scriptNow information like purchase of mutual funds, sending money abroad w | अब 26 एएस फॉर्म में म्युचुअल फंड की खरीद, विदेशों में पैसा भेजने जैसी जानकारी भी लगेगी | Patrika News

अब 26 एएस फॉर्म में म्युचुअल फंड की खरीद, विदेशों में पैसा भेजने जैसी जानकारी भी लगेगी

- सीबीडीटी ने 26 एएस फॉर्म में किया बदलाव, आयकर कानून की धारा 285 बीबी के तहत नए फॉर्म में जानकारी के दायरे का किया गया है विस्तार

ग्वालियर

Published: November 15, 2021 09:00:59 am

ग्वालियर. अब आयकर विभाग के 26 एएस फॉर्म में म्युचुअल फंड की खरीद, विदेशों में पैसा भेजने के साथ-साथ अन्य करदाताओं के आयकर रिटर्न का ब्यौरा भी देना पड़ेगा। हाल ही में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर कानून की धारा 285 बीबी के तहत नए फॉर्म 26 एएस में रिपोर्ट की गई जानकारी के दायरे का विस्तार करते हुए आदेश जारी किया गया है। फॉर्म 26 एएस में कुछ नयी चीजें जोड़ी हैं। यह एक सालाना एकीकृत कर विवरण है, जिसे करदाता अपने स्थायी खाता संख्या (पेन) का उपयोग करके आयकर पोर्टल से प्राप्त कर सकेंगे।
अब 26 एएस फॉर्म में म्युचुअल फंड की खरीद, विदेशों में पैसा भेजने जैसी जानकारी भी लगेगी
अब 26 एएस फॉर्म में म्युचुअल फंड की खरीद, विदेशों में पैसा भेजने जैसी जानकारी भी लगेगी
ये अतिरिक्त जानकारी की गई है शामिल
निर्धारित अतिरिक्त जानकारी में किसी भी व्यक्ति के अधिकृत डीलर के माध्यम से विदेशों में भेजा गया रुपया, कर्मचारी की ओर से दावा की गई कटौती के साथ वेतन का ब्यौरा, अन्य करदाताओं के आइटीआर में जानकारी, आयकर रिफंड पर ब्याज, वित्तीय लेन-देन के विवरण में प्रकाशित जानकारी शामिल हैं। इसके साथ ही डिपॉजिटरी, रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट की तरफ से रिपोर्ट किए गए समाशोधन निगम के माध्यम से निपटान नहीं हुए (ऑफ द मार्केट) लेन-देन, आरटीए से रिपोर्ट किए गए म्युचुअल फंड लाभांश और म्युचुअल फंड की खरीद के बारे में जानकारी भी फॉर्म 26 एएस में शामिल की जाएगी। इसके अलावा स्टेटमेंट ऑफ फायनेंशियल ट्रांजेक्शन भी फॉर्म 26 एएस में दिखेंगे, जैसे करदाता की ओर से की गई एफडीआर, रुपया जमा या निकाला गया है, के्रडिट कार्ड से कोई बड़ा ट्रांजेक्शन किया है ये चीजेें भी आइटीआर में देनी होंगी।
ये होगा फायदा
फॉर्म 26 एएस में सालाना सूचना ब्योरा में अतिरिक्त जानकारी से फेसलेस डिजिटल यानी अधिकारियों से आमना-सामना किए बिना आकलन सुगम होगा। हालांकि करदाताओं से अतिरिक्त कर योगदान न के बराबर होगा। यह बदलाव सभी करदाताओं के लिए अर्जित आयक के बारे में सटीक जानकारी और स्व-घोषणा की व्यवस्था स्थापित करेगा।
नहीं तो जारी हो सकता है नोटिस
आइटीआर रिटर्न दाखिल करते समय करदाता को ध्यान रखना होगा कि वह फॉर्म 26 एएस को अच्छे से जांच ले और उसमें जो चीजें दिखाई दे रही हैं उससे संबंधित आय को अपने रिटर्न में घोषित कर दें। ऐसा नहीं करने पर आयकर विभाग की ओर से स्क्रूटनी नोटिस और कर ब्याज पेनल्टी के साथ नोटिस जारी हो सकते हैं।
- अभिषेक गुप्ता, सीए

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE : राष्ट्र के नाम संबोधन में बोले राष्ट्रपति कोविंद - कोविड नियमों का पालन करना ही राष्ट्र धर्मRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीकोरोना पॉजिटिविटी दर में उतार-चढाव जारी, मिले नए 427 केसUP Assembly elections 2022 : 'मुस्लिमों को पिछड़ा बनाने के लिए सरकारें दोषी, बच्चों को हासिल करवाओं तालीम'स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.