दिवाली: सिर्फ रात 8 से 10 बजे तक फोड़ सकेंगे ग्रीन पटाखे


- प्रदूषण कम करते हैं ग्रीन पटाखे
- सिर्फ इन्हीं पटाखों की होगी खरीदी-बिक्री

By: Ashtha Awasthi

Updated: 13 Nov 2020, 11:27 AM IST

ग्वालियर। दिवाली पर इस बार बहुत ही उत्तम योग बन रहा है। 14 नवंबर शनिवार को दीपावली मनाई जाएगी। इस त्यौहार को लोग काफी हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। बड़ो से लेकर बच्चों तक इस दिन पटाखे फोड़ते हैं। वहीं इस बार नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के वायु प्रदूषण संबंधी आदेश के बाद जिला प्रशासन ने पटाखे फोड़ने की 12 नवंबर से 1 जनवरी तक की गाइडलाइन जारी की है। कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा जारी आदेश अनुसार शहरी सीमा में अब रात 8 से 10 बजे तक ही पटाखे फोड़े जा सकेंगे।

unnamed.jpg

फोड़ सकेंगे ग्रीन पटाखे

बता दें कि इस बार लोग सामान्य पटाखों की जगह सिर्फ ग्रीन पटाखे फोड़ सकेंगे। पटाखा विक्रेता भी सिर्फ इन्हीं पटाखों की खरीदी-बिक्री कर सकेंगे। इसी तरह छठ पूजा पर शाम 6 से रात 8 बजे तक और क्रिसमस और नववर्ष पर रात 11.55 से 12.30 तक पटाखे फोड़ सकेंगे। मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से नवंबर 2019 की स्थिति में बताया गया कि इस दौरान शहरी सीमा में वायु प्रदूषण का क्वालिटी इंडेक्स 129 था, जो मध्यम श्रेणी का है। ऐसे में पटाखे फोड़ने से यह खराब हो सकता है।

2 घंटे तक ग्रीन पटाखों जलाने की छूट, पर प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे से भरे शहर के दुकानों -गोदाम

पहुंचाते हैं कम नुकसान

वहीं ग्रीन पटाखों के जलने से 40 से 50 प्रतिशत तक कम प्रदूषण होता है। आवाज और रोशनी सामान्य पटाखों की तरह होती है। कुछ ग्रीन पटाखों में सल्फर और नाइट्रोजन जैसी गैसें इन्हीं में घुल जाती हैं, क्योंकि जलने के दौरान यह पानी के कण पैदा करते हैं। इसके अलावा ग्रीन पटाखों में एल्युमिनियम का प्रयोग कम से कम किया जाता है। इसलिए ये पर्यायवरण को कम नुकसान पहुंचाते हैं।

Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned