बड़े साइज का रेयर पक्षी है 'ग्रेटर फ्लेर्मिगोÓ, समुद्र किनारे बनाता है बसेरा

चिडिय़ों का चहचहाना और आसपास बसेरा बनाना कम

ग्वालियर.

चिडिय़ों का चहचहाना और आसपास बसेरा बनाना कम होता जा रहा है। अब आसमान पर उड़ते परिंदों को नजदीक से देखना और उनको पहचानना मुश्किल हो रहा है। आमतौर पर हम इनसे अनजान ही रहते हैं। ग्वालियर के आसपास रहने वाले पक्षियों और अलग-अलग मौसम में आने वाले कुछ प्रवासी पक्षियों को आपसे रूबरू कराने का प्रयास पत्रिका कर रहा है। इस प्रयास को सफल बना रहे हैं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त बर्ड वॉचर संजय दत्त शर्मा। वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी को कॅरियर बनाने वाले शर्मा के कैमरे से ली गई 'ग्रेटर फ्लेर्मिगोÓ की तस्वीर आज प्रकाशित की जा रही है। हमारे इस प्रयास में आप न केवल इन पक्षियों की खूबसूरत तस्वीर देख सकेंगे, बल्कि उनके नाम और विशेषताओं को भी जान सकेंगे। साथ ही शर्मा बताएंगे कि एक तस्वीर को लेने के लिए कितना धैर्य रखना होता है और किस तरह के प्रयासों के बाद पक्षियों की बेहतरीन तस्वीर को कैमरे के फ्रेम में उतारा जाता है।

40 वर्ष का होता है जीवनकाल
'ग्रेटर फ्लेर्मिगोÓ अफ्रीका, एशिया, मिडिल ईस्ट, दक्षिणी यूरोप में पाया जाने वाला खूबसूरत पक्षी है। इसका बसेरा इंडिया में समुद्र के किनारे होता है। यह रेयर पक्षी है, जो इंडिया में बहुत कम ही दिखता है। कभी-कभी इसका आना तिघरा में होता है। इस खूबसूरत पक्षी का साइज लगभग 4 से 5 फीट लम्बा होता है। इसका जीवनकाल 40 वर्ष का रहता है। यह कीड़े, मकोड़े खाता है। इसे कभी-कभी सिंचाई के बाद खेतों में भी देखा गया है। यह एक बार में लम्बा ट्रेवल करता है। यह अकेला रहना पसंद करता है। इसे ग्रुप में कभी नहीं देखा जाता।

पांच साल में दूसरी बार ले पाया फोटो
संजय दत्त ने बताया कि इस पक्षी का फोटो लेना मेरे लिए चैलेंज भरा था क्योंकि इसका ग्वालियर आना रेयर होता है। फिरभी मैंने पांच साल के इंतजार के बाद तीसरी बार में फोटो खींचा। यह बहुत ही खूबसूरत पक्षी है। इसके पंख बहुत सुंदर होते हैं, जिनमें व्हाइट, ब्लैक और रेड का कॉम्बिनेशन होता है।

Mahesh Gupta
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned