MP ELECTION 2018: ऐसे करोगे काम तो डूब जाएगी शिवराज सरकार, जानिए इन शब्दों के पीछे की क्या है वजह

MP ELECTION 2018: ऐसे करोगे काम तो डूब जाएगी शिवराज सरकार, जानिए इन शब्दों के पीछे की क्या है वजह

By: Gaurav Sen

Updated: 07 Jun 2018, 08:47 PM IST

शिवपुरी। जिस तरह से आप लोग काम कर रहे हो, उससे तो हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाएगा। ऐसे तो आप लोग शिवराज सरकार को डुबो ही दोगे। यह बात बुधवार को पिछोर के ग्राम नावली में स्कूल व सड़क के लोकार्पण कार्यक्रम के बाद ग्राम चौपाल में कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कही।

 

NEWS : जेब में रखे 2150 रू. और छोड़ दिया लाचार बुजुर्ग को लावारिस, देखिए कहीं ये व्यक्ति आपकी जान पहचान के तो नहीं....

मंत्री ने जब ग्रामीणों से पूछकर योजनाओं का क्रॉस चेक किया, तो कई खामियां मिलीं। कर्मचारियों की क्लास लेने के साथ ही चंदावनी में पीएचई के सब इंजीनियर को फटकार लगाते हुए कहा कि अपना बोरिया बिस्तर बांधकर नीमडांडा चले जाओ और सात दिन तक गांव में रुकना। साथ ही उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि सब इंजीनियर को सात दिन तक पानी नहीं देना, तब अहसास होगा कि प्यास क्या होती है। इस मौके पर कलेक्टर शिल्पा गुप्ता व एसपी सुनील पांडेय सहित सभी विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

बुधवार की सुबह लगभग 10.30 बजे मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया का काफिला ग्राम नावली पहुंचा। जहां पर उन्होंने स्कूल भवन का लोकार्पण करने के बाद जब मंच संभाला तो फिर एक-एक योजना के क्रियान्वयन की जानकारी ली। कार्यक्रम में मौजूद राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के प्रबंधक सरदार बेग मिर्जा से पूछा कि कितना वेतन मिलता है। जब उसने बताया कि 25 हजार रुपए, तो मंत्री बोलीं कि इतना वेतन लेने के बाद भी कुछ काम नहीं कर रहे हो। मिर्जा ने कहा कि हितग्राही नहीं आते, तो मंत्री बोलीं कि हितग्राही नहीं आएंगे, आपको उनके पास जाना होगा। फिर नंबर पर आए उद्योग विभाग के प्रबंधक से मंत्री ने पूछा कि आप किस विभाग से हैं और कब से यहां पदस्थ हो।

जब प्रबंधक ने बताया कि पांच माह से, तो मंत्री बोलीं कि अभी तक आप मिले ही नहीं, आपको तो प्रधानमंत्री से मैडल मिलना चाहिए। मंत्री ने पूछा कि कितने लोगों को आपने स्व रोजगार का संसाधन दिया, तो प्रबंधक बोले कि 15 ऑटो दिए हैं। यह सुनकर मंत्री बोलीं कि दो ऑटो मेरे हाथों से दिलवाए थे, मुझे याद है। इसी कार्यक्रम में खादी ग्रामोद्योग वाले को फटकार लगाते हुए मंत्री ने कहा कि मैं पिछले 40 मिनट से देख रही हूं, आप यहां समय पास कर रहे हो। कर्मचारी-अधिकारियों की कार्यप्रणाली देखते हुए मंत्री ने डांट लगाते हुए कहा कि मैं काम न करने वाले अधिकारियों को सस्पेंडकर दूंगी। उन्होंने कहा कि आप लोग इस तरह से काम करके सरकार को मरवाओगे, शिवराज सरकार को डुबाओगे।

बीआरसीसी को सस्पेंड करने के दिए निर्देश

इसके बाद ग्राम शाजापुर में मंत्री ने स्कूल भवन का लोकार्पण किया। इसी बीच मंत्री की नजर उस पट्टिका पर गई, जिसमें राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित अन्य प्रमुख लोगों के नाम लिखे हुए थे। उस लिस्ट में अपना नाम न देख, मंत्री नाराज हो गईं और बीआरसीसी से कहा कि इसमें मेरा नाम क्यों नहीं है?। मंत्री ने नाराज होते हुए जिला शिक्षा अधिकारी परमजीत सिंह गिल को तलब किया तथा बीआरसीसी को सस्पेंड करने के निर्देश दिए। हालांकि डीईओ गिल ने मंत्री से कहा कि सामान्य ज्ञान की इस लिस्ट में विधायक का नाम नहीं होता। शाजापुर में भी ग्रामीणों से विभिन्न योजनाओं की जानकारी मंत्री ने ली तथा एक-एक कर कर्मचारियों को फटकार लगाई। महत्वपूर्ण बात यह रही कि मंत्री ने जब भी किसी कर्मचारी या अधिकारी को फटकारा तो वहां मौजूद लोगों ने जमकर तालियां बजाईं।


नीमडांडा में हैंडपंप न होने की शिकायत पर मंत्री ने पीएचई के सब इंजीनियर से कहा कि अभी बोरिया बिस्तर बांधो और गांव में निकल जाओ। सात दिन तक वहां रुकना और जब हैंडपंप लग जाए तब आना। साथ ही मंत्री ने उस गांव की महिलाओं से कहा कि सब इंजीनियर को गांव में पानी मत देना, तब मालूम पड़ेगा कि प्यास क्या होती है।

mp election 2018

बीआरसीसी को सस्पेंड करने के दिए निर्देश

चाय-चौपाल में टारगेट बने बिजली कंपनी व पीएचई के अधिकारी
चंदावनी गांव में ही मंत्री ने महिलाओं के साथ चाय-चौपाल लगाई। जिसमें मंत्री सहित अधिकारियों व मौजूद महिलाओं को चाय-बिस्किट दिए गए। इसके बाद जब मंत्री ने महिलाओं से उनकी समस्या पूछी तो बताया गया कि अमरपुर नीमडांडा में बिजली नहीं है।

यह सुनते ही वहां मौजूद बिजली कंपनी के डीई की क्लास लेते हुए मंत्री ने पूछा कि गांव में बिजली क्यों नहीं है?, सौभाग्य योजना में उसे शामिल क्यों नहीं किया?। डीई ने बताया कि पहले राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना में सभी गांव को शामिल किया था। यह बात सुनकर मंत्री और भी अधिक नाराज हो गईं, क्योंकि राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना तो यूपीए की कांगे्रस सरकार में चली थी। डीई की मंत्री के साथ-साथ कलेक्टर शिल्पा गुप्ता ने भी क्लास लेते हुए टीएल में आने के लिए कहा।

 

BJP
Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned