scriptMakar Sankranti will be celebrated with charity | दान-पुण्य के साथ मनाया जाएगा मकर संक्रांति का पर्व | Patrika News

दान-पुण्य के साथ मनाया जाएगा मकर संक्रांति का पर्व

- खरमास के समाप्त होते ही शुरू होंगे मांगलिक कार्य

ग्वालियर

Published: January 14, 2022 10:28:29 am

ग्वालियर. सूर्य के 14 जनवरी को मकर राशि में प्रवेश करते ही उत्तरायण काल शुरू हो जाएगा। इस शुभ काल को देवताओं का दिन माना जाता है। इस वर्ष 2022 में पौष माह के शुक्ल पख की द्वाद्वशी तिथि पर शुक्रवार को रोहिणी नक्षत्र में सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होगा। शहरवासी मकर संक्रांति पर दान-पुण्य के साथ मकर संक्रांति मनाएंगे। हालांकि इस साल कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए श्रद्धालुओं को गाइडलाइन का पालन करते हुए पर्व मनाना होगा। मकर संक्रांति पर सूर्य के राशि बदलते ही खरमास समाप्त हो जाएगा। अब गृह प्रवेश एवं विवाह आदि मांगलिक कार्य संपन्न हो सकेंगे।
दान-पुण्य के साथ मनाया जाएगा मकर संक्रांति का पर्व
दान-पुण्य के साथ मनाया जाएगा मकर संक्रांति का पर्व
सूर्य भगवान की पूजा करके दान
मकर संक्रांति पर भगवान सूर्यदेव को अघ्र्य देकर शरीर को स्वस्थ रखने और सुख, शांति की प्रार्थना करते हैं। हवन करके फिर यथाशक्ति वस्त्र, तिल, गुड़ का दान किया जाता है। मकर संक्रांति पर महिलाएं 14 वस्तुओं का दान भी करती हैं। एक जैसी 14 वस्तुएं दान करने से सुख, सौभाग्य में वृद्धि की मान्यता है। इस बार मकर संक्रांति शुक्रवार युक्त होने के कारण मिश्रित फलदायी रहेगी। इस दिन सूर्य देवता धनु राशि से निकलकर मकर राशि में दोपहर 2.32 पर प्रवेश करेंगे। इसके चलते पुण्य काल सूर्य अस्त 5.55 तक यानी 3 घंटे 37 मिनट तक रहेगा।
पंजाबी समाज ने मनाया लोहड़ी पर्व
पंजाबी समुदाय का प्रमुख पर्व लोहड़ी और लाललोई उत्सव गुरुवार को मनाया गया। लोहड़ी पर्व पर पंजाबी समाज के लोगों ने कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना भी की। इसके लिए प्रदूषण रहित लोई सजाई गई और रात में समाज के सभी महिला-पुरूषों ने लोई की पूजा-अर्चना की। महिलाओं ने व्रत-उपवास रखकर परिवार के कल्याण की कामना की। वहीं माधव बाल निकेतन एवं वृद्ध आश्रम में बीते 8 माह से रह रहे पंजाबी विजन दंपत्ति विजन ने पूरे पारंपरिक तरीके से लोहड़ी का पर्व मनाया।
भगवान अयप्पा स्वामी की होगी पूजा-अर्चना
केरला समाज के लोग शुक्रवार को पोंगल का पर्व मनाएंगे। मुरार के सीपी कॉलोनी स्थित भगवान अयप्पा स्वामी मंदिर में सुबह से धार्मिक कार्यक्रम होंगे। शाम के समय यहां मुख्य द्वार से लेकर गर्भगृह तक दीपक जलाए जाएंगे।
तिल-गुड़ के लड्डू, गजक खूब बिके
मकर संक्रांति पर घर-घर में तिल, गुड़ की पापड़ी, लड्डू बनाकर पूजा-अर्चना करके दान करने की परंपरा निभाई जाती है। इसके चलते शहर में गुरुवार को गजक की दुकानों पर खरीदारों की खासी भीड़ देखने को मिली। धार्मिक मान्यता के अलावा वैज्ञानिक रूप से तिल को औषधि के रूप में सेवन किया जाता है। वरिष्ठ आयुर्वेद अनुसंधान अधिकारी डॉॅ.अनिल मंगल ने बताया कि तिल के सेवन से पित्त, कफ रोग से राहत मिलती है। साथ ही इससे इम्यूनिटी भी बढ़ती है। शरीर में तेल के अंश पहुंचते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.