scriptNamami Gange Project in limbo If the water increases, then more than | अधर में नमामि गंगे प्रोजेक्ट; पानी बढ़ा तो 20 से ज्यादा बस्तियों पर संकट | Patrika News

अधर में नमामि गंगे प्रोजेक्ट; पानी बढ़ा तो 20 से ज्यादा बस्तियों पर संकट

नमामि गंगे प्रोजेक्ट मे शामिल 12 किलोमीटर बहाव क्षेत्र वाली मुरार नदी को अतिक्रमण ने सिकोड़ दिया है। सौंदर्यीकरण की योजना में जल निकास को महत्व न दिए जाने...

ग्वालियर

Published: June 17, 2022 06:44:53 pm

ग्वालियर. नमामि गंगे प्रोजेक्ट मे शामिल 12 किलोमीटर बहाव क्षेत्र वाली मुरार नदी को अतिक्रमण ने सिकोड़ दिया है। सौंदर्यीकरण की योजना में जल निकास को महत्व न दिए जाने से इस बार बारिश में अगर पानी बढ़ा तो नदी किनारे की 20 से ज्यादा बस्तियों में खतरा बना रहेगा। नदी के उद्गम स्थल रमौआ की जमीन से प्रशासन ने अतिक्रमण हटाया है लेकिन अवैध रूप से बनाई गई रिटेङ्क्षनग वॉल को साफ न किए जाने से तुरारी, कोठे की सराय, सिथौली के आसपास जल भराव होने की संभावना रहेगी। इधर नदी पार टाल पुल से लेकर कालपी ब्रिज के बीच मुरार नदी में भी लोगों ने मुरम की सड़क डाल दी है, जिससे पानी के बहाव पर रोक लगेगी और यह भी कच्ची बस्तियों और पक्के मकानों की नींव के लिए खतरा बनेगी।
उल्लेखनीय है कि मुरार नदी को पुनर्जीवित करने के लिए चार वर्ष पहले प्रोजेक्ट का काम शुरू किया गया था। इस प्रोजेक्ट की डीपीआर भी बनी थी लेकिन इसको स्वीकृति नहीं मिली। दो वर्ष पहले नमामि गंगे अभियान में मुरार नदी शामिल होने के बाद फिर नए सिरे से डीपीआर आदि का काम शुरू किया गया था। केन्द्र सरकार के सहयोग से शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट में नदी पुनर्जीवन के साथ ही सौंदर्यीकरण के काम भी शामिल किए गए हैं। दो बार प्रोजेक्ट डायरेक्टर और प्रशासन के अधिकारी संयुक्त निरीक्षण कर चुके हैं, लेकिन काम की शुरुआत न तो पिछले वर्ष हुई और न इस वर्ष उल्लेखनीय काम हुआ है। यहां तक कि रमौआ डेम से अतिक्रमण तक नहीं हटाया गया है। गौरतलब है कि डेम की 6 हैक्टेयर भूमि पर किसान और कॉलोनाइजर्स का अतिक्रमण है। एक बिल्डर ने तो नदी के बहाव क्षेत्र में ही 147 फुट लंबी और 20 फुट चौड़ी खंडों की दीवार बना दी थी। जिसे प्रशासन ने एक महीने पहले हटाया है लेकिन दीवार का सिर्फ ऊ परी हिस्सा गिराया गया है, जिससे अब बहाव क्षेत्र ऊपर से तो ठीक दिखेगा लेकिन नीचे रुकावट होने से जल भराव की स्थिति बनी रहेगी।
MURAR NADI
अधर में नमामि गंगे प्रोजेक्ट; पानी बढ़ा तो 20 से ज्यादा बस्तियों पर संकट
सिर्फ दिखने वाले कामों पर ही ध्यान
सौंदर्यीकरण के लिए नदी में ग्रास पिङ्क्षचग,स्टोन पिङ्क्षचग आदि लगना है और रिवर फ्रंट भी विकसित किया जाना है। इस प्रोजेक्ट को देख रहे नगर निगम के इंजीनियर द्वारा नदी के बहाव, गहरीकरण और चौड़ाई पर काम करने की बजाय सिर्फ उन्हीं ङ्क्षबदुओं पर ज्यादा फोकस किया जो किनारे पर दिखेंगे। इससे जनता का धन तो खर्च होगा लेकिन पूरे वर्ष पानी रखने और मुरार नदी को पूरी तरह से साफ रखने का उद्देश्य पूरा नहीं होगा।
लगातार अटकता आ रहा है प्रोजेक्ट
शहर के लिए सबसे जरूरी प्रोजेक्ट में शामिल नदी पुनर्जीवन का काम बीते चार वर्ष में एक भी कलेक्टर और नगर निगम आयुक्त सही तरीके से शुरू नहीं करा पाए हैं। मुरार क्षेत्र में निवासरत राजनीतिक दलों के नेता अपने समर्थकों का अतिक्रमण बचाए रखने के लिए काम में तरह-तरह के अडंगे लगा रहे हैं।
इस पर ध्यान देना जरूरी
मुरार नदी में साफ पानी रखने के लिए रमौआ डेम की जमीन और कैचमेंट एरिया को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए प्रशासन और स्थानीय नेताओं को सख्ती दिखानी होगी। नेता अगर इच्छाशक्ति दिखाते हुए स्वार्थ छोड़ दें तो अतिक्रमण करने वालों पर कार्रवाई आसान होगी और नई पीढ़ी को नदी का पुराना स्वरूप देखने का मौका मिल सकता है।
यह बना था प्लान
नदी पुर्नजीवन के प्लान को लेकर सर्किट हाउस में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम ङ्क्षसह, निगमायुक्त किशोर कान्याल और नमामि गंगे की टीम की बैठक हुई थी। इस बैठक में मुरार नदी में पूरे वर्ष पानी भरे रहने को लेकर विमर्श किया गया था। इसके अलावा नदी के पुराने नक्शे में मौजूद जमीन की तत्कालीन और वर्तमान स्थिति का आकलन करने की भी प्लाङ्क्षनग की गई थी। यह काम अभी तक नहीं किया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.