प्रतीकात्मक होली मनाने से पूर्व मंत्री नाराज, कहा- परम्पराओं का दीप बुझ गया

पवैया ने ट्वीट में लिखा है कि माना कि जीवन की रक्षा पहला धर्म है पर संकट काल में भी परम्पराओं का दीप बुझ गया तो समाज-जीवन निष्प्राण हो जाएगा।

By: Pawan Tiwari

Published: 28 Mar 2021, 03:05 PM IST

ग्वालियर. होली त्योहार को प्रतीकात्मक रूप से मनाने के आदेश को लेकर भाजपा नेता भी विरोध में आ गए हैं। होली को लेकर पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने ट्वीट कर विरोध प्रकट किया है।

पवैया ने ट्वीट में लिखा है कि माना कि जीवन की रक्षा पहला धर्म है पर संकट काल में भी परम्पराओं का दीप बुझ गया तो समाज-जीवन निष्प्राण हो जाएगा। अनेक गांवों और नगरों में सार्वजनिक होलिका की अग्नि से ही घर में होली जलती है। प्रतीकात्मक होली का तो मैं भी समर्थक नहीं। वह चाहे जनता की ओर से हो या प्रशासन से।

सरकार द्वारा दिए गए प्रतीकात्मक होली के आदेश से हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को गहरा आघात पहुंचा है, एक तरफ बड़ी-बड़ी चुनावी सभाएं रैलियां आयोजित की जा रही हैं वहीं हिन्दुओं को अपने त्योहार मनाने से रोकने के कुत्सित प्रयास किए जा रहे हैं।

हिंदू महासभा ने इस फैसले को धर्म विरोधी बताते हुए कड़ी निंदा की है। कोर कमेटी की बैठक में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. जयवीर भारद्वाज, प्रदेश उपाध्यक्ष रामबाबू सेन, प्रदेश महामंत्री विनोद जोशी प्रदेश संगठन मंत्री लालजी शर्मा संभागीय अध्यक्ष पवन गुप्ता आदि शामिल थे।

कोरोना के कारण फैसला
बता दें कि मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने तय किया है कि इस बार होली का त्यौहार अपने ही घरों में मनाया जाए। लोग सामूहिक रूप से होली ना मनाएं।

Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned