छात्रों ने यूनिवर्सिटी में मचाया उपद्रव,प्रशासन के उड़े होश

छात्रों ने यूनिवर्सिटी में मचाया उपद्रव,प्रशासन के उड़े होश

monu sahu | Publish: Jul, 22 2018 04:13:02 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

छात्रों ने यूनिवर्सिटी में मचाया उपद्रव,प्रशासन के उड़े होश

ग्वालियर। जीवाजी यूनिवर्सिटी (जेयू) में स्पेशल यूजी पंचम और षष्टम सेमेस्टर एटीकेटी परीक्षा में फॉर्म न खुल पाने के कारण छात्रों ने सुबह ११ बजे असिसटेंट रजिस्ट्रार परीक्षा एसएस तेवतिया का दफ्तर घेरकर उपद्रव शुरू कर दिया। जब यह जानकारी विवि के सिक्योरिटी प्रभारी राजवीर सिंह सेंगर को लगी तो वे अपने साथियों के साथ मौके पर पहुंचे और छात्रों की समस्या सुनी। उनकी शिकायत थी कि उनके चार सेमेस्टर क्लीयर हैं, फिर भी उनके परीक्षा फॉर्म ओपन नहीं हो रहे हैं। छात्रों का कहना था कि उनके परीक्षा फॉर्म नहीं खुल रहे हैं।

 

सोमवार को परीक्षा फॉर्म भरने की अंतिम तिथि है। छात्रों की बात सुन सेंगर ने कहा कि यह काम एआर तेवतिया का नहीं है। आज अवकाश के कारण दफ्तर बंद हैं। सभी लोग आईटी प्रभारी संजय भरतरिया से मिलें, तब काम होगा। तब सभी छात्र रूम नंबर 16 में पहुंचे जहां अवकाश होने के कारण कर्मचारी नहीं थे।

 

काम न होने पर छात्रों ने यहां भी उपद्रव मचाना शुरू कर दिया। जब यह जानकारी कुलसचिव डॉ.आनंद मिश्रा को लगी तो उन्होंने मौके पर जाकर छात्रों को समझाया और परीक्षा फॉर्म भी डेट बढ़ाने का आश्वासन दिया।

 

इसलिए नहीं खुल रहे थे परीक्षा फॉर्म
स्पेशल एटीकेटी के लिए परीक्षा फॉर्म भरने आए छात्रों के परीक्षा फॉर्म इसलिए नहीं खुल रहे थे क्यों कि कई छात्रों ने अपने कॉलेजों में फीस जमा नहीं की थी जिससे कॉलेज ने उनके फॉर्म अपडेट नहीं किए थे। वहीं कुछ छात्र ऐसे भी थे जिनके पिछले सेमेस्टर क्लीयर नहीं थे, इसलिए उनके परीक्षा फॉर्म नहीं भर पाए।

 

चार घंटे तक मचता रहा उपद्रव
विवि में शनिवार का अवकाश होने के कारण छात्रों की समस्याओं का निराकरण करने के लिए दो कर्मचारियों की व्यवस्था की गई। छात्रों की संख्या अधिक होने के कारण उन्हें दो-दो छात्रों के ग्रुप में अंदर भेजा गया। जिसके कारण प्रशासनिक भवन में करीब चार घंटे तक हंगामा मचता रहा।

 

"छात्रों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। जरूरत पड़ी तो परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि बढ़ाई जाएगी।"
डॉ.आनंद मिश्रा, कुलसचिव,जेयू

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned