ट्रांसफार्मर सुरक्षित करने के प्लान में भी सिर्फ वीआइपी रोड की चिंता दिखी

इस वीआइपी रोड पर अफसरों के बंगलों के आसपास करीब 400 ट्रांसफार्मरों को सुरक्षित करने के बाद बिजली विभाग के अफसर प्लान को भूल गए

By: Rahul rai

Published: 06 Jan 2020, 12:52 AM IST

ग्वालियर। शहर में बिजली ट्रांसफार्मरों को सुरक्षित करने का प्लान केवल गांधी रोड तक सिमट कर रह गया। इस वीआइपी रोड पर अफसरों के बंगलों के आसपास करीब 400 ट्रांसफार्मरों को सुरक्षित करने के बाद बिजली विभाग के अफसर प्लान को भूल गए, जबकि शहर में अब भी पांच हजार से अधिक ट्रांसफार्मर असुरक्षित हैं।

शहर में करीब 6 हजार ट्रांसफार्मर हैं। इनके आसपास खुले कंडक्टर्स का जाल बिछा है। कई बार ट्रांसफार्मरों में करंट भी दौडऩे लगता है। ऐसी घटनाएं बारिश के सीजन में सबसे अधिक देखी गईं। इसके बाद ट्रांसफार्मरों को सुरक्षित करने के लिए पिछले वर्ष जून में सिटी सर्कि ल में प्लान बनाया गया था, जिस पर करीब एक करोड़ रुपए खर्च किए गए।

शहरी क्षेत्र के कुछ ट्रांसफार्मरों के आसपास सिक्योरिटी नेट और खुले पड़े कंडक्टर्स पर रबर चढ़ाई गई, लेकिन यह प्लान गांधी रोड पर अफसरों के बंगलों के आसपास के ट्रांसफार्मरों तक सिमट कर रह गया।

फाल्ट भी हो सकेंगे कम
शहर के ट्रांसफार्मरों पर बारिश के कारण फॉल्ट न आए, बिजली कंडक्टर्स आंधी में आपस में न उलझें, पेड़ों की टहनिया से भी बिजली लाइनें सुरक्षित रहें, इसके लिए ट्रांसफार्मरों के खुले कंडक्टर्स व सप्लाई कंडक्टर्स पर रबर चढ़ाने का काम किया गया। यह काम ट्रांसफार्मरों के जंपरों तक सीमित रहा। शहरभर में करीब 400 ट्रांसफार्मर सुरक्षित किए गए हैं।

जानकारी करता हूं
मेरे आने से पहले ऐसा काम हुआ है। इसकी जानकारी जुटाऊंगा, तब ही कुछ कह सकूंगा।
डीबी ठाकरे, महाप्रबंधक, शहरी वृत्त, मक्षेविविकंलि

Rahul rai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned