scriptMPIDC employees accused of selling | स्टोन पार्क की जमीन पर कटे प्लॉट, एमपीआइडीसी के कर्मचारियों पर लगाया बेचने का लगाया आरोप | Patrika News

स्टोन पार्क की जमीन पर कटे प्लॉट, एमपीआइडीसी के कर्मचारियों पर लगाया बेचने का लगाया आरोप

उद्यमी जताएंगे विरोध, बोले - न संधारण शुल्क जमा कराएंगे न लीज रेंट

ग्वालियर

Published: December 24, 2021 03:03:39 am

ग्वालियर। 13 साल पहले बसाया गया स्टोन पार्क अब भी अव्यवस्थाओं से घिरा हुआ है। यहां के उद्यमियों ने एमपीआइडीसी के कर्मचारियों पर अवैध रूप से जमीन बेचने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि कई लोगों ने तो यहां मकान का निर्माण तक कर लिया है और लगभग 50 से ज्यादा परिवार अवैध निर्माण कर यहां रह रहे हैं। यह सभी लगभग श्रमिक वर्ग के हैं। जिन्हें सस्ते में जमीन उपलब्ध कराई गई है। ऐसे में अब उद्यमियों को परेशान होना पड़ रहा है। इसकी शिकायत कई बार उद्यमियों ने की है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। क्योंकि यहां मौजूद कुल जमीन का 40 प्रतिशत हिस्सा वेस्टेज के लिये रखा गया है। अब उद्यमी इसका विरोध जोरशोर से करने का मन बना चुके हैं।
सन् 2009 में स्टोन पार्क को बसाया गया था, ताकि यहां पत्थर कारोबारी अपना काम कर सकें। यहां लगभग 53 इकाइयां काम कर रही हैं और 10 देशों को पत्थर भेजा जाता है। लेकिन यहां के उद्यमियों का कहना है कि एमपीआइडीसी के कर्मचारियों की मनमानी से परेशान हैं। दरअसल यह स्टोन पार्क 37 हेक्टेयर जमीन पर बसा है। उपलब्ध भूमि में से 34 प्रतिशत में औद्योगिक भूखंड बनाए गए हैं एवं 22 प्रतिशत इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए है एवं 3 प्रतिशत एमेनिटी के लिए है, जिसमें दुकान है एवं विकास भवन बनना था लेकिन वह भी नहीं बन पाया। 40 फीसदी जमीन वेस्टेज जोन और ओपन एरिया के लिए उपलब्ध है। लेकिन इस जमीन पर एमपीआइडीसी के अधिकारियों ने अवैध रूप से लोगों को बसा दिया है। जमीन को घिरवाने के एवज में लोगों से पैसे भी वसूल करने के आरोप लगाए हैं। लेकिन शिकायत के बाद भी न तो अतिक्रमण हटाया जा रहा है और न ही जमीन पर अतिक्रमण करवाने वालों पर कार्रवाई की जा रही है।
स्टोन पार्क की जमीन पर कटे प्लॉट, एमपीआइडीसी के कर्मचारियों पर लगाया बेचने का लगाया आरोप
स्टोन पार्क की जमीन पर कटे प्लॉट, एमपीआइडीसी के कर्मचारियों पर लगाया बेचने का लगाया आरोप

शौचालय के लिए परशान हो रहे उद्यमी एवं कर्मचारी


उद्यमियों का कहना है कि देशभर में स्वच्छता अभियान चलने के बाद भी यहां सुलभ शौचालय की कोई व्यवस्था नहीं हैं। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2017 में जिसके तहत घरर-घर में शौचालय बनाए गए हैं। लेकिन स्टोन पार्क में एमपीआइडीसी की ओर से कोई मूत्रालय या शौचालय का निर्माण नहीं किया गया।

न संधारण शुल्क देंगे न न लीज रेंट जमा कराएंगे
उद्यमियों का कहना है कि उनकी अतिक्रमण हटाने सहित सुविधाओं को लेकर लगातार मांग की जा रही है। लेकिन अब अगर 31 मार्च तक सुविधाएं नहीं मिलीं और अतिक्रमण नहीं हटा तो न ही संधारण शुल्क जमा करेंगे

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.