scriptpandit shivkumar sharma gwalior memories | तानसेन की नगरी में मिला था 'तानसेन अलंकरण', बताया था जीवन का यादगार पल | Patrika News

तानसेन की नगरी में मिला था 'तानसेन अलंकरण', बताया था जीवन का यादगार पल

2004 में तानसेन अलंकरण से सम्मानित हुए थे प्रख्यात संतूर वादक पं.शिव कुमार शर्मा...>

ग्वालियर

Published: May 11, 2022 03:31:26 pm

ग्वालियर। प्रख्यात संतूर वादक पं.शिव कुमार शर्मा को तानसेन की नगरी ग्वालियर से विशेष लगाव था। यूं तो उनका ग्वालियर आगमन कई बार हुआ लेकिन 2004 में तानसेन अलंकरण से सम्मानित किए जाने पर वे काफी खुश थे। इसके बाद 2009 में आइटीएम यूनिवर्सिटी में हुए आइटीएम संगीत सम्मेलन में भी प्रस्तुति देने ग्वालियर आना हुआ। ऐतिहासिक नगरी ग्वालियर से जुड़े उनके संस्मरण शहर के प्रबुद्धजनों ने पत्रिका प्लस से साझा किए।

shiv.png

ओपन थियेटर में प्रस्तुति का अनुभव नया

आइटीएम यूनिवर्सिटी ग्वालियर के प्रो-चांसलर दौलत सिंह चौहान ने बताया कि 2009 में आइटीएम संगीत सम्मेलन में प्रस्तुति देने आए पं.शिव कुमार शर्मा की दो प्रस्तुतियां थीं। दूसरी प्रस्तुति से पहले लोग बैठे हुए थे और मैं उन्हें ग्रीन रूम तक लेकर पहुंचा। तब उन्होंने कहा कि मैंने कई जगहों पर प्रस्तुतियां दी हैं लेकिन ओपन एम्फीथियेटर में प्रस्तुति देने का आज मेरान अनुभव नया ही होगा। इसके साथ ही जब वे संतूर वादन की प्रस्तुति दे रहे थे तो उसमें नवाचार के लिए अपने हाथों की हथेलियों का भी उपयोग कर रहे थे। उसी समय साउंड के रिबब में डिर्स्टबेंस आ रहा था, तब मैंने खुद जाकर साउंड सिस्टम को ठीक किया था।

मेरे गुरु से काफी अच्छे संबंध थे

वरिष्ठ शास्त्रीय गायक पं.उमेश कंपूवाले ने बताया कि पं.शिव कुमार शर्मा काफी सरल इंसान थे। मेरा मानना है कि संतूर को वही आगे लेकर आए हैं। अभी तक यह सिर्फ फिल्म इंडस्ट्री में ही बजता था, उसे स्टेज पर लेकर वही आए थे। पं.शर्मा संतूर के पूरक हो गए थे। मेरे गुरु पंडित राजन-साजन मिश्र से उनके काफी अच्छे संबंध थे। उन्होंने कई बार उनके साथ कार्यक्रम भी किए थे। वो जब भी ग्वालियर आते थे उनसे मुलाकात हुआ करती थी। शास्त्रीय संगीत के बारे में उनसे काफी कुछ सीखने को मिलता था।

gwalior-1.jpg

वाह-वाह का शोर और ताली बजाना नहीं था पसंद

वरिष्ठ सितार वादक श्रीराम उमड़ेकर ने बताया कि वो कई बार यहां आए थे। संतूर को वही शास्त्रीय संगीत में लेकर आए थे। वैसे तो उनका स्वभाव काफी अच्छा था लेकिन कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति के दौरान हमेशा गंभीरता से संतूर बजाते थे। एकाग्रता भंग ना हो इसके लिए वो दर्शकों को वाह-वाह और ताली बजाने से मना कर दिया करते थे। वो हमेशा शांति से सुनने के लिए बोलते थे। एक बार भोपाल के रविंद्र भवन में मेरी बहन की बेटी श्रुति अधिकारी जो उनकी शिष्या है, उसके कार्यक्रम में भी आए थे। कार्यक्रम के बाद उनसे घर पर भी मुलाकात की थी।

शासकीय माधव संगीत महाविद्यालय की प्रभारी प्राचार्य डॉ.वीणा जोशी ने बताया कि वो हमारे महाविद्यालय में प्रस्तुति देने आए थे। इस दौरान पारिवारिक माहौल में यहां पूरे स्टाफ के साथ मिले थे। पं.शर्मा जिंदादिल कलाकार तो थे ही वे खुले मन से आध्यात्म से भी जुड़े थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

Azam Khan और अखिलेश में बढ़ी दूरियां, सपा विधानमंडल दल की बैठक में नहीं गए आजम खान'मातोश्री क्या कोई मस्जिद है?' पुणे रैली में राज ठाकरे ने PM से की यूनिफॉर्म सिविल कोड व जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांगपटना एयरपोर्ट पर बड़ा हादसा, निर्माण कार्य के दौरान गिरा लोहे का स्ट्रक्चर, दो मजदूरों की मौत, एक की टूटी रीढ़ की हड्डीPM मोदी तक पहुंची अल्मोड़ा की 'बाल मिठाई', स्टार शटलर लक्ष्य सेन ने ऐसा पूरा किया अपना वायदाराजस्थान में 50 हजार अपराधियों की बनेगी'कुंडली' थाना स्तर पर बनेगा डोजीयरभारतीय स्टार Veer Mahaan ने WWE दिग्गज को मार-मारकर किया बेसुध, पाकिस्तानी मूल का रेसलर धराशाईविश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हेमकुंड साहिब और लक्ष्मण मंदिर के खुले कपाट, दो साल बाद लौटी रौनकदुनिया की अनोखी घड़ी जिसमे कभी नहीं बजते 12, जानिए इसका रहस्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.