प्रदेश में भी गो संरक्षण के लिए सेस लगाने की तैयारी,आवारा पशुओं को लेकर मंत्री ने कही यह बात,See video

प्रदेश में भी गो संरक्षण के लिए सेस लगाने की तैयारी,आवारा पशुओं को लेकर मंत्री ने कही यह बात,See video

monu sahu | Publish: Jan, 14 2019 06:50:25 PM (IST) | Updated: Jan, 14 2019 06:54:58 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

प्रदेश में भी गो संरक्षण के लिए सेस लगाने की तैयारी,आवारा पशुओं को लेकर मंत्री ने कही यह बात,See video

ग्वालियर। अब राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश में भी रोड पर घूम रहे आवारा गो वंश के सरंक्षण के लिए राज्य सरकार फंड जुटाने की योजना बना रही है। इसके लिए शराब, संपत्ति विक्रय या मंडी आदि में किसी पर 2-5 प्रतिशत का सेस (मुख्य टैक्स के ऊपर लगने वाला उपकर) लगाया जा सकता है। इसके लिए राज्य सरकार योजना पर काम कर रही है। सेस लगाने के संकेत पशुपालन मंत्री लाखन ङ्क्षसह यादव ने गो शाला लाल टिपारा मुरार में भ्रमण के दौरान पत्रकारों के सवालों के जवाब के दौरान दिए।

 

मंत्री यादव ने पूर्व में रही भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व में जो सरकार थी उसने गाय के नाम पर राजनीति तो बहुत की लेकिन गो रक्षा और गो संरक्षण को लेकर कोई ठोस योजना नहीं बनाई। इसके चलते गायों की प्रदेश में दुर्दशा हुई। प्रदेश की कांग्रेस सरकार गांव स्तर पर गायों के संरक्षण को लेकर ठोस कदम उठाने जा रही है। भाजपा सरकार में 6-7 लाख से अधिक गायों के लिए मात्र 50 करोड़ का बजट था।

 

ऐसे हालात में 1 से 4 रुपए प्रति गाय के भरण पोषण के लिए आवंटित होते थे। हम फंड बढ़ाएंगे ताकि गायों के भरण पोषण के लिए माहौल तैयार हो सके।वहीं आयुक्त विनोद शर्मा द्वारा नई गो शाला की जमीन पर विकास कार्य के लिए पांच करोड़ की राशि की मांग की गई जिस पर यादव ने मदद का भरोसा दिलाया। भ्रमण के दौरान स्वामी अच्युतानंद, नोडल अधिकारी गो शाला केशव ङ्क्षसह चौहान, पार्षद नरेंद्र किरार, कांग्रेस लोकसभा अध्यक्ष संजय यादव, शीतल अग्रवाल, डॉ. ओपी त्रिपाठी, डॉ. मधुसूदन शर्मा, प्रभारी राजेंद्र सिंह गुर्जर आदि मौजूद रहे।

 

बहाल होंगे गो सदन
यादव ने कहा कि प्रदेश में करीब 8 स्थानों पर गो सदन तैयार किए गए थे जो कि भाजपा सरकार में जीर्ण शीर्ण हो गए इन्हें फिर से प्रदेश सरकार द्वारा गायों के संरक्षण के लिए बहाल किया जाएगा। वहीं प्रदेश में सुसनेर, भोपाल और अन्य गो शालाओं की तुलना में लाल टिपारा गो शाला के प्रबंधन को दूसरे जिलों के लिए रॉल मॉडल बताया इसके लिए संतों के योगदान को सराहा वहीं देश में लाल टिपारा गो शाला दूसरे प्रदेशों के लिए रॉल मॉडल बने इसके लिए भी यादव हर ने हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।

 

16 से भोपाल में चलेगा अभियान
यादव ने भोपाल की सडक़ों पर दुर्घटनाओं का कारण बन रहे गो वंश को सडक़ से हटाने के लिए 16 जनवरी से अभियान चलाने की बात कही। जिन्हें गो शालाओं में शिफ्ट किया जाएगा।

 

बन्हेरी गांव में भी होगा संरक्षण का काम
रानी घाटी के पास गायों के सरंक्षण और किसानों की परेशानी को कम करने के लिए मंत्री लाखन सिंह यादव ने गो शाला में गायों का प्रबंधन कर रहे श्रीकृष्णायन देशी गो रक्षा शाला के स्वामी अच्युतानंद से चर्चा की जिस पर स्वामी अच्युतानंद ने कहा कि आप व्यवस्थाएं मुहैया कराइए संत जन हर परिस्थति में हर हाल में गो रक्षा के लिए आपके साथ हैं।

 

 

 

पशुओं की रिहाई पर अब 450 से पांच सौ रुपए लिए जाएंगे
प्रदेश के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने बताया कि सडक़ पर आवारा घूमते पशुओं की रिहाई पर पहले 250 रुपए जुर्माना लिया जाता था, अब 450 से 500 रुपए तक जुर्माना लिया जाएगा। उन्होंने पशु पालकों को चेतावनी दी है कि अगर दो बार से अधिक पशु पकड़ा जाता है तो उसे कांजी हाउस भेज दिया जाएगा। सडक़ों पर घूमने वाले आवारा गौवंश के प्रबंधन के लिए प्रदेश में पायलट प्रोजेक्ट की शुरूआत भोपाल से 16 जनवरी से होगी। घाटीगांव के पास ग्राम सिरसा के समीप प्रदेश भर के लिए मॉडल गौशाला स्थापित की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned