दिया कोविड के इलाज का पूरा खर्च, अब पूरे खर्च के साथ क्षतिपूर्ति भी देनी होगी

locationग्वालियरPublished: Feb 02, 2024 03:03:40 am

- ग्लब्ज, पीपीई किट सहित अन्य खर्चों के रुपए काटे थे

बीमा कंपनी ने नहीं दिया कोविड के इलाज का पूरा खर्च, अब पूरे खर्च के साथ क्षतिपूर्ति भी देनी होगी
बीमा कंपनी ने नहीं दिया कोविड के इलाज का पूरा खर्च, अब पूरे खर्च के साथ क्षतिपूर्ति भी देनी होगी
ग्वालियर। जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण आयोग ने बीमा कंपनी को इलाज का पूरा खर्च देने का आदेश दिया है। सेवा में कमी करके परिवादी को मानसिक पीड़ा पहुंचाई है, उसके बदले में 3 हजार रुपए देने हाेंगे।एक हजार रुपए केस लड़ने का खर्च देना होगा। बीमा कंपनी ने मरीज का खाना, ग्लब्ज, पीपीई किट के पैसे काट लिए थे।
21 नवंबर 2020 को दिव्या दुबे कोविड-19 से संक्रमित हो गई थीं। उनके पास केयर हेल्थ कंपनी की बीमा पॉलिसी थी। कंपनी ने कैशलेस इलाज का भरोसा दिया था। दिव्या की तबीयत खराब होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। बीमा कंपनी को इसकी सूचना दी और कैशलेस इलाज के बारे में जानकारी दी गई। उनके इलाज में करीब 1 लाख 90 हजार रुपए का खर्च आया। अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया तो बीमा कंपनी ने पूरी राशि अदा नहीं की। खर्च से पैसे काट लिए। इसके बाद कंपनी को नोटिस दिया। कंपनी ने इलाज के खर्च के रुपए वापस नहीं किए। इसके बाद फोरम में परिवाद दायर किया। बीमा कंपनी की ओर से तर्क दिया गया कि परिवादी ने क्लेम में नॉन मेडिकल एक्सपेंसेस शामिल कर दिए। जैसे कि खाना, ग्लब्ज, पीपीई किट, रजिस्ट्रेशन चार्ज शामिल किए। इन खर्चों की राशि क्लेम में कवर नहीं होती है। इसलिए परिवाद को खारिज किया जाए। यह गलत तथ्यों के आधार पर पेश किया गया है। कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद आदेश दिया कि बीमा कंपनी ने जो 15 हजार रुपए काटे थे, वह परिवादी को वापस किए जाएं।

ट्रेंडिंग वीडियो