रिश्वत लेते नगर निगम कर्मचारी रंगे हाथ पकड़ा

रिश्वत लेते नगर निगम कर्मचारी रंगे हाथ पकड़ा

monu sahu | Updated: 04 Jun 2019, 06:27:19 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

लोकायुक्त पुलिस ने की कार्रवाई

ग्वालियर। नगर निगम के मदाखलत दस्ते में पदस्थ मस्टर कर्मचारी राकेश पाठक को लोकायुक्त पुलिस ने सोमवार को डेढ़ हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। जौरी गांव के मुनेश मोनू पचौरी से पाठक ने गन्ने के रस की चरखी न हटाने के एवज में यह रिश्वत ली थी। 500 रुपए यह कर्मचारी 31 मई को ले चुका था।

यह भी पढ़ें : भीषण गर्मी ने बढ़ाई टेंशन, पानी के लिए हाहाकार तो सडक़ों पर पसरा सन्नाटा

लोकायुक्त पुलिस के उप पुलिस अधीक्षक प्रद्युम्न पाराशर ने निरीक्षक आराधना डेविस व पीके चतुर्वेदी के साथ दोपहर में करीब साढ़े तीन बजे आरोपी को रिश्वत लेते पकड़ा। मोनू पचौरी एबी रोड पर पुलिस नियंत्रण कक्ष के पास गन्ने के रस की चरखी चलाता है।

यह भी पढ़ें : चुनाव के बाद भी नहीं शुरू हुए वीकली ऑफ,पुलिसकर्मियों को इंतजार कब मिलेगी छुट्टी

एक सप्ताह पूर्व मदाखलत दस्ते का प्रभारी राकेश पाठक उसका सामान उठवाकर आया था और मशीन हटाने की चेतावनी दी थी। इसके बाद मोनू ने मामला दबाने के लिए लेनदेन की बात की। पाठक से दो हजार रुपए में चरखी लगाए रखने पर सहमति बनी। इसके तहत 31 मई को मोनू ने पाठक को 500 रुपए भी दिए। इसके साथ ही इसकी पूरी सूचना पचौरी ने लोकायुक्त पुलिस को ग्वालियर जाकर दी।

यह भी पढ़ें : गर्मी ने बढ़ाई लोगों की टेंशन,मौसम वैज्ञानिक ने भी कही यह बात

इसके बाद लोकायुक्त पुलिस ने अपनी बिसात बिछाई और सोमवार को मेला मैदान के पास मंगल भवन में संचालित ननि के कार्यालय में राकेश पाठक ने जैसे ही मोनू पचौरी से बाकी के डेढ़ हजार रुपए लिए, लोकायुक्त पुलिस ने दबोच लिया। मौके पर ही आरोपी के हाथ धुलवाए गए तो उसके हाथ लाल हो गए। बाद में लोकायुक्त पुलिस ने प्रकरण तैयार किया।

यह भी पढ़ें : आज चांद दिखा तो कल मनेगी ईद,रोजेदार मांग रहे है अमन की दुआ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned