परिवहन प्रशिक्षण अकादमी बनाने की सुध लेना भूल अफसर

प्रदेश की पहली परिवहन प्रशिक्षण अकादमी ग्वालियर में खोलने का प्रस्ताव अधर में लटक गया है। एक साल पहले इसकी शुरुआत हुई थी। जनवरी-२०१८ में इसका प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। इसके लिए कंपू आरटीओ दफ्तर की जमीन भी चिह्नित कर ली गई थी, लेकिन इस जमीन का प्रशासन ने एक हजार बिस्तर का अस्पताल बनाने के लिए अधिग्रहण कर लिया।

एग्वालियर। एक साल बाद भी अधिकारी जमीन का मामला हल नहीं कर पाए हैं। पिछले साल जनवरी में परिवहन विभाग और पीआइयू अधिकारियों ने आरटीओ दफ्तर आमखो कंपू पर जमीन चिह्नित की थी। प्रशासन ने यह जमीन अधिग्रहित कर ली है, लेकिन इस जमीन पर अभी भी परिवहन विभाग की ड्राइविंग शाखा और फिटनेस शाखा संचालित हो रही हैं। परिवहन विभाग जिला प्रशासन से शहर में परिवहन प्रशिक्षण अकादमी के लिए जगह देने की मांग करता रहा है। हालांकि जिला प्रशासन ने सिरोल पहाड़ी स्थित न्यू आरटीओ दफ्तर व साडा परिक्षेत्र में जमीन दिए जाने का आश्वासन दिया है, लेकिन जमीन विवाद हल नहीं हुआ है।

प्रयास भी हुए ठंडे

इस अकादमी में प्रशिक्षणार्थियों के लिए हॉस्टल, ट्रेनिंग रूम, मैस, क्लब, स्पॉर्ट ग्राउंड आदि बनवाएं जाएंगे। परिवहन विभाग में ज्वॉनिंग के बाद प्रदेशभर से प्रशिक्षार्थी यहां प्रशिक्षण लेंगे। यहां छह हैक्टेयर जमीन में तैयार कराया जाना है। परिवहन अफसर भी भूलेइस प्रोजेक्ट को तत्कालीन परिवहन आयुक्त डॉ.शैलेंद्र श्रीवास्तव ने तैयार कराया था। इस पर प्रमुख सचिव और परिवहन मंत्री ने हरीझंडी दे दी थी। प्रोजेक्ट की लागत को लेकर पीआइयू को प्रस्ताव तैयार करना था। यह प्रस्ताव तैयार होने से पहले ही जमीन का विवाद शुरू हो गया। लेकिन अब ग्वालियर से लेकर भोपाल तक के परिवहन अफसर इस प्रोजेक्ट को भूल गए हैं।

अधिकारियों से बात करूंगाजल्द ही अधिकारियों से प्रदेश की पहली परिवहन प्रशिक्षण अकादमी की तैयारी को लेकर बात करूंगा।

गोविंद सिंह राजपूत, परिवहन मंत्री,

Pawan Dixit
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned