कूनों में गूंज रही है दो शेरों की दहाड़ फोटो में देखिए कुछ खास नजारे

कूनो में गणना कर रही टीम को अगरा क्षेत्र में भी टाइगर के पगमार्क दिखे। जिससे जिले के जंगल में टाइगरों की संख्या एक से अधिक होने की बात कही जा रही है।

By: Gaurav Sen

Published: 10 Feb 2018, 05:22 PM IST

ग्वालियर/श्योपुर। मप्र के साथ ही श्योपुर के जंगल में भी वन्यजीवों की गणना का कार्य पिछले सप्ताह से किया जा रहा है। जिसका पहला चरण कल शनिवार को पूरा होने जा रहा है। पहले चरण के समापन से एक दिन पूर्व कूनो में गणना कर रही टीम को अगरा क्षेत्र में भी टाइगर के पगमार्क दिखे। जिससे जिले के जंगल में टाइगरों की संख्या एक से अधिक होने की बात कही जा रही है।

 

यह भी पढ़ें: CM ने बताया ऐसे जीत सकेंगे कोलारस का उपचुनाव, बस मंत्रियों को करना पड़ेगा ये काम

बताया जा रहा है कि कूनो में जो एक टाइगर था, वह वीरपुर से पालपुर के क्षेत्र में मौजूद था। यह जो अगरा क्षेत्र में पगमार्क मिले हैं, यह दूसरा टाइगर हो सकता है। कूनो अभयारण्य की 134 वीट में चल रही गणना टीमों के सूत्र बताते हैं कि पैंथरों की संख्या भी बढी है।

 

यह भी पढ़ें: धाय के पेड़ के प्रकट हुए भगवान भोलेनाथ, पानी को बना दिया था घी नहीं होने दी थी कोई कमी

 

क्योंकि इनके पगमार्क भी टीम को खासी संख्या में मिल रहे हैं। यहां बता दें कि जिले में 45 करीब पैंथर 4 वर्ष पूर्व की गणना में होना बताए गए थे। जिस लिहाज से यदि इनकी संख्या में इजाफा हुआ होगा, तो इनकी संख्या 50 से ज्यादा होना तय है। कूनो क्षेत्र में गणना कर रही टीम को अगरा क्षेत्र में भी मिले टाइगर के पगमार्क, पैंथर भी आधा सैकड़ा करीब होने की संभावना

 

यह भी पढ़ें: पुलिस वालों ने युवक को किया इतना परेशान की उसने भरे बाजार लगा ली खुद को आग, वीडियो में देखें क्या हुआ आगे

 


कैमरों के बाद स्थिति अधिक होगी साफ
यहां बता दें कि अभी पहले चरण की गणना की जा रही है, जिसके तहत प्रपत्र भरे जा रहे हैं, जिसमें क्षेत्र में किस जानवर के कितने पगमार्क मिले आदि को लिखा जा रहा है। बताया जा रहा है कि इसके बाद दूसरे चरण की जो गणना होगी, उसमें कैमरे, सैटेलाइट आदि की मदद ली जाएगी, इसके बाद ही वन्यजीवों की स्थिति साफ हो सकेगी। हालांकि इसकी रिपोर्ट देहरादून जाएगी, जहां से एक्सपर्ट गणना नियम से इसकी गणना करेंगे और इसके बाद रिपोर्ट को सभी के साथ जारी किया जाएगा।

kuno palpur scantury

यह सच है कि अगरा तरफ भी एक टाइगर के पगमार्क मिले हैं। मगर अभी कुछ नहीं कह सकते, गणना पैटर्न अलग है और एक दो करके गणना नहीं होती है। इसकी रिपोर्ट विशेषज्ञ पूरी गणना बाद परीक्षण आधार पर जारी करते हैं, तभी कुछ कहा जा सकता है।
ब्रिजेन्द्र श्रीवास्तव, डीएफओ, कूनो वनमण्डल श्योपुर

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned