अब 3 बार ही दे पाएंगे नीट, अनारक्षित छात्रों के लिए 25 साल हुई ऐज लिमिट

देश भर के तमाम मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस एंड बीडीएस कोर्स में दाखिले के लिए होने वाली नीट को लेकर बड़ा फैसला आया है। नए फैसले के बाद अब छात्रों को सिर्फ 3 अवसर ही मिलेंगे।

ग्वालियर। देश भर के तमाम मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस एंड बीडीएस कोर्स में दाखिले के लिए होने वाली नीट को लेकर बड़ा फैसला आया है। नए फैसले के बाद अब छात्रों को सिर्फ 3 अवसर ही मिलेंगे। अनारक्षित वर्ग के छात्रों के लिए नीट में आवेदन करने के लिए अधिकतम आयु 25 वर्ष निर्धारित की गई है। 25 वर्ष के बाद अनारक्षित वर्ग के छात्र  नीट में नहीं बैठ पाएंगे। वहीं अरक्षित वर्ग के छात्रों के लिए आयु सीमा में छूट दी गई है।


दिल्ली में मंगलवार को इन्ही मुद्दों को लेकर यूजीसी की मीटिंग हुई, जिसमें फैसला लिया गया कि नीट परीक्षा देने के लिए न्यूनतम उम्र 17 साल है। जनरल कैटिगरी के छात्र 25 साल की उम्र तक नीट परीक्षा दे सकते हैं, जबकि आरक्षित श्रेणी के लिए यह उम्र 30 साल है।  बता दें कि इससे पहले छात्र कितनी भी बार नीट दे सकते थे,लेकिन अब इस पर लिमिट लगा दी गई है।


ये कहते हैं एक्सपर्ट
एक्सपर्ट विनय झालानी कहते हैं कि सरकार का ये फैसला ठीक है। इससे छात्रों को आसानी होगी। अवसरों की सीमा थोड़ी और बढऩी चाहिए। नए रूल्स के बाद छात्रों को पहले पूरी तैयारी करके ही परीक्षा में बैठना चाहिए, अन्यथा उनका अटैम्प्ट खराब हो जाएगा। वहीं छात्रों की भी इस पर मिली जुली प्रतिक्रिया आई है। छात्रों का कहना है कि एज लिमिट और अवसरों की संख्या में थोड़ा इजाफा होना चाहिए।
Show More
gaurav nauriyal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned