दिन में फूंका पुतला, रात में 100 पर एफआइआर

भाजपा के एंटी माफिया अभियान के विरोध में शुक्रवार दोपहर को सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुतले फूंकने में कांग्रेस नेता के तमाम नेता कानून की जद में आए हैं।

By: Puneet Shriwastav

Published: 22 Nov 2020, 01:16 AM IST

ग्वालियर। भाजपा के एंटी माफिया अभियान के विरोध में शुक्रवार दोपहर को सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुतले फूंकने में कांग्रेस नेता के तमाम नेता कानून की जद में आए हैं। तीन थानों में 10 कांग्रेस नेताओं पर नामजद और करीब 90 अज्ञात पर एफआइआर हुई है।

पुलिस ने पुतला दहन के दौरान कोविड गाइडलाइन का उल्लघन किए जाने का हवाला दिया है। प्रदर्शनकारियों की इस लापरवाही से कोरोना संक्रमण के फैलाव का खतरा माना है। इस गलती पर थाटीपुर, ग्वालियर और माधवगंज पुलिस ने करीब 100 लोगों पर कोविड गाइडलाइन का उल्लघन और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत केस रजिस्टर किए हैं।
उपनगर ग्वालियर टीआई दीपक यादव ने बताया कि कांग्रेस के प्रदर्शनकारी शुक्रवार दोपहर को किला गेट पर पुतला दहन करने आए थे। इन लोगों ने चक्काजाम भी लगा दिया। प्रदर्शनकारियों को समझाया कि बाजार में जाम मत लगाओ सोशल डिस्टेसिंग खत्म होगी तो लोगों को कोरोना संक्रमण का खतरा होगा। लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं माने। इसलिए विनोद यादव, मुनेन्द्र भदौरिया, जितेन्द्र सिंह सहित 35 लोगों पर एफआइआर की।
इसी तरह थाटीपुर चौराहे बिना वजह जाम की स्थिति बनाकर पुतला दहन करने मेंं चतुभुर्ज धनोलिया, प्रेमसिंह रामसेवक, संतोष शर्मा सहित 70 लोगों पर केस किया गया।
माधवगंज चौराहा पर कैलाश चावला, आनंद शर्मा भैयालाल धीरज ढींगरा, सहित 30 लोगों ने प्रर्दशन किया, पुतला जलाया। एएसआई गंभीर सिंह ने बताया लगातार इन लोगों को समझाया गया कि भीड मत लगाओ लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं माने तो देर रात एफआइआर की।

Puneet Shriwastav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned