हादसे के बाद भी नहीं ले रहे सबक, ओवरलोडिंग ऑटो दौड़ रहे सड़कों पर

जलालपुर हाईवे पर 23 मार्च को बस-ऑटो की भिड़ंत में 13 लोगों की मौत के बाद भी लोग सबक नहीं ले रहे हैं। गोल पहाडिय़ा क्षेत्र में दिनभर...

ग्वालियर. जलालपुर हाईवे पर 23 मार्च को बस-ऑटो की भिड़ंत में 13 लोगों की मौत के बाद भी लोग सबक नहीं ले रहे हैं। गोल पहाडिय़ा क्षेत्र में दिनभर ऑटो चालक ओवर लोडिंग सवारियों को बैठाकर बेखौफ ले जा रहे हैं। न तो पुलिस कोई कार्रवाई कर रही है और न ही आरटीओ विभाग इनके खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। यदि ऐसे में फिर से कोई हादसा हो गया तो आखिर इसका जिम्मेदार कौन होगा।


10 से 12 सवारियां और सामान भी ले जा सके ऑटो
गोल पहाडिय़ा से तिघरा, बेला की बावड़ी आदि क्षेत्र में बसों का साधन नहीं होने से अब यहां ऑटो ही लोगों का आवागमन का सहारा है, इसलिए ऑटो चालक ओवर लोडिंग करते हैं और लोगों का सामान भी लेकर आते हैं। प्रतिदिन सुबह से देररात यह नजारा देखने को मिल जाएगा, लेकिन इसके बाद भी न तो ट्रैफिक पुलिस और न ही आरटीओ विभाग इनके खिलाफ कार्रवाई कर रहा है।

हर प्वॉइंट पर हो रही वसूली
इन ओवर लोड़ ऑटो चालकों पर पुलिस इसलिए कार्रवाई नहीं करती है कि यह हर प्वॉइंट पर पदस्थ पुलिस वालों को पैसा देते हैं। इसलिए ऑटो चालक बेखौफ सवारियों को बैठाकर ले जाते हैं और कोई इनको रोकता-टोकता नहीं है। यदि ऐसे में हादसा हो जाए तो पुलिस वालों पर कोई कार्रवाई नहीं होती है, यदि पुलिस सख्ती करे तो ऑटो चालक सीमित संख्या में ही सवारियों को लेकर चले।

इस क्षेत्र में चल रहे ऑटो
शहर के कई क्षेत्र ऐसे हैं, जहां आने-जाने के लिए साधन नहीं हैं, इसलिए ऑटो और मैजिक चालक इन रूट पर वाहनों को चलाते हैं। गोल पहाडिय़ा, पुरानी छावनी, गोले का मंदिर से भिण्ड रोड, हुरावली, सिथौली, शिवपुरी रोड, शीलता माता मंदिर आदि क्षेत्र में ऑटो ओवर लोडिंग करते हैं, लेकिन इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है।

ट्रैफिक पुलिस के पास स्टाफ नहीं
शहर के आउटर में यदि ऑटो ओवर लोडिंग कर रहे हैं तो वहां के थानों को कार्रवाई करना चाहिए। ट्रैफिक पुलिस के पास इतना स्टाफ नहीं कि आउटर में पदस्थ किया जा सके, क्योंकि शहर की व्यवस्था को सुधारने के लिए काफी स्टाफ पदस्थ करना पड़ता है। शहर में ओवर लोडिंग का मामला सामने नहीं आया है, यदि शहर में ओवरलोडिंग करेंगे तो कार्रवाई की जाएगी।
नरेश कुमार अन्नोटिया, ट्रैफिक डीएसपी, ग्वालियर

ऑटो चालकों पर कार्रवाई करे पुलिस
यह बात सही है कि आऊटर में ऑटो चालक ओवर लोडिंग कर रहे हैं। ऐसे ऑटो चालकों के खिलाफ पुलिस को कार्रवाई करना चाहिए। पुलिस के सामने ऑटो चालक ओवर लोडिंग कर यात्रियों को लेकर जा रहे हैं तो एक तरह से लापरवाही है। यदि हादसा होता है तो जितना ऑटो चालक दोषी है उतनी ही पुलिस भी जिम्मेदार है।
नरेन्द्र सिंह कुशवाह, प्रदेश अध्यक्ष, प्राइवेट ट्रांसपोर्ट मजदूर महासंघ

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned