दिग्गज मंत्री के कहने पर दुकान पर लगी सील तोड़ फंसे व्यापारी, मंत्री और एसडीएम आमने-सामने

दिग्गज मंत्री के कहने पर दुकान पर लगी सील तोड़ फंसे व्यापारी, मंत्री और एसडीएम आमने-सामने
दिग्गज मंत्री के कहने पर दुकान पर लगी सील तोड़ फंसे व्यापारी, मंत्री और एसडीएम आमने-सामने

monu sahu | Updated: 23 Aug 2019, 07:30:32 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

एसडीएम ने कलेक्टर को भेजी पूरी जानकारी, मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश

ग्वालियर। डबरा कृषि उपज मंडी परिसर की 26 दुकानों को लेकर मंडी की भारसाधक अधिकारी जयति सिंह और प्रदेश की दिग्गज मंत्री के बीच ठन गई है। एसडीएम ने दुकानों का किराया जमा न करने पर दुकानें 16 अगस्त को सील कर दी थीं। जबकि मंत्री ने बुधवार को 15 दुकानों की व्यापारियों से सील तुड़वा दी। सील तोड़े जाने को लेकर एसडीएम ने कलेक्टर अनुराग चौधरी को रिपोर्ट भेज दी है। इस मामले को लेकरं मंत्री इमरती देवी और एसडीएम आमने सामने आ गए है। एसडीएम ने सील तोड़े जाने के संबंध में 11 व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर कलेक्टर को पत्र लिखा है।

इसे भी पढ़ें : Shree krishna janmashtami 2019 : श्री कृष्ण से मनचाहा वरदान चाहिए तो राशि अनुसार करें इन मंत्रों का जाप, चमक जाएगी किस्मत

जिस पर कलेक्टर ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए है। दिए पत्र में एसडीएम ने बताया है, 15 व्यापारियों के ही 60 हजार रुपए के चेक जमा हुए है। शेष 11 व्यापारियों ने असंवैधनिक तरीके से सील तोड़ी है। व्यापारियों की दुकान खोले जाने के संबंध में हुई बैठक में उन्हें कोई सूचना नहीं दी गई।

इसे भी पढ़ें : Shri Krishan Janmastami 2019: देश के इस मंदिर में यहां बिन राधा के पूजे जाते है भगवान श्री कृष्ण

गुरुवार को दिनभर दुकानों की सील तोड़े जाने का मामला गर्म रहा। दो घंटे तक मंत्री मंडी में रहीं और प्रशासनिक अमला नहीं पहुंचा। इस बात की भी बाजार में चर्चा रही। व्यापारियों के साथ बैठक कर मंत्री इमरती देवी ने दुकानें खुलवाईं और मंत्री पद का प्रभाव दिखाते हुए प्रशासनिक अमले को बुलवाया। जब व्यापारियों ने अवैध तरीके से दुकानों की सील खोली है तो पूरा मामला शासकीय कार्य में बाधा उत्पन्न का बनता है।

इसे भी पढ़ें : आज रात 12 बजे घर-घर जन्मेंगे कान्हा, ऐसे करें भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन

इन व्यापारियों ने नहीं किए थे शुल्क जमा
महावीर इंटरप्राइजेज, मै. ललिता एम्पोरियम, प्रेम ट्रेडर्स, बाबूलाल भूपेन्द्र कुमार, अमित ब्रदर्स, शीतला फूड प्रोडेक्ट अतुल ट्रेडर्स, अतुल कुमार अशोक कुमार, अग्रसेन ट्रेडर्स कंपनी, महेश ट्रेडर्स, अमरफूड प्रोडेक्ट, बनवारी राकेश कुमार, कैलादेवी ट्रेडर्स दमोदार प्रसाद अशोक कुमार, नवनीत ट्रैडर्स, ताज ट्रेडर्स, आरती ट्रेडर्स के दुकानों को सील किया गया था।

इसे भी पढ़ें : प्रदेश के इस मंदिर में करोड़ों के गहने पहनते हैं राधा-कृष्ण, लाखों की संख्या में आते है भक्त

मंत्री महिला एवं बाल विकास विभाग इमरती देवी सुमन ने बताया कि एसडीएम झूठ बोल रहीं है, व्यापारियों पर दबाव बनाया जा रहा है। किसी भी व्यापारी ने दुकानों की सील नहीं तोड़ी है सचिव ने राशि जमा करने पर खुलवाई है। वे मनमानी कर रहीं है, अपना प्रभाव दिखा रहीं है। पांच साल से मंडी शुल्क क्यों जमा नहीं कराया।

इसे भी पढ़ें : दो महीने पहले हुई इस महिला की शादी, पति के साथ सफर में हो गई गायब

एसडीएम डबरा जयति सिंह ने कहा कि दुकानों की सील तोड़ा जाना,गंभीर है इसलिए वरिष्ठों को बताया गया है और पूरे मामले से अवगत करा दिया गया है। मंंत्री के संबंध में कुछ नहीं बोलना चाहूंगी। वरिष्ठों द्वारा इस पूरे मामले को संज्ञान में लिया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned