टॉप मॉनिटरिंग वाली सीएम हेल्पलाइन में नहीं आ रहा उल्लेखनीय परिणाम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्राथमिकता वाली सीएम हेल्पलाइन को लेकर जिले के अधिकारी गंभीर नहीं हैं। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के हर बैठक में दिए गए निर्देश भी...

ग्वालियर. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्राथमिकता वाली सीएम हेल्पलाइन को लेकर जिले के अधिकारी गंभीर नहीं हैं। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के हर बैठक में दिए गए निर्देश भी अधिकारियों के आगे बौने साबित हो रहे हैं। अधिकारियों द्वारा ध्यान न दिए जाने का परिणाम यह है कि जिले में सीएम हेल्पलाइन की पैंडेंसी 12830 हो गई है। इनमें से विभाग के प्रमुख अधिकारियों के खाते में 3070 शिकायतें दर्ज हैं। एल-3 के अधिकारियों के खाते में 1573, एल-2 अधिकारियों के खाते में 1330 और एल-1 अधिकारियों के खाते में 6857 शिकायतें लंबित हैं। इन शिकायतों को निराकृत न करने के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार उन विभागों के अधिकारी जिम्मेदार हैं, जिन पर शिकायतों को निराकृत करने की जिम्मेदारी है।


इन विभागों में सबसे ज्यादा पैंडेंसी
- अनुसूचित जाति कल्याण विभाग में 679 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 499 एल-4 अधिकारी के खाते में हैं।
- ऊर्जा विभाग में 458 शिकायतें पैंडिंग हैं। इनमें से 340 एल-1 अधिकारी के खाते में हैं।
- खाद्य आपूर्ति विभाग में 1412 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 882 एल-4 अधिकारी के खाते में हैं।
- पुलिस विभाग में 1008 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से एल-1 पर 431 और एल-4 अधिकारी के खाते में 415 दर्ज हैं।
- राजस्व विभाग में 1988 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 1530 एल-1 पर लंबित हैं।
- लोक स्वास्थ्य विभाग में 579 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 250 एल-4 पर लंबित हैं।
- नगरीय निकाय विभाग में 611 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 395 एल-1 पर लंबित हैं।
- पंचायतीराज विभाग में 321 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 154 एल-1 पर लंबित हैं।
- प्राकृतिक प्रकोप राहत राशि की 206 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 111 शिकायतें एल-1 पर लंबित हैं।
- जिला अस्पताल की 232 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 138 शिकायतें एल-4 पर लंबित हैं।
- छात्रवृत्ति एवं आवास सहायता की 151 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 61 एल-1 पर और 40 एल-4 पर लंबित हैं।
- जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र की 32 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से एल-1 पर 30 शिकायतें लंबित हैं।

इनकी है जिम्मेदारी
- राजस्व विभाग की शिकायतों को निराकृत करने के लिए शहर के 4 और ग्रामीण अंचल के 4 एसडीएम, 8 तहसीलदारों के अलावा नायब तहसीलदारों की जिम्मेदारी है।
- शिकायतों का निराकरण करने के लिए बिजली कंपनी, नगर निगम, पंचायतीराज, आदिम जाति कल्याण सहित अन्य विभागों में सभी विभाग प्रमुखों की जिम्मेदारी है।


नगर निगम
- स्वास्थ्य और साफ सफाई विभाग में 545 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 434 एल-1 पर लंबित हैं।
- पेयजल विभाग में 311 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से एल-1 पर 255 लंबित हैं।
- सिविल विभाग में 197 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 97 शिकायतें एल-1 पर लंबित हैं।
- प्रकाश विभाग में 575 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 314 शिकायतें एल-1 पर लंबित हैं।
- स्मार्ट सिटी में 210 शिकायतें लंबित हैं। इनमें से 160 शिकायतें एल-1 पर लंबित हैं।

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned