जीडीपी बढ़ाने के लिए एक्सपोर्ट पर ध्यान देना जरूरी

आइटीएम यूनिवर्सिटी में वर्कशॉप

By: Mahesh Gupta

Published: 30 Jun 2020, 11:16 PM IST

ग्वालियर.
देश में रोजगार बढ़ाने और स्थायी तौर पर जीडीपी की वृद्धि करने के लिए हर देश को बेहतर एक्सपोर्ट टर्नओवर पर ध्यान देना होगा। इंटरनेशनल ट्रेड प्रोग्राम प्रतिभागियों की इंटरनेशनल ट्रेड एन्वॉयर्नमेंट के प्रति नॉलेज बढ़ाने, भारत का एक्सपोर्ट इम्पोर्ट ट्रेड, प्रक्रिया और इससे सम्बंधित डॉक्युमेंटेशन के लिए है। इसकी टम्र्स एंड कंडीशन व पॉलिसीज को विस्तार से समझना जरूरी है। आइटीएम यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मैनेजमेंट ने एमबीए स्टूडें्ट्स के लिए सात दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस वर्कशॉप को कार्पोरेटर ट्रेनर व सीए के. राजशेखरन ने उद्बोधित किया।

समझा एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट के बीच अंतर
के. राजशेखरन ने पहले सेशन में भारत के एक्सपोर्ट इम्पोर्ट कम्पोजीशन, बैलेंस ऑफ ट्रेड के बारे में चर्चा की। जो वस्तुओं के एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट के बीच का अंतर होता है। पेमेंट का बैलेंस, जो वस्तुओं के स्टेटिस्टिकल स्टेटमेंट, सर्विस और इंकम को दर्शाता है। दूसरे सेशन में एक्सपोर्ट ट्रेड के शुरुआती चरणों के बारे में बताया गया। इसमें एक्सपोर्टर और इम्पोर्टर के एग्रीमेंट के बीच की रिसीविंग और रिसिप्ट के बारे में समझाया।

Mahesh Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned