दुनिया में केवल 50 परसेंट लोगों तक ही पहुंच पाया है इंटरनेट

एमिटी यूनिवर्सिटी में इंटरनेट गवर्नेंस पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

By: Avdhesh Shrivastava

Published: 04 Apr 2019, 07:32 PM IST

ग्वालियर. एमिटी यूनिवर्सिटी में इंटरनेट गवर्नेंस पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। वर्तमान परिदृश्य में ई-गवर्नेस की अहम भूमिका पर प्रकाश डालते हुए स्पीकर के रूप में उपस्थित आइसीएएनएन प्रमुख समीरन गुप्ता ने भारत में इंटरनेट गवर्नेंस, इंटरनेट मैनेजमेंट एंड डोमेन नेम पर स्पीच दी। इंटरनेट गवर्नेंस के क्षेत्र में चुनौतियों और संभावनाओं के सवाल पर उन्होंने बताया कि अभी भी दुनिया की केवल 50 फ ीसदी आबादी तक ही इंटरनेट उपलब्ध है। आइसीएएनएन इस अंतर को कम करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है। उन्होंने बताया कि आइसीएएनएन का कार्य इंटरनेट गवर्नेंस में निरंतर सुधार के लिए आवश्यक नीतियों का निर्धारण और संवाद करना है। कार्यशाला में छात्रों को ब्लॉगिंग, स्टूडेंट्स के लिए कंटेंट क्रिएशन, इंटरनेट एंड डिजिटल मार्केटिंग, लिंक्डन डॉट कॉम और एफि लिएट मार्केटिंग के पहलुओं से अवगत कराया गया। कार्यशाला में मनमीत पाल सिंह, इंटरनेट सोसाइटी दिल्ली, आशीष अग्रवाल, अभिषेक जैन, अंजलि वाधवानी और पीयूष डिमरी ने भी छात्रों को संबोधित किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्रो. वीसी प्रो. एमपी कौशिक, रजिस्ट्रार राजेश जैन, निदेशक मेजर जनरल एससी जैन, डॉ. सुमित नरूला मौजूद रहे।


भागीरथी फस्र्ट और पावनी सदन रहा सेकेंड
एमिटी इंटरनेशनल स्कूल में बुधवार को वाद-विवाद प्रतियोगिता तथा बुलेटिन बोर्ड प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें कक्षा पांच से आठ तक के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। अलकनंदा, भागीरथी, मंदाकिनी तथा पावनी सदन के छात्र-छात्राओं ने अपने-अपने विचारों को बड़े ही तर्कसंगत रूप से प्रस्तुत किया। इसमें मंदाकिनी सदन के छात्रों ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। इसके साथ ही बुलेटिन बोर्ड प्रतियोगिता कक्षा एक से पांच तक के छात्र-छात्राओं के लिए थी, जिसमें चारों सदनों के छात्रों ने दिए गए विषय पर अपने विचारों को बड़े ही सुंदर तरीके से प्रदर्शित किया। इसमे प्रथम स्थान भागीरथी सदन, दूसरा पावनी सदन और तीसरा स्थान अलकनंदा सदन ने प्राप्त किया।

Avdhesh Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned