scriptJansunwai सीईओ ने पूछे पांच सवाल, छात्र ने चार का दिया सही जवाब, अब जेईई की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग पढाई जाएगी | Patrika News
ग्वालियर

Jansunwai सीईओ ने पूछे पांच सवाल, छात्र ने चार का दिया सही जवाब, अब जेईई की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग पढाई जाएगी

आचार संहिता समाप्त होने के 86 दिन बाद सभी विभागों में शुरू हुई जनसुनवाई में बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे। ऐसा ही एक रोचक मामला कलेक्ट्रेट में सामने आया जहां एक छात्र की राह में गरीबी रोड़ा बन

ग्वालियरJun 12, 2024 / 05:58 pm

रिज़वान खान

Jansunwai आचार संहिता समाप्त होने के 86 दिन बाद सभी विभागों में शुरू हुई जनसुनवाई में बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे। ऐसा ही एक रोचक मामला कलेक्ट्रेट में सामने आया जहां एक छात्र की राह में गरीबी रोड़ा बन

Jansunwai

जन सुनवाई में मदद के लिए पहुंची थी महिला, बेटा व बेटी को नहीं पढ़ा पा रही थी

Jansunwai आचार संहिता समाप्त होने के 86 दिन बाद सभी विभागों में शुरू हुई जनसुनवाई में बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे। ऐसा ही एक रोचक मामला कलेक्ट्रेट में सामने आया जहां एक छात्र की राह में गरीबी रोड़ा बन रही थी और इंजीनियर बनने का रास्ता काफी कठिन लग रहा था, उसकी प्रतिभा ने सभी रोडे़ दूर कर दिए और अब जेईई की नि:शुल्क कोचिंग करेगा। क्योंकि उसने अपनी प्रतिभा का परिचय जनसुनवाई में जिला पंचायत सीईओ के सामने दिया। सीईओ विवेक कुमार सिंह ने अर्पित पाल के सामने पांच सवाल करने की शर्त रखी और कहा कि जवाब सही दिए तो उसे जेईई की कोचिंग कराएंगे। फिजिक्स व गणित के पांच सवाल दिए। अर्पित ने चार सवालों के सही जवाब दिए। इससे खुश होकर जिला पंचायत सीईओ ने अच्छी कोचिंग में दाखिला कराने के निर्देश दिए। यदि शासन से सहायता नहीं मिलती है तो जिला पंचायत सीईओ कोचिंग की फीस भरेंगे।
Gwalior News: प्यार में पागल निकली आधी रात को दरवाजा खटकाने वाली स्त्री, प्रेमी को ढूंढ़ने के अंदाज से दहशत में आए लोग

आचार संहिता समाप्त होने के 86 दिन बाद सभी विभागों में शुरू हुई जनसुनवाई

आचार संहिता समाप्त होने के बाद 86 दिन बाद कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई शुरू हुई। पहले दिन लोगों की भारी भीड़ थी। कलेक्टर रुचिका चौहान, जिला पंचायत सीईओ सहित अपर कलेक्टर जनसुनवाई में मौजूद रहे। करीब 175 लोग अपनी शिकायत लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे, जिसमें नामांतरण, अतिक्रमण व आर्थिक सहायता के केस थे।
Honey Trap: प्रेमी के साथ भागी, जयपुर के कारोबारी को दिल्ली बुलाया, बंधक बनाकर 50 लाख मांगे, कत्ल की गुत्थी का बड़ा खुलासा

मां के साथ पहुंचा था कलेक्ट्रेट

अर्पित पाल मां रेनू के साथ कलेक्ट्रेट में पहुंचा। मां ने बताया कि पति का निधन हो चुका है। घरों में काम करके पांच से छह हजार रुपए कमा पाती है। यह पैसा घर की जरूरत को पूरा करने में खर्च हो जाता है। बच्चों को नहीं पढ़ा पा रही है। अर्पित जेईई करके सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है, लेकिन कोचिंग करने के लिए पैसे नहीं हैं।
  • जिला पंचायत सीईओ ने अर्पित का आवेदन पढ़ा और अर्पित को चैलेंज किया कि यदि पांच सवालों के जवाब दे दिए, तो उसे नि:शुल्क कोचिंग कराई जाएगी।
  • अर्पित ने एक बाद एक सवालों को जवाब दिए। अपनी प्रतिभा के दम पर जेईई की नि:शुल्क कोचिंग का भरोसा मिल गया। इससे मां व बेटे की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

Hindi News/ Gwalior / Jansunwai सीईओ ने पूछे पांच सवाल, छात्र ने चार का दिया सही जवाब, अब जेईई की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग पढाई जाएगी

ट्रेंडिंग वीडियो