मंत्री की नाराजगी के बाद हाईट्स कंपनी पर एक लाख रुपए का जुर्माना

मंत्री की नाराजगी के बाद हाईट्स कंपनी पर एक लाख रुपए का जुर्माना

Rahul Aditya Rai | Publish: Mar, 02 2019 01:36:16 AM (IST) | Updated: Mar, 02 2019 01:36:17 AM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

यह कार्रवाई चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ.विजय लक्ष्मी साधौ द्वारा गुरुवार को निरीक्षण के दौरान अस्पताल में गंदगी मिलने पर नाराजगी जताने के बाद की गई है।

ग्वालियर। जेएएच और केआरएच में सफाई व्यवस्था संभालने वाली हाईट्स कंपनी पर प्रबंधन द्वारा शुक्रवार को एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। यह कार्रवाई चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ.विजय लक्ष्मी साधौ द्वारा गुरुवार को निरीक्षण के दौरान अस्पताल में गंदगी मिलने पर नाराजगी जताने के बाद की गई है।

 

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने जेएएच के अधीक्षक को कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। कंपनी पर यह अब तक का सबसे अधिक जुर्माना है। इससे पहले भी कंपनी को कई बार नोटिस जारी किए गए हैं और जुर्माना लगाया गया है, लेकिन कंपनी का रवैया नहीं बदला।


कंपनी पर है सफाई और सुरक्षा का ठेका
जयारोग्य अस्पताल में सुरक्षा और सफाई के लिए लगभग दो वर्ष पूर्व हाईट्स कंपनी को ठेका दिया गया था। कंपनी ने ठेका पेटी कॉन्ट्रैक्टर के रूप में बीवीजी कंपनी को दे दिया। कंपनी के दो सौ से अधिक कर्मचारी यहां काम कर रहे हैं, इसके बाद भी व्यवस्था नहीं सुधर रही है। कंपनी द्वारा अपने कर्मचारियों को पीएफ व अन्य सुविधाएं भी नहीं दी जा रही है, न ही वेतन बढ़ाया जा रहा है, इसके लिए कर्मचारी भी समय-समय पर आंदोलन करते रहे हैं। बीते रोज चिकित्सा शिक्षा मंत्री के भ्रमण के दौरान कंपनी के प्रतिनिधि राहुल मौजूद थे, गंदगी को लेकर मंत्री बार-बार नाराजगी जाहिर कर रही थीं।

 

आज भी था ऐसा नजारा
चिकित्सा शिक्षा मंत्री के निर्देश के बाद भी सफाई का ठेका लेने वाली कंपनी सक्रिय दिखाई नहीं दी, शुक्रवार को भी जेएएच और केआरएच में कचरे के ढेर लगे थे, नालियां भरी हुई थीं, कुत्ते घूम रहे थे। सुरक्षा के मामले में भी कई खामियां नजर आईं।

 

अभी तक ऐसे हुई कंपनी पर कार्रवाई
-2 फरवरी 2018 को कॉलेज काउंसिल की बैठक के निर्णय अनुसार 50 हजार रुपए का अर्थदंड लगाया गया।
-22 जून 2018 को तीस हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया, क्योंकि निर्देश के बाद भी चिकित्सालय कैंपस में कचरा जलाया जा रहा था।
-7 सितंबर 2018 को सफाई कर्मचारियों का एक दिवस का वेतन इसलिए काटा गया कि केआरएच के पीछे स्थित कचरे ढेर को नहीं उठाया जा रहा था।
- 3 अक्टूबर 2018 को केआरएच के पीछे से ढेर न उठने पर हाईट्स कंपनी को दी जाने वाली सर्विस टैक्स की राशि में से दो प्रतिशत राशि काटी गई।
-डीन के निरीक्षण के दौरान केआरएच के पीछे व प्रीपेड बूथ के अंदर कचरा मिलने पर 16 अक्टूबर 2018 को दस हजार रुपए जुर्माना लगाया गया।
-आयुक्त को निरीक्षण के दौरान गंदगी मिली थी, जिस पर 2 नवंबर 2018 को सफाई कर्मियों का एक दिन का वेतन काटा गया।
-1 फरवरी 2019 को जेएएच के अधीक्षक डॉ.अशोक मिश्रा ने गंदगी मिलने पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था।


इनका कहना है-
सफाई और सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई बार हाईट्स कंपनी को नोटिस दिया जा चुका है, अब एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया है।
डॉ.अशोक मिश्रा, अधीक्षक जेएएच

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned