scriptOrganizations are working to spread the message of Swamiji, their mora | स्वामी जी का संदेश फैलाने संस्थाएं कर रहीं काम, कोरोना काल में भी नहीं टूटा इनका मनोबल | Patrika News

स्वामी जी का संदेश फैलाने संस्थाएं कर रहीं काम, कोरोना काल में भी नहीं टूटा इनका मनोबल

- स्वामी विवेकानंद जयंती आज : युवाओं को कॅरियर, सामाजिक और चरित्र निर्माण बनाने जैसे काम कर रहीं संस्थाएं

ग्वालियर

Updated: January 12, 2022 10:07:34 am

ग्वालियर. भारतीय युवाओं को प्राचीन भारत से लेकर अभी वर्तमान भारत तक सबसे ज्यादा किसी महापुरुष ने प्रभावित ओर प्रेरित किया है तो वो है स्वामी विवेकानंद। स्वामी विवेकानंद का व्यक्तित्तव ही कुछ ऐसा है की आज भी वे हर भारतीय युवा के लिये आदर्श हैं। स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार और नियम जो भी युवा अपनाता है, तो वो सफलतापूर्वक हर काम कर सकता है। वे हमेशा समाज में दूसरों की मदद करने का संदेश देते थे। आज स्वामी विवेकानंद की जयंती है। ग्वालियर में भी स्वामी विवेकानंद के संदेशों को फैलाने के लिए कुछ संस्थाएं काम कर रही हैं, कोरोना काल में भी इनका मनोबल नहीं डिग पाया।
स्वामी जी का संदेश फैलाने संस्थाएं कर रहीं काम, कोरोना काल में भी नहीं टूटा इनका मनोबल
स्वामी जी का संदेश फैलाने संस्थाएं कर रहीं काम, कोरोना काल में भी नहीं टूटा इनका मनोबल
विवेकानंद केंद्र
विवेकानंद केंद्र में विवेकानंद नीडम की स्थापना 1986 में की गई थी बना है। इसके प्रकल्प संगठन अतुल गभने ने बताया कि इसका मुख्यालय कन्याकुमारी में है। इसकी स्थापना युवाओं में नेतृत्व और व्यक्तित्व की भावना विकसित करने, उन्हें राष्ट्रवादी विचारधारा से जोडऩे सहित सामाजिक कार्यों के प्रति अग्रसर करने के लिए की गई थी। यहां उन्हें ये सभी कार्य करने के साथ-साथ सामाजिक कार्य और योग के प्रति भी जागरूक किया जाता है। नीडम की ओर से समाज सेवा के रूप में बस्तियों में आनंदालय प्रकल्प शिक्षा, स्वास्थ्य और संस्कार देने के काम किए जा रहे हैं।
स्वामी विवेकानंद सेवा समिति, थाटीपुर
संस्था अध्यक्ष नूतन श्रीवास्तव ने बताया कि 12 जनवरी 2017 को संस्था की नींव रखी गई थी। थाटीपुर चौराहे पर स्वामी जी की मूर्ति की देखरेख नहीं होती थी। मेरे मन में विचार आया और उनके जन्मदिन से ही संकल्प लेकर रोजाना उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण करने सहित सामाजिक और रचनात्मक कार्य करना शुरू किए। इसमें कोरोना काल में मास्क और सूखा राशन वितरण, दीपावली पर लोकल वोकल का नारा, गणेश चतुर्थी पर 501 मिट्टी की गणेश मूर्तियों का वितरण, दीपावली पर मिट्टी के दीपक लोगों को देना आदि कार्य करते हैं। समिति में 80 फीसदी युवा वर्ग ही शामिल है।
स्वामी विवेकानंद स्टडी सर्कल
एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में 1997 में बनाए गए स्वामी विवेकानंद स्टडी सर्कल की स्थापना मृदा विज्ञान के सेवानिवृत्त प्रो.सुरेश चंद्र शर्मा ने की थी। उन्होंने बताया कि स्वामी जी के संदेशों को लेकर इसकी स्थापना की गई थी। यहां विवेकानंद का साहित्य भी मौजूद है। युवाओं के चरित्रोन्मुखी कार्यक्रम समय-समय पर किए जाते हैं। इसके साथ ही प्रतिवर्ष स्टूडेंट्स को अवॉर्डस भी प्रदान किए जाते हैं।
रामकृष्ण मठ एवं रामकृष्ण मिशन, थाटीपुर
रामकृष्ण मिशन स्कूल के प्राचार्य स्वामी सुप्रदीप्तानंद ने बताया कि आश्रम की स्थापना 1959 में हुई थी। यहां युवाओं के शिक्षा के विजन, चरित्र निर्माण, उन्हें देश सेवा के लिए प्रेरित करना, हेल्थ में रूरल डेवलपमेंट, आध्यात्म, भारतीय संस्कृति आदि बातों को इसमें शामिल किया गया है। स्वामी जी दिखाए रास्ते पर चलने और दूसरों को भी इसके लिए प्रोत्साहित करते हैं। इसके साथ ही समाज सेवा से जुड़े कार्य भी किए जाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.