लांग रूट वाले पौधे लगाएं

लांग रूट वाले पौधे लगाएं
लांग रूट वाले पौधे लगाएं

Harish kushwah | Updated: 13 Oct 2019, 12:09:07 AM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

लगातार बढ़ रहे प्रदूषण और कंक्रीट के जंगलों के कारण मिटटी की उर्वर क्षमता में कमी आती जा रही है। इस कारण नई तरह की बीमारियां भी पैदा होने लगी हैं। मिट्टी की उर्वर शक्ति को बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाने की जरूरत है।

ग्वालियर. लगातार बढ़ रहे प्रदूषण और कंक्रीट के जंगलों के कारण मिटटी की उर्वर क्षमता में कमी आती जा रही है। इस कारण नई तरह की बीमारियां भी पैदा होने लगी हैं। मिट्टी की उर्वर शक्ति को बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाने की जरूरत है। साथ ही ई वेस्ट, पॉलीथिन के उपयोग को स्वयं के लेवल पर रोकना होगा। साइंस पर होने वाले शोध प्रकृति से जुड़े होने चाहिए। यह बात डॉ. सुशील मंडेरिया ने सेमिनार के दौरान कही। वह जीवाजी यूनिवर्सिटी के बॉटनी विभाग की ओर 'पॉल्यूशन इकोलॉजी' विषय पर हुए प्रोग्राम में बोल रहे थे। इस दौरान विभाग के स्टूडेंट्स को हेरिटेज गार्डन की फील्ड विजिट कराके पौधों की जानकारी भी दी गई। इस अवसर पर विभाग के प्रो. एमके गुप्ता और सपन पटेल सहित कई स्टूडेंट्स मौजूद रहे।

एचओडी प्रो. एमके गुप्ता ने कहा कि जिन पौधों की जड़ें गहरी होती हैं, उन्हें लगाने पर जोर दें। इससे मिट्टी के होने वाले क्षरण को हम काफी हद तक कंट्रोल कर सकते हैं। यह भी तय कर लें कि हमें इनडोर और आउटडोर में कौन से प्लांट्स लगाने हैं।

इन बातों पर हो फोकस

सरकार के लेवल पर

मार्केट में मिलने वाले आयटम्स को पैक करने के लिए मंहगे पैकिंग मटेरियल का यूज किया जाता है। इन्हें पेड़ों को काटकर तैयार किया जाता है। इन पर रोक लगाने की जरूरत है।

अधिक से अधिक पौधरोपण के लिए गैर सरकारी संस्थाओं की प्रशासन के साथ भागीदारी को सुनिश्चित करें।

संस्था के लेवल पर

ज्यादा ऑक्सीजन देने वाले पौधों की लिस्ट बनाएं और उनकी प्रोफ ाइल जान लें, साथ में यह भी जानें कि उस गुण वाले कौन-कौन से पौधे हैं, उन्हें एक लिस्ट में रखें।

ई वेस्ट, पॉलीथिन के उपयोग को बंद करें, ताकि हम पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचा सकें।

नेचर हीलिंग पर कार्य करें। इससे आपकी बॉडी की कोशिकाएं स्वस्थ रहेंगी और बेहतर तरह से कार्य कर सकेंगी।

स्वयं के लेवल पर

अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करें और उन्हें पौधों का वैज्ञानिक महत्व बताएं।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से भी लोगों में लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरुकता फैलाई जा सकती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned