माफियाओं पर कंट््रोल करने ४५ मिनट सडक पर पुलिस अफसरों की मीटिंग

राजस्व ओर माइनिंग अधिकारी भी रहेंगे नाके पर मौजूद
नाकाबंदी के लिए हाइवे पर पुलिस अफसरों की बार्डर मीट

By: Puneet Shriwastav

Published: 03 Mar 2021, 01:53 AM IST

ग्वालियर। रेत और पत्थर माफियाओं पर नकेल कसने के लिए ग्वालियर और मुरेना पुलिस के अफसरों ने मंगलवार को निरावली चेकिंग प्वाइंट पर करीब ४५ मिनट तक मंथन किया। सडक पर बार्डर मीट में ग्वलियर रेंज आईजी अविनाश शर्मा, एसपी अमित सांघी, मुरेना एसपी सुनील पांडेय सहित पुलिस अधिकारी मौजूद थे। दरअसल ऑन रोड मीटिंग का मकसद चंबल नदी से रेत खोदकर लाने वालों को दबोचना था।

माफिया इसी रास्ते से ग्वालियर में एंट््री लेते हैं इसलिए उसे बंद करना था। इसमें तय हुआ कि ग्वालियर और मुरेना पुलिस के 25-25 जवान और उनके साथ राजस्व और माइनिंग के अधिकारी भी रहेंगे। क्योंकि वही पहचान सकते हैं कि रेत चंबल नदी लाई गई है या नही।


निरावली चेकिंग प्वाइंट, पुरानी छावनी पर मंगलवार दोपहर करीब 1:15 ग्वालियर और मुरेना पुलिस के अफसरों की गाडियां आकर रूकी तो लोग सकते में आ गए। आईजी ग्वालियर रेंज, ग्वालियर और मुरेना एसपी सहित करीब 2५ से ज्यादा पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों की टीम गाडियों से उतर कर हाइवे की सडक पर खडी हो गई। फिर तय हुआ कि रेत, माफियाओं पर नकेल कसने के लिए ज्वाइंट ऑपरेशन में क्या किया जा सकता है।

रेत माफियाअें की हरकतों से वाकिफ पुलिस अधिकारियों का कहना था कि रेत चोर दिन में तो दुबके रहते हैं। रात में चंबल नदी से रेत खोदकर झुंड में चलते हैं। मुरेना से बामौर तक रेत चोर गांव की कच्ची रास्तों से आ जाते हैं।

उसके बाद चोर रास्तो या निरावली प्वाइंट से शहर में दाखिल होते हैं। यहां फोर्स कम रहता है इसलिए माफिया मरने मारने पर उतारू होते हैं। उन्हें दबोचने के लिए पर्याप्त फोर्स और रेत की पहचान के लिए राजस्व और माइनिंग की टीम भी होना चाहिए।
यह तय हुआ
निरावली तिराहा ग्वालियर और मुरेना का बार्डर प्वाइंट है यहां दोनों जिलों के 25-25 जवान तैनात होंगे। उनके साथ माइनिंग और राजस्व की टीम भी रहेगी। अभी नाकाबंदी रात १2 से सुबह ८ बजे तक होगी। मंगलवार रात से ही शुरू किया जाएगा।

आने वाले दिनों में इसे राउंड द क्लॉक किया जा सकता है। उस दौरान 8 -8 घंटे की तीन शिफट में नाकों पर दोनों जिलों का फोर्स और राजस्व और माइनिंग की टीम रहेंगी। सीएसपी महाराजपुरा रवि भदौरिया और बामौर एसडीओपी नाकाबंदी की निगरानी करेंगे।
माफिया ऐसे करते हमला, यह होगा बचाव
सडक पर मंथन में पुलिसकर्मियों ने अफसरों को बताया कि रेत ओर पत्थर माफिया सामने पुलिस को देखकर हिंसक होते हैं। हावी होने के लिए माफिया, फायर करते हैं या फिर वाहन को सामने खडे चेकिंग फोर्स पर चढाने की कोशिश करते हैं।

इसके अलावा अक्सर रेत, पत्थर चोर डिवाइर पर वाहन चढाकर, खेत में वाहन सहित कूद कर या फिर भागते भागते ट््रॉली में लदा पत्थर या रेत पलट कर पीछा करने वालों का रास्ता रोकते हैं। इन हालातों से निपटने के लिए तय हुआ कि चेकिंग देखकर अगर माफिया भागते हैं तो चेकिंग प्वाइंट पर तैनात फोर्स के पास भी वाहन रहेंगे। इससे पुलिस उनका पीछा करेगी।
चोर रास्तों पर रहेगी, होगी घेराबंदी
निरावली प्वाइंट पर कसावट होगी तो रेत, पत्थर माफिया चोर रास्तों से शहर में दाखिल होने की कोशिश करेंगे, इस मसले पर भी मंथन हुआ। पुलिस अफसरों का कहना था कि चेकिंग प्वाइंट पर कसावट के साथ उन चोर रास्तों पर भी कसावट होगी जिसका इस्तेमाल माफिया मुरेना से आकर ग्वालियर में घुसने के लिए इस्तेमला करते हैं।
अपराधियों पर भी कसेगी नकेली
चेकिंग प्वाइंट पर ग्वालियर ओर मुरेना पुलिस की ज्वाइंट नाकेबंदी से रेत पत्थर माफियाओं के अलावा दूसरे अपराधियों की आवाजाही पर भी नकेल कसेगी। इसलिए मंगलवार को निरावली चेकिंग प्वाइंट पर जाकर बार्डर पर मुरेना पुलिस के साथ चर्चा की गई। यहां नाके पर दोनों जिलों की पुलिस पहरेदारी करेगी।
अविनाश शर्मा आईजी ग्वालियर रेंज
रात में शुरूआत होगी, दिन में कसेंगे शिकंजा
रेत चोर रात में सक्रिय होते हैं, इसलिए नाकाबंदी की शुरूआत मंगलवार रात से की जा रही है। रात १2 से सुबह 8 बजे तक दोनों जिलों का फोर्स यहां रहेगा। फिर कसावट को दिन में भी शुरू किया जाएगा। तीन शिफट में नाकाबंदी की जाएगी।
अमित सांघी एसपी ग्वालियर
माफियाओं के रास्ते बंद होंगे
मुरेना और ग्वालियर के एंट््री प्वाइंट निरावली पर पुलिस, राजस्व और माइंनिंग की टीम रहेंगी तो माफियाओं का रास्ता बंद होगा। माफिया चोर रास्तों का इस्तेमाल करेंगे तो वहां भी रोक लगाई जााएगी। जब रेत चोर मुरेना से ग्वािलयर में एंट््री नहीं कर पाएंगे तो रेत चोरी का धंधा भी ठप होगा।
सुनील पांडेय एसपी मुरेना

Puneet Shriwastav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned